ताज़ा खबर
 

मोदी सरकार ने करीब तीन गुना बढ़ाई आरबीआई गवर्नर की तनख्वाह, जानें, कितनी सैलरी पाएंगे उर्जित पटेल

सैलरी में तीन गुना इजाफे के बाद भी गवर्नर और डिप्टी गवर्नर की तनख्वाह आरबीआई नियंत्रित कई बैंकों के उच्च अधिकारियों से कम है।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया गवर्नर उर्जित पटेल। (Source: PTI)

नरेंद्र मोदी सरकार ने भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर और डिप्टी गवर्नर की सैलरी में करीब तीन गुना इजाफा किया है।  जहां गवर्नर का मूल वेतन 2.5 लाख किया गया है वहीं डिप्टी गवर्नर का वेतन 2.25 लाख प्रति महीने होगा। गवर्नर और डिप्टी गवर्नर का मूल वेतन को एक जनवरी 2016 से संशोधित किया गया है। अब तक गवर्नर का मूल वेतन 90,000 रुपए और उनके डिप्टी गवर्नर का 80,000 रुपए था।

सूचना के अधिकार कानून (आरटीआई) के तहत पूछे गये सवाल के जवाब में केंद्रीय बैंक ने कहा कि वित्त मंत्रालय की 21 फरवरी की सूचना के अनुसार गवर्नर और डिप्टी गवर्नर के मूल वेतन को संशोधित किया गया है। हालांकि, अभी भी इनकी सैलरी आरबीआई के तहत संचालित कई बैंकों के उच्च अधिकारियों से बहुत कम है।

इस संशोधन के बाद गवर्नर का मूल वेतन 2,50,000 रुपए प्रति महीने जबकि डिप्टी गवर्नर का वेतन 2,25,000 रुपए प्रति महीने होगा। मूल वेतन के अलावा उन्हें महंगाई भत्ता तथा अन्य भत्ते मिलेंगे। यह वृद्धि एक जनवरी 2016 से प्रभावी मानी जाएगी। रिजर्व बैंक के जवाब के अनुसार महंगाई भत्ते की अधिसूचना केंद्र सरकार समय-समय पर करता है जबकि अन्य सभी भत्तों का भुगतान मौजूदा दर पर किया जाता है। हालांकि केंद्रीय बैंक ने गवर्नर और डिप्टी गवर्नर के नये सकल वेतन की जानकारी नहीं दी है।

बता दें, पहले बेसिक सैलरी 90 हजार रुपए के अलावा आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल को 1 लाख 12500 रुपए का डीए मिलता था और दूसरे पे के रूप में 7 हजार रुपए मिलते थे। इस तरह उनकी कुल सैलरी 209500 रुपए थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक अब उनकी कुल सैलरी करीब चार लाख रुपए हो जाएगी।

आरबीआई के नए गवर्नर के रूप में उर्जित पटेल ने सितंबर 2016 में पद संभाला था। इससे पहले रघुराम राजन आरबीआई के गवर्नर थे। नवंबर 2016 में पीएम मोदी द्वारा नोटबंदी के फैसले के बाद उर्जित पटेल पर निशाना भी साधा गया था। कुछ एक ने सवाल उठाए थे कि उर्जित पटेल की फैसलों की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था चरमरा सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App