ताज़ा खबर
 

अच्छी बारिश से दालों के दाम घटे तो नीतिगत दर में हो सकती है 0.25% कटौती

जून में खुदरा मुद्रास्फीति पिछले 22 माह के सर्वोच्च स्तर 5.77 प्रतिशत पर पहुंच गई।

Author नई दिल्ली | July 21, 2016 2:43 PM
पिछले वित्त वर्ष (2015-16) में करीब 55 लाख टन दाल का आयात किया गया था। (पीटीआई फोटो)

अच्छी बारिश से यदि दालों की कीमत घटती है तो रिजर्व बैंक नौ अगस्त को होने वाली मौद्रिक समीक्षा में नीतिगत दर में 0.25 प्रतिशत
कटौती कर सकता है। यह बात बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच (बोफा-एमएल) की रपट में कही गई है। इस बार रबी मौसम में कमजोर फसल की वजह से दालों की मंहगाई दर 27 प्रतिशत तक पहुंच गई है। बोफा-एमएल ने एक अनुसंधान पत्र में कहा, ‘अच्छी बारिश से खरीफ सत्र के दौरान पिछले साल के मुकाबले दलहन बुवाई 39 प्रतिशत अधिक हुई है। इससे दाल की कीमत 20 प्रतिशत घटनी चाहिए और खुदरा मुद्रास्फीति मार्च तक 5.1 प्रतिशत पर आ जानी चाहिए।’

वैश्विक ब्रोकरेज कंपनी के मुताबिक रिजर्व बैंक तीन वजहों -पहली, अच्छे मॉनसून से कृषि मुद्रास्फीति कम हो, दूसरी, जून की मुख्य खुदरा मुद्रास्फीति कम हो और आखिर में, ऊंची ब्याज दर लगातार मई की औद्योगिक वृद्धि के आड़े आए – यदि ये तीन वजह हुई तो रिजर्व बैंक नीतिगत दर में कटौती कर सकता है। रपट में कहा गया है, ‘यदि अच्छी बारिश से दाल की मुद्रास्फीति कम होती है, जैसी कि हमें उम्मीद है तो खुदरा मुद्रास्फीति मार्च 2017 तक रिजर्व बैंक के तय लक्ष्य पांच प्रतिशत के दायरे में बनी रह सकती है।’

बोफा-एमएल ने मार्च की अपनी खुदरा मुद्रास्फीति का अनुमान पहले के 5.7 प्रतिशत से घटाकर 5.1 प्रतिशत कर दिया है। यह रिजर्व बैंक के वर्ष के लिए तय लक्ष्य के अनुरूप है। उसका मानना है कि वर्षा से दाल दलहन के दाम कम होंगे। वर्तमान में वर्षा सामान्य के मुकाबले 102 प्रतिशत पर चल रही है। बहरहाल, विनिर्मित और महंगे खाद्य उत्पादों की वजह से जून माह में थोक मुद्रास्फीति लगातार तीसरे माह बढ़ती हुई 1.62 प्रतिशत पर पहुंच गई। थोक मुद्रास्फीति में मजबूती का रुख खुदरा मुद्रास्फीति के बढ़ने से बना है। जून में खुदरा मुद्रास्फीति पिछले 22 माह के सर्वोच्च स्तर 5.77 प्रतिशत पर पहुंच गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App