रतन टाटा के लिए घाटे का सौदा बनी ये कंपनी, इस साल 25 हजार करोड़ रुपए का निवेश करेगा ग्रुप

Ratan Tata: टाटा ट्रस्ट के मानद चेयरमैन रतन टाटा ने 2008 में लग्जरी वाहन निर्माता कंपनी जगुआर लैंड रोवर को खरीदा था। लेकिन यह कंपनी टाटा मोटर्स पर बोझ सी बन गई है। टाटा मोटर्स को हर साल एक बड़ी राशि जगुआर लैंड रोवर में निवेश करनी पड़ती है।

tata group,ratan tata
स्टार्टअप में निवेश करना टाटा को पसंद है (Photo-Indian Express )

रतन टाटा देश के नामी-गिरामी कारोबारी हैं। वे टाटा संस के चेयरमैन रह चुके हैं। 1990 से 2012 तक वे टाटा ग्रुप के चेयरमैन थे। इस समय में टाटा ग्रुप की टाटा ट्रस्ट के मानद चेयरमैन है। रतन टाटा ने अपने करियर में कई कंपनियों को खरीदा है। लेकिन एक कंपनी को खरीदना उनके लिए घाटे का सौदा साबित हो रहा है।

जीहां, आपने बिलकुल सही पढ़ा है। टाटा ग्रुप ने 2008 में वाहन निर्माता कंपनी जगुआर लैंड रोवर को खरीदा था। यह कंपनी फोर्ड से खरीदी गई थी। अभी तक यह कंपनी टाटा ग्रुप को कोई मुनाफा नहीं दे पाई है। टाटा ग्रुप इस कंपनी के संचालन के लिए हर साल हजारों करोड़ रुपए का निवेश करता है। टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने शुक्रवार को कंपनी की वर्चुअल एजीएम में कहा कि जगुआर लैंड रोवर में चालू वित्त वर्ष में करीब 25 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा। वित्त वर्ष 2021 में भी टाटा ग्रुप ने जगुआर लैंड रोवर में 19,800 करोड़ रुपए का निवश किया था।

इलेक्ट्रिक व्हीकल के लिए अलग से पूंजी जुटाएगी कंपनी: चंद्रशेखरन ने शेयरहोल्डर्स को संबोधित करते हुए कहा कि कंपनी अपने इलेक्ट्रिक व्हीकल कारोबार के लिए अलग से पूंजी जुटाएगी। टाटा मोटर्स मध्यम से लंबी अवधि में इलेक्ट्रिक व्हीकल की बिक्री से मिलने वाले रेवेन्यू को बढ़ाकर 25 फीसदी करने की योजना बना रही है। अभी इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की बिक्री से कंपनी को कुल 2 फीसदी रेवेन्यू मिल रहा है।

टाटा मोटर्स में 3500 करोड़ का निवेश किया जाएगा: शेयरहोल्डर्स के सवालों का जवाब देते हुए चंद्रशेखरन ने टाटा मोटर्स की निवेश खर्च की योजना की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि वित्त वर्ष 2022 में कंपनी कुल 28,900 करोड़ रुपए का निवेश करेगी। जगुआर लैंड रोवर के अलावा टाटा मोटर्स में 3000 से 3500 करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा।

हाइड्रोजन व्हीकल के लिए ऑर्डर मिला: चंद्रशेखरन ने कहा कि कंपनी हाइड्रोजन फ्यूल सेल व्हीकल में निवेश कर रही है। वास्तव में हमें इंडियन ऑयल से 15 हाइड्रोजन फ्यूल सेल व्हीकल के लिए पहला ऑर्डर मिल गया है। अभी हाइड्रोजन फ्यूल सेल के क्षेत्र में काफी काम करने की जरूरत है। उन्होंने आगे कहा कि अभी हमने ऐसे 7 व्हीकल बनाए हैं और 15 व्हीकल का ऑर्डर मिला है। यह सभी वाहन ट्रायल स्टेज में हैं। अभी हमें लंबी अवधि की योजना पर काम करने की जरूरत है।

2025 से पहले 10 इलेक्ट्रिक व्हीकल लॉन्च करने की योजना: कंपनी की भविष्य की योजना की जानकारी देते हुए चंद्रशेखरन ने कहा कि हम 2025 से पहले कम से कम 10 इलेक्ट्रिक व्हीकल लॉन्च करेंगे। इसके लिए हमने आक्रामक ग्रोथ प्लान बनाया है। इसमें सही समय पर इलेक्ट्रिक व्हीकल कारोबार के लिए पूंजी जुटाना भी शामिल है।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट