रतन टाटा ने इस स्टार्टअप में किया था निवेश, अब कंपनी को मिल गई ये सफलता

रतन टाटा के सपोर्ट वाले Moglix को एक बड़ी सफलता मिली है। इस साल नई फंडिंग जुटाकर मोग्लिक्स भारत का 13वां यूनिकॉर्न (अनलिस्टेड कंपनी जिसकी वैल्युएशन एक अरब से ज्यादा हो) बन गया है।

ratan tata, tata investment, startup
स्टार्टअप में निवेश करते हैं रतन टाटा (Photo-Indian Express )

देश के जाने-माने उद्योगपति रतन टाटा युवाओं को प्रोत्साहित करने के लिए हमेशा उनके स्टार्टअप पर निवेश करते रहते हैं। अब तक रतन टाटा ने कई कंपनियों में निवेश कर उसकी तस्वीर बदल दी है।

ऐसी ही एक स्टार्टअप वेंचर Moglix है। कुछ साल पहले इस कंपनी में रतन टाटा ने निवेश किया था। अब Moglix को एक बड़ी सफलता मिली है। इस साल नई फंडिंग जुटाकर Moglix भारत का 13वां यूनिकॉर्न बन गया है। यूनिकॉर्न उसे कहते हैं जो अनलिस्टेड कंपनी होती है और इसकी वैल्युएशन एक अरब से ज्यादा पहुंच जाती है।

120 मिलियन डॉलर का फंड जुटाया: दरअसल, बिजनेस टू बिजनेस मार्केटप्लेस Moglix ने नए फंडिंग राउंड में 120 मिलियन डॉलर का फंड जुटाया है। कंपनी के संस्थापक राहुल गर्ग के मुताबिक उन्होंने इस कंपनी की शुरुआत 2015 में की थी। इसके बाद साल 2016 में रतन टाटा ने Moglix  में निवेश किया। इसी के बाद कंपनी में निवेशकों का रुझान बढ़ा।

इस कंपनी से फिलहाल पांच लाख लघु, सूक्ष्म व मध्यम श्रेणी (एसएमई) की कंपनियां और करीब 3000 उत्पादन संयंत्र जुड़े हैं, जो भारत के अलावा संयुक्त अरब अमीरात और सिंगापुर में हैं।

बीते तीन महीने में दो बड़ी कंपनियों में निवेश: रतन टाटा छोटी-छोटी कंपनियों या स्टार्टअप्स में भी निवेश के लिए जाने जाते हैं। बीते तीन महीने में रतन टाटा ने दो कंपनियों के भीतर निवेश किया है। ये दो स्टार्टअप कंपनियां प्रीतिश नंदी कम्युनिकेशंस और मेलरूम लॉजिस्टिक मैनेजमेंट कंपनी मेलिट हैं। प्रीतिश नंदी कम्युनिकेशंस एंटरटेनमेंट इंडस्ट्रीज में सक्रिय है। वहीं, लॉजिस्टिक मैनेजमेंट कंपनी मेलिट है। (ये पढ़ें-जब जेपी ग्रुप से अचानक टूट गई अनिल अंबानी के कंपनी की डील, बताई थी ये वजह)

कर्मचारियों के लिए टीसीएस का अहम ऐलान: इस बीच, रतन टाटा के अगुवाई की टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) ने एक अहम ऐलान किया है। कंपनी देशभर में 100 से ज्यादा कोविड टीकाकरण केंद्र स्थापित करेगी। साथ ही कंपनी अपने कर्मचारियों और उनके परिवारों को टीका लगाने के लिए अस्पतालों और स्वास्थ्य सुविधा प्रदाताओं के साथ समझौता भी करेगी। टीसीएस के भारत समेत अन्य देशों में 4.88 लाख से अधिक कर्मचारी हैं। (ये पढ़ें—दौलत में मुकेश अंबानी से आगे निकलने की कोशिश में गौतम अडानी)

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट
X