ताज़ा खबर
 

Tata ग्रुप करने जा रहा 9500 करोड़ रुपये की डील, मुकेश अंबानी की बढ़ेगी टेंशन!

टाटा समूह ऑनलाइन किराना सामान बेचने वाली बिग बास्केट में 68 प्रतिशत हिस्सेदारी करीब 9,500 करोड़ रुपये में खरीद रहा है। समूह भारत में तेजी से बढ़ते ई-कारोबार कैटेगरी में विस्तार के प्रयास के तहत यह अधिग्रहण कर रहा है।

tata, mukesh ambani, relianceमुकेश अंबानी के रिलायंस रिटेल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं (Photo-indian express )

टाटा समूह ने एक ऐसा ऐलान किया है, जिससे आने वाले दिनों में मुकेश अंबानी के रिलायंस रिटेल और अमेजन की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

दरअसल, टाटा समूह ऑनलाइन किराना सामान बेचने वाली बिग बास्केट में 68 प्रतिशत हिस्सेदारी करीब 9,500 करोड़ रुपये में खरीद रहा है। समूह भारत में तेजी से बढ़ते ई-कारोबार कैटेगरी में विस्तार के प्रयास के तहत यह अधिग्रहण कर रहा है। मामले से जुड़े सूत्रों ने बताया कि नमक से लेकर सॉफ्टवेयर बनाने वाला टाटा समूह बेंगलुरू के इस स्टार्टअप में बहुलांश हिस्सेदारी खरीदने पर महीनों से काम कर रहा था। समूह ने सौदे को लेकर समझौता किया है।

सौदे के तहत चीनी उद्योगपति जैक मा के नियंत्रण वाली अलीबाबा समेत बिग बास्केट के निवेशकों को बाहर निकलने का रास्ता उपलब्ध कराया गया है। इस बारे में संपर्क किये जाने पर टाटा समूह, बिग बास्केट और अलीबाबा ने कुछ भी कहने से मना कर दिया। ऐसा समझा जाता है कि टाटा समूह ने अधिग्रहण के तहत उपक्रम का मूल्य 13,500 करोड़ रुपये आंका है।

रिलायंस रिटेल का भी हो रहा विस्तार: ये खबर ऐसे समय में आई है जब भारतीय बाजार में रिलायंस रिटेल अपने कारोबार को बढ़ा रही है। इसी के तहत फ्यूचर ग्रुप-रिलायंस इंडस्ट्रीज के बीच 24 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की डील भी हुई है।

इस डील के तहत फ्यूचर समूह के खुदरा और थोक व्यवसाय का अधिग्रहण रिलायंस रिटेल करेगी। हालांकि, इस पर अमेरिका की ई कॉमर्स कंपनी अमेजन ने आपत्ति जताई है। अमेजन ने आरोप लगाया कि रिलायंस के साथ कारोबार बेचने का करार कर फ्यूचर में उसके साथ अनुबंध की अवहेलना की है।

गौरतलब है कि अगस्त 20019 में अमेजन फ्यूचर समूह की गैर सूचीबद्ध कंपनी फ्यूचर कूपंस लिमिटेड की 49% हिस्सेदारी खरीदने का एक करार किया था। फ्यूचर कूपंस के पास फ्यूचर समूह की बीएसई में सूचीबद्ध कंपनी फ्यूचर रिटेल की 7.3% हिस्सेदारी है। अमेजन ने फ्यूचर के साथ यह भी करार किया था कि वह 3 से लेकर 10 साल के बीच सूचना डिटेल्स को भी खरीद सकती है।

Next Stories
1 BPCL हो या एयर इंडिया, सरकारी कंपनियों में हिस्सेदारी खरीदने वाले को देनी होगी पूरी डिटेल
2 रामदेव की कंपनी के निवेशकों की बढ़ी टेंशन, सिर्फ दो दिन में 1 हजार करोड़ से ज्यादा का हो गया नुकसान
3 32 साल की उम्र, फिर भी मुकेश अंबानी के समधी को ‘बच्चा’ समझते थे लोग, ऐसे टूटा भ्रम
ये पढ़ा क्या?
X