ताज़ा खबर
 

राजस्थान की 37,000 करोड़ रुपए की रिफाइनरी पर फैसला जल्द: एचपीसीएल

संप्रग सरकार ने 37,320 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से एचपीसीएल द्वारा राजस्थान के बाड़मेर में रिफाइनरी स्थापित करने की घोषणा की थी। परियोजना शुरू से आलोचनाओं में घिरी रही।

Author मुंबई | September 9, 2016 7:07 PM
हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन की राजस्थान रिफाइनरी।

हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन की राजनीतिक विवादों में उलझी लंबे समय से अटकी करीब 37,000 करोड़ रुपए की राजस्थान रिफाइनरी योजना पर अगले कुछ महीनों में फैसला हो सकता है। एचपीसीएल के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक मुकेश कुमार सुराना ने कंपनी की सालाना आम बैठक के मौके पर गुरुवार (8 सितंबर) रात संवाददाताओं से कहा, ‘इस परियोजना की व्यवहार्यता पर विचार करने के लिए एक समिति का गठन किया गया है। हमारे रिफाइनरी निदेशक बी के नामदेव भी समिति के सदस्य है जो दो से तीन महीनों में अपनी रपट सौंपेंगे।’ संप्रग सरकार ने 37,320 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से एचपीसीएल द्वारा राजस्थान के बाड़मेर में रिफाइनरी स्थापित करने की घोषणा की थी। परियोजना शुरू से आलोचनाओं में घिरी रही।

इधर, एचपीसीएल की सिर्फ दो रिफाइनरी – मुंबई और विशाखापत्तनम- हैं और इस परियोजना से कंपनी को अच्छा प्रोत्साहन मिलता क्योंकि उसकी दूसरी विस्तार परियोजनाएं पर्यावरण संबंधी मुद्दों के कारण अटकी पड़ी हैं। इस प्रस्तावित रिफाइनरी के लिए कंपनी और राजस्थान की तत्कालीन अशोक गहलोत सरकार के बीच हुए एमओयू के मुताबिक रिफाइनरी में राजस्थान में उपलब्ध कच्चे तेल के साथ ही अन्य स्रोतों से प्राप्त कच्चे तेल का इस्तेमाल होना था और इससे वाहन ईंधन का उत्पादन किया जाना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App