ताज़ा खबर
 

रेलवे के बेड़े में जुड़ेंगी 40,000 यात्री डिब्बे, पारंपरिक कोचों के स्थान पर लगाएगा LHB कोच

भारतीय रेल यात्रियों की सुविधा के लिये आने वाले समय में नई साज सज्जा और उन्नत सुविधा वाले करीब 40,000 डिब्बे अपने बेड़े में जोड़ेगी।

Author June 12, 2017 2:27 PM
भारतीय रेल यात्रियों की सुविधा के लिये आने वाले समय में नई साज सज्जा और उन्नत सुविधा वाले करीब 40,000 डिब्बे अपने बेड़े में जोड़ेगी।

भारतीय रेल यात्रियों की सुविधा के लिये आने वाले समय में नई साज सज्जा और उन्नत सुविधा वाले करीब 40,000 डिब्बे अपने बेड़े में जोड़ेगी। इस काम पर 8,000 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है।  साथ ही रेलवे के मौजूदा कोचों में सुरक्षा उपायों को और मजबूत किया जाएगा। इनमें मजबूत कपलर लगाये जायेंगे ताकि दुर्घटना के समय बोगियों के पलटने का खतरा कम हो।  योजना के मुताबिक इन डिब्बों की साज सज्जा और इनमें बैठने की व्यवस्था को बेहतर बनाया जायेगा और शौचालय में भी आधुनिक तरीके के होंगे। इस काम पर प्रति कोच 30 लाख रुपये तक का खर्च आयेगा। अगले पांच साल में यह काम पूरा हो जाएगा।

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अिधकारी के मुताबिक 2023 तक रेलवे में 40,000 नई सुविधाओं वाले डिब्बों को शामिल कर दिया जायेगा। चालू वित्त वर्ष के दौरान ऐसे 1,000 डिब्बे जोड़े जायेंगे। अगले वित्त वर्ष में यह संख्या बढ़कर 3,000 तक पहुंच जायेगी और उसके बाद अगले वित्त वर्ष में यह संख्या 5,500 तक पहुंच जायेगी। अधिकारी ने बताया कि 2018-19 से लेकर 2022-23 के दौरान रेलवे सालाना आधुनिक सुविधाओं वाले 15,000 नये डिब्बों का विनिर्माण करने लगेगी। रेलवे इसके साथ ही सभी परंपरागत डिब्बों को सेंटर बफलर कपलर की सुरक्षा सुविधा से लैस करने का भी विचार कर रही है।

HOT DEALS
  • Jivi Energy E12 8 GB (White)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹0 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 15220 MRP ₹ 17999 -15%
    ₹2000 Cashback

इसी के साथ रेलवे जल्द ही पुरी – अहमदाबाद एक्सप्रेस के पारंपरिक कोचों के स्थान पर लिंक हाफमैन बुश र्एलएचबीी कोचों को लगाएगा जिससे कि यात्रियों की सुरक्षा को मजबूत बनाया जा सके । एलएचबी कोच एंटी टेलीस्कोपिक तकनीक से लैस हैं जो कि किसी हादसे के समय कोचों के एक दूसरे पर चढ़ने या पटरी से उतरने से रोकती है।पूर्वी तटीय रेलवे र् ईकोआरी के सूत्रों ने आज यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि इन कोचों को अधिक यात्रियों को ले जाने की क्षमता विकसित करने के हिसाब से बनाया गया है और इनकी गति भी 160 किलोमीटर प्रति घंटा है।इस समय राजधानी एक्सप्रेस, पुरूषोत्तम एक्सप्रेस , दुरंतो एक्सप्रेस और शताब्दी एक्सप्रेस जैसी यात्री गाड़ियां में एलएचबी कोच लगाए गए हैं ।

सूत्रों ने साथ ही बताया कि 14 जून से 18405 पुरी -अहमदाबाद एक्सप्रेस और 16 जून से अहमदाबाद -पुरी एक्सप्रेस को इन एलएचबी कोचों के साथ चलाने का फैसला किया गया है । इसी प्रकार, एलएचबी कोच युक्त 12888 पुरी – हावड़ा एक्सप्रेस और 12887 हावड़ा – पुरी एक्सप्रेस ट्रेन को क्रमश: 18 और 19 जून से चलाया जाएगा। सूत्रों ने बताया कि सभी पारंपरिक कोचों को चरणबद्ध तरीके से एलएचबी कोचों में बदला जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App