ताज़ा खबर
 

Indian Railways के 12 लाख से ज्‍यादा कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, प्रमोशन के नियम बदले

Railways Group C and D Employees: परीक्षा में सम्मिलित होने वाले कर्मचारियों को कम्प्यूटर बेस्ड टेस्ट देना होगा। रेलवे में अभी तक जोन और डिवीजन लेवल पर होने वाली प्रमोशन की परीक्षा के लिए प्रश्न उत्तर पूछे जाते थे।

परीक्षा उपरांत होने वाली प्रक्रिया में भी बदलाव किया गया है। (फोटो सोर्स : PTI)

Railways Group C and D Employees: रेलवे में काम कर रहे 12 लाख से ज्यादा कर्मचारियों के लिए खुशखबरी है। रेलवे की पदोन्नति परीक्षा को पहले से आसान ओर ट्रांसपरैंट बनाने के लिए अब सारे प्रश्न ऑब्जेक्टिव होंगे। रेलवे की तरफ से यह कदम प्रमोशन में चलने वाली मनमानी को खत्म करने के लिए उठाया गया है। साथ ही एक्जाम में आने वाले क्योश्चन बैंक और क्योश्चन पेपर को चेक करने की चली आ रही पुरानी प्रक्रिया में भी बदलाव किया गया है। यह परीक्षा रेलवे के ग्रुप सी और डी कर्मचारियों के लिए आयोजित की जाती है।

रेलवे में लम्बे अरसे से चली आ रही पदोन्नित में मनमानी और धांधली रोकने के लिए ही रेलवे बोर्ड ने 14 दिसंबर को निर्देश जारी किए गए। बोर्ड ने सभी जोन के महाप्रबंधकों को प्रमोशन के लिए होने वाले एक्जाम को 100 परसेंट वस्तुनिष्ठ करने के समबंध में निर्देश जारी किए हैं। इसके साथ ही परीक्षा में सम्मिलित होने वाले कर्मचारियों को कम्प्यूटर बेस्ड टेस्ट देना होगा। परीक्षा में पूछे गए सवाल के लिए चार ऑप्शन दिए जाएंगे। रेलवे में अभी तक जोन और डिवीजन लेवल पर होने वाली प्रमोशन की परीक्षा के लिए प्रश्न उत्तर पूछे जाते थे।

रेलवे ने जारी किए निर्देश में यह भी कहा है कि अगर किसी कारण कम्प्यूटर पर टेस्ट नहीं हो पाता है तो दूसरे विकल्प को अपनाया जाएगा। रेलवे ने दूसरे विकल्प को तौर पर ओएमआर आधारित परीक्षा को रखा है। वहीं परीक्षा उपरांत होने वाली प्रक्रिया में भी बदलाव किया गया है। परीक्षा में पूछे जाने वाले क्योश्चन पेपर के कई सेट बनाए जाएंगे। अंतिम समय में किसी एक सेट को फाइनल किया जाएगा। वहीं परीक्षा के बाद कॉपी जांचने का काम किसी दूसरी एजेंसी से कराया जाएगा। बता दें कि, रेलवे में लंबे समय से पदोन्नति लटकी हुई है। इनमें बड़ी संख्या में ग्रुप सी के कर्मचारी हैं, जो प्रमोशन पाकर ग्रुप बी के नॉन गैजेटेड ऑफीसर बन जाएंगे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App