ताज़ा खबर
 

रघुराम राजन बोले, कोरोना से भारतीय अर्थव्यवस्था को उबरने में लगेगा लंबा वक्त, ग्रोथ के उपाय भी बताए

रघुराम राजन ने कहा कि भारत अमेरिका की तरह अपनी सभी कंपनियों को बेलआउट नहीं दे सकता। राजन ने कहा कि दुनिया और भारत में बाजारों की जो स्थिति है, उस पर अब भी कोरोना का असर देखने को मिल रहा है और उसकी दहशत कम नहीं हुई है।

raghuram rajanभारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन

भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भारतीय अर्थव्यवस्था पर कोरोना संकट के असर को लेकर कहा है कि इससे उबरने में अभी लंबा वक्त लगेगा। राजन ने एक टीवी चैनल से बातचीत में कहा कि फिलहाल अर्थव्यवस्था में सुधार की स्थिति देखने को मिल रही है, लेकिन अब भी काफी कुछ किए जाने की जरूरत है। अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से रिकवरी में आने में अभी लंबा समय लगेगा। उन्होंने कहा कि कोरोना में रोकथाम, वैक्सीन का ईजाद करने, टेस्टिंग का दायरा बढ़ाने या फिर मेडिकल पॉलिसी को दुरुस्त करने से ही भारत की अर्थव्यवस्था में सुधार देखने को मिल सकता है।

उन्होंने कहा कि भारत अमेरिका की तरह अपनी सभी कंपनियों को बेलआउट नहीं दे सकता। राजन ने कहा कि दुनिया और भारत में बाजारों की जो स्थिति है, उस पर अब भी कोरोना का असर देखने को मिल रहा है और उसकी दहशत कम नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर भारत में कोरोना के चलते भय की स्थिति पैदा हो गई है। उसका इकनॉमी पर भी असर देखने को मिल रहा है। पूर्व गवर्नर ने कहा कि हम वायरस को रोकने में कामयाब नहीं हो सके हैं और यह लगातार पैर पसार रहा है। उन्होंने कहा कि यदि इसकी यही रफ्तार रही तो एक बिंदु पर अर्थव्यवस्था पर भी इसका असर देखने को मिलेगा।

उन्होंने अर्थव्यवस्था में सुधार के दावों को खारिज करते हुए कहा कि वी-शेप रिकवरी देखने को मिल रही है, लेकिन यह काफी कम है। सुधार की स्थिति इसलिए है क्योंकि हम बहुत ही नीचे चले गए थे और मार्केट खुला तो हमें लगता है कि सुधार हुआ है। लेकिन यह सिर्फ ओपनिंग है। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था के पूरी तरह से उबरने में अभी वक्त लगेगा और यह बहुत जरूरी है।

राजन ने कोरोना से निपटने के यूरोप और पूर्वी एशिया के उपायों की सराहना करते हुए कहा कि इन देशों ने कोरोना पर लगाम कसी है और अर्थव्यवस्था भी वापसी की ओर है। उन्होंने कहा कि कोरोना की दवा की खोज को लेकर अच्छी खबर है। इसकी अलावा टेस्टिंग के मेथड को लेकर भी हमने काम किया है, लेकिन हमें मार्केट को उबारना होगा, जो इस समय घबराहट के माहौल में है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पीएम गरीब कल्याण योजना का हुआ विस्तार, उज्ज्वला स्कीम के तहत सितंबर तक मिलेंगे मुफ्त सिलेंडर, 72 लाख कर्मचारियों का पीएफ भी जमा करेगी सरकार
2 प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत जीवन बीमा से लेकर दुर्घटना बीमा तक मिलते हैं ये फायदे, जानें- कैसे मिलेगा लाभ
3 कोरोना संकट से आईटी सेक्टर में मचेगा कोहराम, आने वाले समय में लाखों लोगों की हो सकती है छंटनी
ये पढ़ा क्या?
X