ताज़ा खबर
 

प्रोविडेंट फंड पर 8.5 पर्सेंट की ब्याज मिलना भी मुश्किल, देश के 6 करोड़ कर्मचारी होंगे प्रभावित, शेयर बाजार के डूबने से ईपीएफओ को झटका

Provident Fund Interest Rate: ईपीएफओ का एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स में 95,500 करोड़ रुपये का निवेश है। ईपीएफओ मार्केट से अपने इस निवेश को रिडीम नहीं करा पाया है।

notesपीएफ पर 8.5 फीसदी का ब्याज मिलना भी मुश्किल

Provident Fund Interest Rate: कर्मचारियों को अपने पीएफ अकाउंट में जमा राशि पर वित्त वर्ष 2019-20 में 8.5 फीसदी का ब्याज मिलना भी मुश्किल लग रहा है। इसी महीने 6 तारीख को ही ईपीएफओ ने अपनी मीटिंग में पीएफ पर ब्याज दर को 8.65 पर्सेंट की बजाय 8.5 पर्सेंट करने का फैसला लिया था। हालांकि अब इतना ब्याज मिल पाना भी मुश्किल लग रहा है। शेयर मार्केट में तेज गिरावट के चलते यह स्थिति पैदा हो सकती है। देश भर में ईपीएफओ से कुल 6 करोड़ कर्मचारी जुड़े हुए हैं।

दरअसल ईपीएफओ का एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स में 95,500 करोड़ रुपये का निवेश है। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक ईपीएफओ मार्केट से अपने इस निवेश को रिडीम नहीं करा पाया है। बता दें कि 11 मार्च को विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से कोरोना वायरस को महामारी घोषित किए जाने के बाद से शेयर मार्केट में तेज गिरावट है। बीते दो सालों में यह पहला मौका है, जब शेयर बाजार 30,000 के स्तर से भी नीचे जा चुका है।

सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज की मीटिंग में ईपीएफओ के अधिकारियों ने 6 मार्च को कहा था कि सरकारी सिक्योरिटीज और बॉन्ड्स के जरिए 8.15 पर्सेंट का ब्याज देना काफी होगा और बाकी 0.35 पर्सेंट ब्याज एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स के जरिए अदा किया जाएगा। ऐसे में अब शेयर मार्केट के डूबने के चलते इस 0.35 फीसदी ब्याज की अदायगी को लेकर मुश्किल खड़ी हो सकती है। एक सूत्र ने बताया कि 0.35 फीसदी ब्याज मार्केट के जरिए चुकाया जाना था, जो अब गिरावट के दौर में है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन की स्थिति पैदा हो गई है और इससे कारोबार चौतरफा प्रभावित हो रहा है। शेयर मार्केट में एक तरफ गिरावट का दौर जारी है तो रुपया अब तक के अपने सबसे निचले स्तर पर पहुंचते हुए डॉलर के मुकाबले 75 रुपये के स्तर पर कारोबार कर रहा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना वायरस के संकट में नौकरियां बचाने में जुटी सरकार, कंपनियों से कर्मचारियों को नौकरी से न हटाने की अपील
2 कोरोना वायरस के चलते पर्यटन उद्योग में 3.8 करोड़ लोगों की नौकरियां छिनने का खतरा, पीएम नरेंद्र मोदी से दखल की मांग
3 फिच ने घटाया भारत की ग्रोथ का अनुमान, 5.1 पर्सेंट की विकास दर रहने की भविष्यवाणी, मूडीज ने भी की थी कटौती