ताज़ा खबर
 

कंपनियों को होगी प्राइवेट ट्रेनों का किराया खुद तय करने की आजादी, सरकार का नहीं होगा कोई दखल

केंद्र सरकार ने निजी ट्रेनों के संचालन के लिए आवेदन मांगे हैं। प्राइवेट ट्रेनों को चलाने के लिए जीएमआर इन्फ्रास्ट्रक्चर, अडानी इंटरप्राइजेज, बॉम्बार्डियर, एल्सटम समेत कई दिग्गज कंपनियों ने रुचि जताई है।

private trains Aनिजी ट्रेनों के संचालन के लिए 23 कंपनियों ने दिखाई दिलचस्पी

निजी ट्रेनों का संचालन करने वाली कंपनियां अपने स्तर पर ही रेल किराया तय करेंगी। इसमें सरकार की ओर से कोई दखल नहीं दिया जाएगा। निजी ट्रेनों के संचालन के लिए प्राइवेट कंपनियों को आकर्षित करने के मकसद से सरकार ने यह फैसला लिया है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने इस बारे में बताते हुए कहा है कि निजी कंपनियों को स्वतंत्रता दी जाएगी कि वे अपने तरीके से ट्रेनों का किराया तय कर सकें। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक यादव ने कहा कि इन रूटों पर एसी बसों और विमानों का पहले ही संचालन हो रहा है, ऐसे में उन्हें किराये की दरें तय करने से पहले इस बात का भी ध्यान रखना होगा। ऑस्ट्रेलिया की कुल आबादी के बराबर लोग भारत में हर दिन ट्रेन यात्रा करते रहे हैं। यहां ट्रेनों का किराया हमेशा से एक संवेदनशील मुद्दा रहा है।

ऐसे में आने वाले दिनों में सरकार के इस फैसले का विरोध भी देखने को मिल सकता है। खासतौर पर गरीब तबके की बड़ी आबादी आवाजाही के लिए ट्रेनों पर निर्भर रही है। ऐसे में रेलवे का निजीकरण और किराया तय करने की स्वतंत्रता कंपनियों को मिलने से यह वर्ग प्रभावित हो सकता है। बता दें कि केंद्र सरकार ने निजी ट्रेनों के संचालन के लिए आवेदन मांगे हैं। प्राइवेट ट्रेनों को चलाने के लिए जीएमआर इन्फ्रास्ट्रक्चर, अडानी इंटरप्राइजेज, बॉम्बार्डियर, एल्सटम समेत कई दिग्गज कंपनियों ने रुचि जताई है। रेल मंत्रालय के अनुमान के मुताबिक अगले 5 सालों में रेलवे में 7.5 अरब डॉलर का निवेश हो सकता है।

एक अधिकारी ने बताया कि अधिकतम किराए की सीमा तय नहीं होने के कारण और लागत को देखते हुए किराया मौजूदा ट्रेन सेवाओं की तुलना में ज्यादा होने की उम्मीद है। निजी ऑपरेटर्स अपनी वेबसाइट के द्वारा भी टिकट बेच सकेंगे लेकिन उनकी वेबसाइट को पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्टम से जुड़ा होना जरुरी होगा।

109 रूटों पर चलेंगी 151 निजी ट्रेनें: सरकार ने जुलाई में 109 रूटों पर 151 निजी ट्रेनों के संचालन के लिए आवेदन मंगाए थे। इसके अलावा दिल्ली और मुंबई रेलवे स्टेशनों के आधुनिकीकरण का भी ठेका दिया जाएगा। बता दें कि नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के पुनर्निर्माण के ठेके की रेस में भी अडानी ग्रुप की कंपनी शामिल हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पीएम किसान योजना में अब यूपी में बड़ा घोटाला, प्राइमरी के बच्चों के बैंक खातों में भी ट्रांसफर कर दी थी रकम
2 पतंजलि आयुर्वेद ग्रुप की कंपनियों में डायरेक्टर हैं बाबा रामदेव की बहन ऋतंभरा और उनके पति, जानें- करते हैं क्या काम
3 संजय गांधी थे मारुति के पहले एमडी, मौत के बाद पूरा हुआ था कार बनाने का सपना, लॉन्चिंग में गई थीं इंदिरा गांधी
IPL 2020
X