ताज़ा खबर
 

कोच्चि में बोले प्रणब मुखर्जी, कहा- 7.5 प्रतिशत से अधिक रहेगी देश की आर्थिक वृद्धि दर

‘इंडिया एट 70’ विषय पर मुखर्जी ने कहा कि 15 साल में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 7 प्रतिशत से अधिक रही है और इसके साथ दुनिया की तेजी से वृद्धि करने वाली बड़ी अर्थव्यवस्था बन गयी।

Author कोच्चि | March 3, 2017 11:34 AM
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने आज कहा कि देश की अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष में 7.5 प्रतिशत से अधिक रहने का अनुमान है।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने गुरुवार को कहा कि देश की अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष में 7.5 प्रतिशत से अधिक रहने का अनुमान है। राष्ट्रपति ने कहा कि स्वतंत्रता से 50 साल पहले देश की आर्थिक वृद्धि दर 0 से 1 प्रतिशत थी। के एस राजामोनी स्मृति व्याख्यानमाला में उन्होंने कहा कि 1950 के दशक में वृद्धि दर बढ़कर 1 से 2 प्रतिशत और जबकि 60 के दशक में 3-4 प्रतिशत पर पहुंच गयी। 1990 के दशक में आर्थिक सुधारों के साथ यह बढ़कर 6 से 7 प्रतिशत हो गयी।

‘इंडिया एट 70’ विषय पर मुखर्जी ने कहा कि 15 साल में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 7 प्रतिशत से अधिक रही है और इसके साथ दुनिया की तेजी से वृद्धि करने वाली बड़ी अर्थव्यवस्था बन गयी। उन्होंने कहा, ‘‘चालू वर्ष की तीसरी तिमाही के संकेत के तहत वृद्धि दर 7.5 प्रतिशत से अधिक रहेगी। राष्ट्रपति ने कहा कि किसानों के कठिन मेहनत और कर्मचारियों के कारण इस प्रकार का प्रदर्शन हासिल किया जा सका।

इस दौरान राष्ट्रपति मुखर्जी ने महिलाओं पर हमले, असहिष्णुता और समाज में गलत चलनों को लेकर भी आगाह किया। उन्होंने कहा कि देश में ‘असहिष्णु भारतीय’ के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए क्योंकि यह राष्ट्र प्राचीन काल से ही स्वतंत्र विचार, अभिव्यक्ति और भाषण का गढ़ रहा है। मुखर्जी ने कहा कि अभिव्यक्ति और बोलने की स्वतंत्रता का अधिकार हमारे संविधान द्वारा प्रदत्त सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण मौलिक अधिकारों में से एक है। वैध आलोचना और असहमति के लिए हमेशा स्थान होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारी महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा राष्ट्रीय स्तर पर प्राथमिकता में होनी चाहिए। किसी भी समाज की कसौटी महिलाओं और बच्चों के प्रति उसका रुख होती है।

उन्होंने कहा कि भारत को इस कसौटी पर नाकाम नहीं रहना चाहिए। मुखर्जी ने कहा कि वह ऐसी किसी समाज या राज्य को सभ्य नहीं मानते, अगर उसके नागरिकों का आचरण महिलाओं के प्रति असभ्य हो। उन्होंने कहा, जब हम किसी महिला के साथ बर्बर आचरण करते हैं तो अपनी सभ्यता की आत्मा को घायल करते हैं। न सिर्फ हमारा संविधान महिलाओं को समान अधिकार प्रदान करता है बल्कि हमारी संस्कृति और परंपरा में भी नारियों को देवी माना जाता है। उन्होंने कहा कि देश को इस तथ्य के प्रति सजग रहना चाहिए कि लोकतंत्र के लिए लगातार पोषण की जरूरत होती है। मुखर्जी ने कहा कि जो लोग हिंसा फैलाते हैं, उन्हें याद रखना चाहिए कि बुद्ध, अशोक और अकबर इतिहास में नायकों के रूप में याद किए जाते हैं न कि हिटलर और चंगेज खान।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी बोले- "असहिष्णु भारतीयों के लिए देश में कोई स्थान नहीं, वह राज्य असभ्य जहां महिलाओं का सम्मान नहीं"

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा- “GST और नोटबंदी देश की अर्थव्यवस्था को करेंगे मज़बूत”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App