ताज़ा खबर
 

नौकरी छूटने और गंभीर बीमारी जैसी आपातकालीन परिस्थितियां से निपटने के लिए आप ऐसे रहें तैयार

बीमा की रकम से संबंधित फैसला करते समय इस बात पर विचार करें कि आपके परिवार को आपकी आमदनी की जगह पर कितनी रकम की जरूरत पड़ेगी।

life-insurance-featureआप जितनी जल्दी एक पॉलिसी खरीदेंगे, प्रीमियम उतना कम होगा। एक हेल्थ प्लान लेने के अलावा, आपातकालीन इलाज का खर्च उठाने के लिए एक इमरजेंसी फंड तैयार करने पर भी विचार करें

आदिल शेट्टी, सीईओ, बैंक बाजार

इमरजेंसी फंड होना बहुत जरूरी होता है। यह फंड नौकरी छूटने या किसी गंभीर बीमारी या आपात स्थिति में काम आता है। आपातकालीन स्थिति में आपके द्वारा बनाई गई योजना भी बेकार जा सकती है। यह फंड घर खरीदने या बच्चों की पढ़ाई जैसे बड़े फाइनैंशल टारगेट्स को पूरा करने का काम करता है। इस फंड को तैयार करने के लिए आपको अपनी जिंदगी में आ सकने वाली आपातकालीन परिस्थितियों और उसका सामना करने के लिए तैयार रहने के तरीके के बारे में पता होना चाहिए। आइये कुछ ऐसी ही आपातकालीन परिस्थितियों पर नजर डालते हैं जिनका सामना करने के लिए व्यक्ति को हमेशा तैयार रहना चाहिए।

नौकरी छूटना
नौकरी चाहे जैसी भी हो, किसी भी समय छूट सकती है। कंपनी की नीतियों में परिवर्तन होने, ग्राहक छूटने, बाजार में मंदी आने या मानव संसाधनों के स्थान पर मशीन इत्यादि का इस्तेमाल करने जैसे कारणों से ऐसा हो सकता है। ऐसी परिस्थिति आने पर, आपको तुरंत आय का दूसरा सोर्स ढूंढना पड़ेगा। लेकिन, दूसरी नौकरी या काम मिलने में समय लग सकता है जबकि आप अपना बिल और किराया चुकाने में देरी नहीं कर सकते। इसलिए अपनी रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने के लिए आपके पास एक ऐसा इमरजेंसी फंड होना चाहिए जिससे
आपके लगभग आठ महीने का खर्च चल सके।

लिक्विड म्यूच्यूअल फंड (लगभग 7-8% प्रति वर्ष रिटर्न), स्वीप-इन फंड अकाउंट (लगभग 7% प्रति वर्ष रिटर्न) और बैलेंस म्यूच्यूअल फंड में सिप (12-14% प्रति वर्ष रिटर्न) जैसे निवेश साधन इस काम के लिए एक फंड तैयार करने के लिए एकदम सही होते हैं क्योंकि इनमें अधिक लिक्विडिटी, मध्यम रिटर्न और कम जोखिम की सुविधा होती है।

हेल्थ संबंधित आपातकालीन परिस्थिति
इलाज का खर्च बढ़ता जा रहा है। इसलिए हेल्थ संबंधी आपातकालीन परिस्थिति में आपको किराया और यूटिलिटी बिल जैसे अन्य खर्चों के साथ अस्पताल और इलाज का खर्च उठाने में काफी संघर्ष करना पड़ सकता है। अपनी अन्य आर्थिक जरूरतों को पूरा करने के लिए, आपको अपनी मंथली आमदनी से बाहर किसी आर्थिक मदद की जरूरत पड़ेगी। एक उपयुक्त हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी, आपकी आर्थिक स्थिति को नुकसान पहुंचाए बिना ऐसी परिस्थितियों से बाहर निकलने में आपकी मदद करेगी। हेल्थ इंश्योरेंस, अस्पताल में भर्ती होने से पहले, भर्ती रहने के दौरान, और अस्पताल से बाहर निकलने के बाद के इलाज का सारा खर्च उठाता है।

यदि आपने हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी ले ली है तो आप एक क्रिटिकल इंश्योरेंस लेकर अपने आपको और अधिक सुरक्षित कर सकते हैं। क्रिटिकल इंश्योरेंस किसी गंभीर बीमारी का पता चलने पर पूरी बीमा राशि का भुगतान कर देता है और उस पैसे का इस्तेमाल सिर्फ इलाज का खर्च उठाने के लिए ही नहीं बल्कि अपनी और परिवार की दूसरी जरूरतों को पूरा करने के लिए भी किया जा सकता है। यह खास तौर पर उस समय बहुत उपयोगी साबित होता है जब व्यक्ति अपनी बीमारी के कारण काम नहीं कर पाता है। लेकिन हेल्थ पॉलिसी खरीदने से पहले, पहले से मौजूद बीमारियों, उपयुक्त कवरेज अवधि और कवरेज की रकम पर विचार जरूर करें।

आप जितनी जल्दी एक पॉलिसी खरीदेंगे, प्रीमियम उतना कम होगा। एक हेल्थ प्लान लेने के अलावा, आपातकालीन इलाज का खर्च उठाने के लिए एक इमरजेंसी फंड तैयार करने पर भी विचार करें, क्योंकि आपको किसी ऐसे अस्पताल में इलाज करवाने की नौबत भी आ सकती है जो आपकी पॉलिसी में कवर न हो। ऐसी परिस्थिति में इंश्योरेंस कंपनी आपके इलाज पर किए गए खर्च की रकम वापस कर देगी लेकिन ऐसी परिस्थिति में आपको पहले अपनी जेब से खर्च करना पड़ेगा। इस काम के लिए आप एक इमरजेंसी फंड तैयार करने के लिए एफडी और लिक्विड फंड में निवेश कर सकते हैं।

परिवार के सदस्य की मौत
परिवार में किसी की मौत होना अपने आप में चुनौती भरा होता है। अगर ऐसे व्यक्ति की मौत हो जाए जो परिवार का एकमात्र आय करने वाला सदस्य हो या आय करने वाले प्रमुख सदस्यों में से एक हो तो उसकी मौत फाइनैसली रूप से भी चुनौतीपूर्ण होगी। यदि आर्थिक दृष्टि से उसकी कमी को पूरा करने वाला कोई न हो तो परिवार पर बहुत बुरा असर पड़ सकता है। बच्चों की पढ़ाई, कर्ज हो तो उसका भुगतान इत्यादि के
लिए रखे गए पैसे खर्च हो सकते हैं। ऐसे आर्थिक नुकसान से बचने के लिए आपको परिवार के सभी आय करने वाले सदस्यों के नाम से एक लाइफ टर्म पॉलिसी ले लेनी चाहिए। बीमा की रकम से संबंधित फैसला करते समय इस बात पर विचार करें कि आपके परिवार को आपकी आमदनी की जगह पर कितनी रकम की जरूरत पड़ेगी।

यात्रा संबंधी आपातकालीन परिस्थितियां
क्या आपने कभी सोचा है कि किसी अजनबी देश में यात्रा के दौरान सामान गुम हो जाने पर या हेल्थ संबंधी दिक्कत होने पर क्या होगा। आपकी एंजॉय वाली यात्रा एक दिक्कत वाली यात्रा में बदल सकती है। सहायता के अभाव में आप असहाय महसूस कर सकते हैं। संकट की इस घड़ी में ट्रेवल इंश्योरेंस से काफी राहत मिलती है। यह देश में या देश के बाहर यात्रा के दौरान आपके सभी मेडिकल और आर्थिक खर्च का ख्याल रखता है।

प्राकृतिक आपदाएं
एक प्राकृतिक आपदा में आपका मकान और उसमें मौजूद सामान दोनों को नुकसान हो सकता है। आप ऐसे नुकसान से अपनी संपत्ति को नहीं बचा सकते हैं लेकिन आप उससे उबरने के लिए आर्थिक मदद ढूंढ सकते हैं। बाढ़, आग, सुनामी इत्यादि के कारण आपके मकान और सामान के नुकसान से उबरने के लिए बहुत ज्यादा खर्च करने से आपको एक होम इंश्योरेंस बचा सकता है। होम इंश्योरेंस के अलावा आप प्राकृतिक आपदाओं से एक व्यापक कवरेज के लिए हेल्थ और लाइफ इंश्योरेंस ले सकते हैं।

Next Stories
1 सेंसेक्स 198 अंक चढ़ा, निफ्टी 9,900 अंक के पार, शुरुआती कारोबार में रुपया 10 पैसे मजबूत
2 अनिल अंबानी बोले- संकट में है टेलिकॉम सेक्‍टर, बैंक नहीं दे रहे लोन
3 त्योहारों के सीजन में शॉपिंग करते वक्त रखें इन चार बातों का खास ख्याल
ये पढ़ा क्या?
X