Gujarat Vidhan Sabha Election Result 2017, Gujrat Election Results, Gujarat Chunav Parinam 2017: Sensex up 800 Points, Nifty up 200 Points after Gujarat Polls - गुजरात इलेक्शन रिजल्ट 2017: मालामाल हुए शेयर धारक, रिजल्ट आने के साथ साथ बढ़ रहा बाजार - Jansatta
ताज़ा खबर
 

गुजरात इलेक्शन रिजल्ट 2017: मालामाल हुए शेयर धारक, रिजल्ट आने के साथ साथ बढ़ रहा बाजार

Gujarat Election Results 2017, Gujarat Vidhan Sabha Chunav Result 2017: निफ्टी सुबह लगभग 11.38 बजे 77.65 अंकों यानी 0.75 फीसदी की बढ़त के साथ 10,410.90 पर है।

Gujarat Election Results 2017: मतगणना के शुरुआती रुझानों में गुजरात में भाजपा की संभावित हार की रिपोर्टों से सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट देखी गई थी।

गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों की मतगणना के रुझानों में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को मिलती दिख रही जीत से दोपहर के कारोबार में शेयर बाजार के प्रमुख सूचकांकों में उछाल देखा जा रहा है। गुजरात में सत्तारूढ़ बीजेपी दोबारा सरकार बनाती दिख रही है। यहां भाजपा 182 में से 104 सीटों पर बढ़त बनाए हुए हैं, जबकि कांग्रेस दूसरे स्थान पर है। हालांकि, मतगणना के शुरुआती रुझानों में गुजरात में भाजपा की संभावित हार की रिपोर्टों से सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट देखी गई थी। इससे पहले बाजार गिरावट के साथ ही खुले थे।

निफ्टी दोपहर लगभग 01.26 बजे 77.65 अंकों यानी 0.75 फीसदी की बढ़त के साथ 10,410.90 पर थी। वहीं, सेंसेक्स 249.26 अंकों यानी 0.74 फीसदी की बढ़त के साथ 33,712.23 पर। सेंसेक्स एकदिवसीय कारोबार में 33,762.04 के ऊपरी जबकि 32,595.63 के निचले स्तर तक चला गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के रिटेल रिसर्च विभाग के प्रमुख दीपक जसानी ने बताया, “जब तक चुनाव के अंतिम नतीजे नहीं आ जाते, बाजार में उतार-चढ़ाव जारी रह सकता है। हालांकि, यह स्पष्ट है कि बीजेपी गुजरात में छोटे या भारी अंतर से जीतने में कामयाब रहेगी।”

ADB (एशियाई विकास बैंक) ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर कम रहने का भी पूर्वानुमान लगाया था। ADB ने देश की जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि दर का अनुमान चालू वित्त वर्ष के लिए घटाकर 6.7 फीसदी कर दिया है। ADB ने इस गिरावट के लिए बैंक ने पहली छमाही के कमजोर प्रदर्शन, नोटबंदी और जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) के लागू होने के बाद की चुनौतियों का हवाला दिया है। बहुपक्षीय ऋणदाता ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए देश का जीडीपी अनुमान 7.4 फीसदी से घटाकर 7.3 फीसदी कर दिया है, जिसका मुख्य कारण कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में बढ़ोत्तरी तथा देश में स्थिर निजी निवेश को बताया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App