ताज़ा खबर
 

PNB घोटाला: नीरव मोदी की जिन डमी कंपनियों के मालिकों की कमाई थी सिर्फ आठ हजार, उन्हें मिले 8,000 करोड़ के LOU

नीरव मोदी की हांगकांग में संचालित जिन कंपनियों के मालिकों की मासिक कमाई आठ हजार से तीस हजार के बीच थी, उन्हें भी पंजाब नेशनल बैंक ने 8270 करोड़ के लेटर ऑफ अंडरस्टैंडिंग(एलओयू) जारी किए।

Author नई दिल्ली | June 6, 2018 11:18 AM
नीरव मोदी(फाइल फोटो)

नीरव मोदी की हांगकांग में संचालित जिन कंपनियों के मालिकों की मासिक कमाई आठ हजार से तीस हजार के बीच थी, उन्हें भी पंजाब नेशनल बैंक ने 8270 करोड़ के लेटर ऑफ अंडरस्टैंडिंग(एलओयू) जारी किए।यह बात प्रवर्तन निदेशालय की जांच में सामने आई है।ईडी ने अपनी चार्जशीट में कहा है कि नीरव मोदी ने कुल 15 डमी कंपनियां खड़ी कीं, ताकि आयात-निर्यात की आड़ में एलओयू का पैसा विदेश में हासिल किया जा सके।नीरव मोदी की ये पांच कंपनियां ब्रिलिएंट डायमंड्स लिमिटे, एक्सटर्नल डायमंड लिमिटेड, फैंसी क्रिएशन, सिनो ट्रेडर्स और औरजेम कंपनी लिमिटेड के डायरेक्टर पद पर जूनियर कर्मचारी या फिर पूर्व कर्मचारियों को नीरव मोदी ने तैनात किया। ईडी ने ऐसे कुछ कर्मचारियों के नाम अपनी चार्जशीट में भी पेश किए हैं।

मसलन,नीरव मोदी ने अपने फायरस्टार ग्रुप में काम कर चुके भाविक शाह को हांगकांग आधारित ब्रिलियंड डायमंड नामक डमी कंपनीमें डायरेक्टर बनाया, उनकी मासिक सेलरी 10,478 रुपये दिखाई, जबकि इस कंपनी ने 2015-16 में फायरस्टार इंटरनेशनल के साथ महज 959 करोड़ रुपये के ही बिजनेस किए।इसी तरह नीरव मोदी ने अपनी कंपनी के पूर्व डेटा एंट्री आपरेटर आशीष बगरियाको इटर्नल डायमंड क्राप का डायरेक्टर बनाया और सेलरी दिखाई 8,133 रुपये।जबकि इसका फायरस्टार इंटरनेशनल के साथ 2015-16 में महज 929 करोड़ का लेन-देन रहा।

ईडी ने दावा किया कि हांगकांग में बनाई गई पांच डमी फर्मों के जरिए 840 करोड़ के एलओयू की धनराशि को पहले अमेरिका की फर्मों को ट्रांसफर किया गया, फिर वहां से 271 करोड़ बेल्जियम, 238 करोड़ हांकगांग, 535 करोड़ दुबई और163 करोड़ भारत की दो कंपनियों को ट्रांसफर किए गए। प्रवर्तन निदेशालय ने यह भी दावा किया कि नीरव मोदी ग्रुप के आठ शीर्ष बॉयर्स और आठ सप्लायर्स सभी पूर्व कर्मचारी रहे, जो नीरव मोदी के निर्देश पर ही काम करते थे। प्रवर्तन निदेशालय के मुताबिक मोदी ग्रुप की फर्मों को 2011 से 2018 के बीच 24,000 करोड़ रुपये के एलओयू जारी किए गए।जिसमें से 1,015.34 मिलियन एलओयू धोखाधड़ी के जरिए नीरव मोदी ने हासिल किए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App