ताज़ा खबर
 

पीएम नरेंद्र मोदी ने की स्वदेशी अपनाने की अपील, ICC के इवेंट में कहा- 2022 तक भारत को बनाएंगे ‘आत्मनिर्भर’

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, 'हर वो चीज, जिसे आयात करने के लिए देश मजबूर है, वो भारत में ही कैसे बने, भविष्य में उन्हीं उत्पादों का भारत निर्यातक कैसे बने, इस दिशा में हमें और तेजी से काम करना है।'

narendra modiपीएम नरेंद्र मोदी ने की स्वदेशी के इस्तेमाल की अपील

पीएम नरेंद्र मोदी ने स्वदेशी उत्पादों को बढ़ावा देने की बात करते हुए देशवासियों से भारत में बने सामान का ही ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करने की अपील की है। स्वामी विवेकानंद की एक टिप्पणी का जिक्र करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘भारतीयों को अपने ही उत्पादों का इस्तेमाल करना चाहिए और उनका बड़े पैमाने पर उत्पादन करना चाहिए ताकि हमारी कला दूसरे देशों तक पहुंच सके।’ इंडियन चेंबर ऑफ कॉमर्स के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने एक बार फिर से स्वदेशी का मंत्र दिया। उन्होंने कहा, ‘हर वो चीज, जिसे आयात करने के लिए देश मजबूर है, वो भारत में ही कैसे बने, भविष्य में उन्हीं उत्पादों का भारत निर्यातक कैसे बने, इस दिशा में हमें और तेजी से काम करना है।’

इसके साथ ही पीएम नरेंद्र मोदी ने सोलर एनर्जी और रिचार्जेबल बैट्रियों के क्षेत्र में काम करने के लिए भी कारोबारियों को प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि यदि कोरोना वायरस सबसे बड़ा संकट है तो हमें इससे सबसे बड़ी सीख भी लेनी चाहिए। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश के हर नागरिक को इस संकट को अवसर में तब्दील करना होगा। हमें इस संकट को देश के लिए एक बड़े अवसर में तब्दील करना होगा। हमारे लिए यह टर्निंग पॉइंट आत्मनिर्भर भारत का मिशन होगा।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश जब 2022 में आजादी की 75वीं वर्षगांठ मनाएगा, तब तक भारत आत्मनिर्भर भारत की ओर मजबूती से आगे बढ़ चुका होगा। पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया कोरोना वायरस के संकट से लड़ रही है और भारत भी संघर्ष कर रहा है। लेकिन कुछ और भी मसले हैं। बाढ़, टिड्डी दल, तूफान, छोटे भूकंप और चक्रवात के संकट से हमें जूझना पड़ रहा है। लेकिन भारत इन सभी चुनौतियों से एक साथ निपटने की कोशिश कर रहा है।

पीएम मोदी ने स्थायी विकास का जिक्र करते हुए कहा कि भारत में एक और अभियान अभी चल रहा है- देश को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करने का। इसमें ‘People, Planet और Profit’ तीनों ही विषय जुड़े हुए हैं। खासतौर पर पश्चिम बंगाल के लिए तो ये बहुत ही फायदेमंद है। इससे आपके यहां जूट का कारोबार बढ़ने की संभावना बढ़ती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 5वीं बार मंदी के संकट से गुजर रहा भारत, तब खाने की भी हो गई थी किल्लत, अमेरिका से मंगाना पड़ा था अनाज
2 दो महीने में भारत में छिना 12.4 करोड़ लोगों का रोजगार, सैलरीड क्लास को अभी और लग सकते हैं झटके, हालात सुधरने में लगेगी देर
3 जानें, मुकेश और अनिल अंबानी के बीच किन वजहों से हुई रार और कैसे मां कोकिलाबेन ने कराया विवाद का निपटारा