ताज़ा खबर
 

पीएम फसल बीमा योजना को झारखंड और तेलंगाना ने किया बंद, अब तक 6 राज्य हुए स्कीम के दायरे से बाहर

PM Fasal Bima Yojana: पीएम फसल बीमा योजना को तेलंगाना और झारखंड सरकारों ने अपने राज्य में बंद करने का फैसला लिया है। दोनों ही राज्यों ने स्कीम के लिए किसानों से लिए जाने वाले प्रीमियम को अधिक बताते हुए यह फैसला लिया है।

pm fasal bima yojanaझारखंड और तेलंगाना ने पीएम फसल बीमा योजना को किया बंद

केंद्र सरकार की पीएम फसल बीमा योजना को तेलंगाना और झारखंड सरकारों ने अपने राज्य में बंद करने का फैसला लिया है। दोनों ही राज्यों ने स्कीम के लिए किसानों से लिए जाने वाले प्रीमियम को अधिक बताते हुए यह फैसला लिया है। किसानों के लिए इस स्कीम को स्वैच्छिक किए जाने के बाद प्रीमियम 2 से 3 फीसदी बढ़ गई थी। इन दोनों ही राज्यों में 60 लाख से ज्यादा किसानों ने स्कीम के लिए पंजीकरण कराया था। तेलंगाना और झारखंड से पहले पश्चिम बंगाल, बिहार, पंजाब और आंध्र प्रदेश ने भी राज्य में इस स्कीम को बंद करने का फैसला पहले ही ले लिया था। इस तरह अब तक 6 राज्य पीएम फसल बीमा योजना के दायरे से बाहर हो चुके हैं।

सूत्रों के मुताबिक महाराष्ट्र और राजस्थान की सरकारें भी इस स्कीम से बाहर निकलने पर विचार कर रही हैं। इस स्कीम के तहत कुल प्रीमियम का दो फीसदी हिस्सा किसानों से वसूला जाता है। इसके अलावा अन्य बचा हुआ हिस्सा केंद्र और राज्य सरकार की ओर से दिया जाता है। दोनों ही सरकारें प्रीमियम का आधा-आधा हिस्सा अदा करती हैं।

अधिकारियों के मुताबिक किसानों की संख्या कम होने के चलते प्रीमियम में इजाफा हो जाएगा और उसकी भरपाई सरकारों को अपनी ओर से करनी होगी। दरअसल नई इंश्योरेंस स्कीम के तहत असिंचित भूमि के लिए 30 फीसदी का प्रीमियम तय किया गया है, जबकि सिंचित भूमि के लिए 25 फीसदी की राशि तय की गई है।

राज्यों का कहना है कि यह राशि काफी अधिक है। एक राज्य सरकार के अधिकारी ने कहा कि केंद्र ने कुछ इलाकों में अपने शेयर को सीमित कर रखा है। इसके अलावा बचे हुए हिस्से का भुगतान राज्य सरकारों और किसानों को करना होता है। हालांकि जानकारों का कहना है कि यह बीजेपी और गैर-बीजेपी शासित राज्यों के बीच किसानों पर राजनीति का हिस्सा है। गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में पीएम किसान सम्मान निधि योजना को भी लागू नहीं किया गया है। इस स्कीम के तहत किसानों को 2000 रुपये की तीन किस्तों में सालाना 6,000 रुपये मिलते हैं।

क्‍लिक करें Corona Virus, COVID-19 और Lockdown से जुड़ी खबरों के लिए और जानें लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइंस

Next Stories
1 पतंजलि ने शुरू किया कोरोना का क्लिनिकल ट्रायल, कहा- इम्यून बढ़ाने पर ही नहीं, इलाज पर है हमारा फोकस
2 कर्मचारियों की छंटनी के बाद अब ओला ने इलेक्ट्रिक स्कूटर बनाने वाली कंपनी Etergo को खरीदने का लिया फैसला
3 बीजेपी शासित राज्यों के श्रम कानून बदलने को केंद्रीय मंत्री ने बताया गलत, कहा- कानून खत्म करना सुधार नहीं
यह पढ़ा क्या?
X