देश के टॉप बैंक जो रिकरिंग डिपॉजिट पर सीनियर सिटीजंस को करा रहे हैं 8 फीसदी से ज्‍यादा कमाई, जानि‍ए इनके नाम

लाभों के अलावा, निवेशकों को यह जानना आवश्यक है कि आरडी से आपको टैक्‍स छूट नहीं मिलती है। यदि निवेशक मैच्‍योरिटी से रकम निकालते हैं तो उन्हें दंड का सामना करना पड़ सकता है। रिकरिंग डिपॉजिट कम आय वाले निवेशकों के लिए सबसे अच्छा दांव है जो एकमुश्त के बजाय एसआईपी की तरह प्रति माह कम राशि के साथ निवेश शुरू करना चाहते हैं।

senior citizens fixed deposit, FD Interest rates
वरिष्‍ठ नागरिकों की फ‍िस्‍क्‍ड डिपॉजिट पर होने वाली कमाई आधी हो गई। इसका कारण ब्‍याज दरों में लगातार कटौती होना। ( Express photo by Nirmal Harindran )

कम जोखिम लेने वाले और अपने निवेश के सुनिश्चित रिटर्न से मिलने के लिए एक छोटा व्यक्तिगत वित्त लक्ष्य रखने वाले ऋण निवेशकों में, रिकरिंग डिपॉजिट (आरडी) में निवेश करने का एक स्मार्ट ऑप्‍शन है। फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट की तरह, रिकरिंग डि‍पॉजिट सबसे लोकप्रिय फिक्‍स्‍ड इनकम योजनाओं में से एक है, जहां वरिष्ठ नागरिकों सहित निवेशकों को मैच्‍योरिटी पर निवेश की गई पूंजी के साथ ब्याज राशि प्राप्त करने के लिए अपने आरडी अकाउंट में मासिक आधार पर योगदान करना पडता है। ब्याज दरों की बात करें तो निवेशकों को यह ध्यान रखने की जरूरत है कि रिकरिंक डिपॉजिट की ब्याज दर बैंकों की सावधि जमा के समान होती है, जिसकी गारंटी होती है, और उनके द्वारा जमा की गई जमा राशि का डीआईसीजीसी द्वारा 5 लाख रुपए तक का बीमा किया जाता है।

लाभों के अलावा, निवेशकों को यह जानना आवश्यक है कि आरडी से आपको टैक्‍स छूट नहीं मिलती है। यदि निवेशक मैच्‍योरिटी से रकम निकालते हैं तो उन्हें दंड का सामना करना पड़ सकता है। रिकरिंग डिपॉजिट कम आय वाले निवेशकों के लिए सबसे अच्छा दांव है जो एकमुश्त के बजाय एसआईपी की तरह प्रति माह कम राशि के साथ निवेश शुरू करना चाहते हैं। जैसा कि हमारे विषय से पता चलता है कि हम यहां वरिष्ठ नागरिकों के लिए रिकरिंग डिपॉजिट के बारे में बात कर रहे हैं, जिसका सीधा सा मतलब है कि उन्हें नियमित नागरिकों की तुलना में अपनी जमा राशि पर अतिरिक्त दरें मिलेंगी। उपरोक्त सभी कारकों को ध्यान में रखते हुए, हमने सभी कैटेगिरी के 10 बैंकों को चुना है जो वरिष्ठ नागरिकों के लिए रिकरिंग डिपॉजिट पर सबसे ज्‍यादा रिटर्न देने का दावा कर रहे हैं।

वरिष्ठ नागरिकों को रिकरिंग डिपॉजिट पर हाई रिटर्न देने वाले शीर्ष 10 स्‍मॉल फाइनेंस बैंक

बैंकों का नाम ब्‍याज दर टेन्‍योर
नॉर्थ ईस्‍ट स्‍मॉल फाइनेंस बैंक 8 फीसदी 2 साल
उत्‍कर्ष स्‍मॉल फाइनेंस बैंक 7.50 फीसदी 2-3 साल
उज्‍जीवन स्‍मॉल फाइनेंस बैंक 7.25 फीसदी 27 से 60 महीने
जना स्‍मॉल फाइनेंस बैंक 7.25 फीसदी 3 से 5 साल
फ‍िनकेयर स्‍मॉल फाइनेंस बैंक 7.25 फीसदी 59 महीने एक दिन से 66 महीने तक
इक्विटास स्‍मॉल फाइनेंस बैंक 7 फीसदी 90 से 120 महीने
ईएसएएफ स्‍मॉल फाइनेंस बैंक 7 फीसदी 365 से 366 दिन
सर्वोइस स्‍मॉल फाइनेंस बैंक 6.75 फीसदी 12 से 18 महीने
कैपिटल स्‍मॉल फाइनेंस बैंक 6.75 फीसदी 900 दिन
एयू स्‍मॉल फाइनेंस बैंक 6.75 फीसदी 25 से 36 महीने और 61 से 120 महीने

 

वरिष्ठ नागरिकों को रिकरिंग डिपॉजिट पर हाई रिटर्न देने वाले शीर्ष 10 प्राइवेट बैंक

बैंकों का नाम ब्‍याज दर टेन्‍योर
यस बैंक 7.25 फीसदी 5 से 10 तक
आरबीएल बैंक 7 फीसदी 60 महीने से 60 महीना एक दिन
डीसीबी बैंक 7 फीसदी 36 महीने से 120 महीने तक
बंधन बैंक 6.75 फीसदी एक से तीन साल तक
इंडसइंड बैंक 6.50 फीसदी 12 से 61 महीने
आईडीएफसी फर्स्‍ट बैंक 6.50 फीसदी 36 से 60 महीने
एक्सिस बैंक 6.50 फीसदी 5 से 10 साल
आईसीआईसीआई बैंक 6.30 फीसदी 5 से 10 तक
एचडीएफसी बैंक 6 फीसदी 90 से 120 महीने
कोटक महिंद्रा बैंक 5.75 फीसदी 5 से 10 तक
वरिष्ठ नागरिकों को रिकरिंग डिपॉजिट पर हाई रिटर्न देने वाले शीर्ष 10 सरकारी बैंक
बैंकों का नाम ब्‍याज दर टेन्‍योर
बैंक ऑफ बढौदा 6.25 फीसदी 3 से 10 साल
एसबीआई 6.20 फीसदी 5 से 10 साल
यूनियन बैंक ऑफ इंडिया 6.10 फीसदी 5 से 10 साल
कैनरा बैंक 6 फीसदी 3 से 10 साल
पंजाब एंड सिंध बैंक 5.80 फीसदी 3 से 10 साल
आईडीबीआई बैंक 5.80 फीसदी 3 से 5 साल
पीएनबी 5.75 फीसदी 3से 10 साल
इंडियन बैंक 5.75 फीसदी 3 से 5 साल
इंडियन ओवरसीज बैंक 5.70 फीसदी 444 दिन से 3 साल से ज्‍यादा
बैंक ऑफ इंडिया 5.65 फीसदी 2 साल से 10 साल तक

 

 

पढें Personal Finance समाचार (Personalfinance News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट