Sensex ने लगाया 949 अंक का गोता, निवेशकों ने ओमिक्रोन और RBI मॉनिटरी पॉलिसी की बैठक के चलते नहीं लिया जोखिम

तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 949.32 अंक यानी 1.65 प्रतिशत की गिरावट के साथ 56,747.14 अंक पर बंद हुआ। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 284.45 अंक यानी 1.65 प्रतिशत की गिरावट के साथ 16,912.25 अंक पर बंद हुआ।

Sensex, Bombay Stock Exchange, Nifty, Omicron,
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 284.45 अंक यानी 1.65 प्रतिशत की गिरावट के साथ 16,912.25 अंक पर बंद हुआ। (फाइल फोटो)

बीएसई सेंसेक्स सोमवार को 949 अंकों का गोता लगाकर 56,747.14 अंक पर बंद हुआ। ओमीक्रोन को लेकर चिंता के बीच चौतरफा बिकवाली से बाजार में गिरावट आयी। बाजार विशेषज्ञों के अनुसार, देश में सप्ताहांत कोरोना वायरस के नये स्वरूप ओमीक्रोन के और मामले सामने आने से शेयर बाजारों में गिरावट आयी। तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 949.32 अंक यानी 1.65 प्रतिशत की गिरावट के साथ 56,747.14 अंक पर बंद हुआ। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 284.45 अंक यानी 1.65 प्रतिशत की गिरावट के साथ 16,912.25 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्स में शामिल सभी शेयर नुकसान में रहें। इंडसइंड बैंक में सर्वाधक करीब चार प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी। इसके अलावा बजाज फिनसर्व, भारती एयरटेल, टीसीएस, एचसीएल टेक और टेक महिंद्रा में भी प्रमुख रूप से गिरावट रही। एलकेपी सिक्योरिटीज के शोध प्रमुख एस रंगनाथन ने कहा, ‘‘बाजार में शुरुआत गिरावट के साथ हुई और दोपहर के कारोबार में बिकवाली तेज हुई। सभी खंडवार सूचकांक नुकसान में रहें।’’

उन्होंने कहा कि बाजार को रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा का इंतजार है। मंदड़ियों के हावी होने से निफ्टी 17,000 के नीचे आया। विदेशी संस्थागत निवेशकों की बिकवाली लगातार जारी है। हालांकि, घरेलू निवेशकों ने सोमवार को प्रमुख वित्तीय शेयरों में लिवाली की।

एशिया के अन्य बाजारों में चीन में शंघाई कंपोजिट, हांगकांग का हैंग सेंग और जापान का निक्की नुकसान में रहे, जबकि दक्षिण कोरिया के कॉस्पी में तेजी रही। यूरोप के प्रमुख बाजारों में दोपहर कारोबार के दौरान तेजी का रुख रहा। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 2.23 प्रतिशत की बढ़त के साथ 71.44 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।

यह भी पढ़ें: 1000 प्वॉइंट्स क्यों गिर गया Sensex और इस तरह की स्थिति में क्या करें निवेशक?

ओमिक्रोन और RBI की बैठक बनी गिरावट की वजह – एक्सपर्ट के अनुसार बाजार में गिरावट की वजह करोना के ज्यादा संक्रामक वैरिएंट के फैलाव और रिजर्व बैंक की मॉनिटरी पॉलिसी में बदलाव का इंतजार है। RBI के मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी की तीन-दिवसीय बैठक सोमवार से शुरू हुई है। ऐसी उम्मीद की जा रही है कि RBI यथास्थिति बनाए रखने के लिए ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं करेगा। हालांकि निवेशक बैठक खत्म होने के बाद इस संबंध में RBI के ऐलान का इंतजार कर रहे हैं।

(इनपुट सहित : भाषा/पीटीआई)

पढें Personal Finance समाचार (Personalfinance News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट