SBI Life’s eShield Next : इस टर्म पॉलिसी में कभी बढ़ा सकते हैं इंश्‍योरेंस अमाउंट, जानि‍ए क्‍या हैं खासियत

एसबीआई लाइफ ई-शील्‍ड नेक्‍स्‍ट टर्म इंश्‍योरेंस में आपको अभी अपना इंश्‍योरेंस अमाउंट बढ़ाने की आजादी होती है। समय के साथ जब आपको अपने परिवार को ज्‍यादा सुरक्षा प्रदान करनी होती है तो 25 लाख से 50 लाख रुपए तक इंश्‍योरेंस अमाउंट बढ़ा सकते हैं।

insurance Eshield
SBI Life’s eShield Next Term Insurance में कोई भी कभी भी इंश्‍योरेंस अमाउंट को बेच सकता है। (Photo By Financial Express Archive)

एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस ने अपनी मौजूदा टर्म पॉलिसी – ईशील्ड – को वापस ले लिया है और इसे ईशील्ड नेक्स्ट से बदल दिया है। नई पॉलिसी में कई एडिशनल सुविधाओं और ऑप्‍शन को जोड़ा गया है। यह पॉलिसी कोई रिटर्न या मेच्‍योरिटी अमाउंट नहीं देती है, लेकिन पॉलिसीधारक की मृत्यु के मामले में उसके आश्रितों को बीमित राशि का भुगतान करती है। टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी कम प्रीमियम पर परिवारों के लिए वित्तीय सुरक्षा सुनिश्चित करती हैं। पिछले कुछ वर्षों में, लाइफ इंश्‍योरर ने इस प्रोडक्‍ट कैटेगिरी में कई तरह के फीचर्स पेश किए हैं, जिसमें डेफर्ड क्‍लेम पेमेंट और इंश्‍योरेंस अमाउंट को बढ़ाना शामिल है।

नई पॉलिसी में यह है फर्क
पहले वाले ईशील्ड कवर में अनचेंज्‍ड सम एश्योर्ड के साथ सिर्फ एक ऑप्‍शन था। अब, ईशील्ड नेक्स्ट न केवल यह विकल्प प्रदान करता है (जिसे वह लेवल कवर कहता है), यह आपको उम्र बढ़ने के साथ अपनी बीमा राशि बढ़ाने के विकल्प भी देता है। लेवल कवर, नियमित प्रीमियम भुगतान विकल्प के लिए, एक 35 वर्षीय नॉन स्‍मोकर विमेन जो 20 साल की पॉलिसी अवधि के साथ 1 करोड़ रुपए का कवर खरीदती है, उसे 10,586 रुपए का वार्षिक प्रीमियम और कर का भुगतान करना होगा।

इस तरह के बढ़ा सकते है सम एश्‍योर्ड
भविष्य के प्रूफिंग के साथ लेवल कवर’ लाभ, पॉलिसीधारकों को कई महत्वपूर्ण इंसीडेंट्स में अपने लाइफ इंश्‍योरेंस कवर को बढ़ाने की अनुमति देता है। उदाहरण के लिए, जब आप शादी करते हैं, तो आप अपनी बीमा राशि को 50 फीसदी तक बढ़ा सकते हैं, अधिकतम 50 लाख रुपए तक। इसी तरह, आपके पहले बच्चे के जन्म पर, उत्पाद आपको अपने कवर को 25 फीसदी तक बढ़ाने की अनुमति देगा, अधिकतम 25 लाख रुपए तक।

क्‍या है सबसे बड़ा फायदा
इसका मेन ब‍ेनिफ‍िट यह है कि जहां आपको बड़े कवर के लिए अधिक प्रीमियम देना होगा, वहीं आपको मेडिकल अंडरटेकिंग से नहीं गुजरना पड़ेगा। अक्सर, लोग अपनी भविष्य की आवश्यकताओं की कल्पना करने में असमर्थ होते हैं, और इसलिए उनकी बीमा खरीद भी इसका कारक नहीं होती है। कोई व्यक्ति जो शादीशुदा नहीं है और टर्म प्लान खरीद रहा है, उसने यह कल्पना नहीं की होगी कि भविष्य में वह एक नए घर में जाना चाहता है और जरूरत को पूरा करने के लिए कर्ज पर निर्भर है। कहने की जरूरत नहीं है कि जब ऐसी देनदारियां सामने आएंगी तो उनका बीमा कवर अपर्याप्त हो जाएगा।’ यदि आप अपने सम एश्योर्ड को निश्चित अंतराल पर बढ़ाना चाहते हैं, तो आप ‘इनक्रीजिंग सम एश्योर्ड’ विकल्प का विकल्प चुन सकते हैं। यहां, आपकी बीमा राशि हर पांचवें पॉलिसी वर्ष में 10 फीसदी बढ़ जाती है।

जीवनसाथी के लिए लाइफ कवर
‘बेटर-हाफ’ बेनिफिट विकल्प के तहत, पॉलिसीधारक की मृत्यु के बाद आय प्राप्त नहीं करने वाले पति या पत्नी को जीवन बीमा मिलता है। उत्पाद सीमित प्रीमियम भुगतान अवधि की सुविधा भी प्रदान करता है। जिसमें आप पांच साल के लिए प्रीमियम का भुगतान कर सकते हैं, लेकिन कवर 20 साल तक जारी रह सकता है। कंपनी के मुताबिक, लिमिटेड प्रीमियम पेमेंट टर्म फीचर को मिलेनियल्स की जरूरतों के हिसाब से डिजाइन किया गया है। उत्पाद के तहत, सीमित प्रीमियम भुगतान की शर्तें पांच साल से कम से लेकर 25 साल तक होती हैं। होल लाइफ ऑप्‍शन के मामले में, पॉलिसी धारक के 100 वर्ष के होने तक पॉलिसी लागू रह सकती है।

आप स्‍टेगर्ड क्‍लेम भुगतान ऑप्‍शन भी चुन सकते हैं। दावा आपके आश्रितों को एकमुश्त राशि के बजाय, समय के साथ सौंपा जाएगा। “ग्राहक चुन सकते हैं कि मृत्यु लाभ का भुगतान एकमुश्त या मासिक किस्तों या दोनों के संयोजन के रूप में किया जाना चाहिए या नहीं। एकमुश्त भुगतान से परिवार को बड़े कर्ज चुकाने में मदद मिलेगी, जबकि मासिक किश्तों से नियमित आय के नुकसान की भरपाई में मदद मिलेगी। यदि आश्रित आर्थिक रूप से जानकार नहीं हैं और एक बड़े फंड का प्रबंधन करने में सक्षम नहीं हैं, तो ऐसे ग्राहकों के लिए मासिक किस्त एक बेहतर विकल्प होगा।

पढें Personal Finance समाचार (Personalfinance News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट