scorecardresearch

पर्सनल हेल्‍थ इंश्‍योरेंस ऑफ‍िस से म‍िला है, पर जरूरत से कम है तो क्‍या करें? जान‍िए

अगर आप पहले से ही अपने नियोक्‍ता यानी कि कंपनी द्वारा प्रदान किए गए समूह स्वास्थ्य बीमा के तहत कवर हैं, तो आप एक व्यक्तिगत योजना लागत प्रभावी बीमा खरीद सकते हैं।

पर्सनल हेल्‍थ इंश्‍योरेंस ऑफ‍िस से म‍िला है, पर जरूरत से कम है तो क्‍या करें? जान‍िए
जानिए सस्‍ते में कौन सा ले सकते हैं हेल्‍थ इंश्‍योरेंस (फोटो-Freepik)

भविष्‍य में किसी तरह की समस्‍या नहीं आए इसके लिए लोग हेल्‍थ इंश्‍योरेंस खरीदते हैं। वहीं बहुत सी कंपनियां अपने कर्मचारियों के लिए पर्सनल हेल्‍थ इंश्‍योरेंस देती है। हालाकि स्वास्थ्य देखभाल की लागत बढ़ने से बड़ी संख्या में कॉर्पोरेट कर्मचारी पर्सनल स्वास्थ्य बीमा खरीदने से बच रहे हैं। स्‍वास्‍थ्‍य बीमा न खरीदने से आप पैसा बचा सकते हैं, लेकिन यह भविष्‍य के लिए नुकसान भी हो सकता है।

अगर आप पहले से ही अपने नियोक्‍ता यानी कि कंपनी द्वारा प्रदान किए गए समूह स्वास्थ्य बीमा के तहत कवर हैं, तो आप एक व्यक्तिगत योजना लागत प्रभावी बीमा खरीद सकते हैं। यानी कि ऑफिस की ओर से दिया जा रहा पर्सनल हेल्‍थ बीमा कम है तो आप यहां बताए गए विकल्‍प को अपना सकते हैं।

टॉप-अप स्वास्थ्य बीमा

टॉप-अप स्वास्थ्य बीमा के लिए अतिरिक्त बीमा राशि प्रदान की जाती है। नियमित स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी की तुलना में टॉप-अप प्लान काफी सस्ते होते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि टॉप-अप पॉलिसी में डिडक्टिबल होता है। इसमें सभी बीमारियों को कवर नहीं किया जाता है। हालाकि टॉप -अप प्‍लान पर निर्भर करता है कि कितने गंभीर बीमारियों को कवर किया जाएगा।

एक पॉलिसीधारक अपनी मूल योजना, यानी नियोक्‍ता की ओर से दिया जाने वाला प्रदत्त समूह स्वास्थ्य से कटौती योग्य राशि तक के खर्चों के लिए दावा कर सकता है। टॉप-अप योजना से कटौती योग्य से अधिक व्यय का दावा किया जा सकता है।

टॉप-अप योजनाओं के प्रकार

टॉप-अप प्लान दो प्रकार के होते हैं, जिन्हें सामान्य तौर पर स्टैंडर्ड टॉप-अप और सुपर टॉप-अप प्लान कहा जाता है। यह मानक योजना के तहत, कटौती योग्य प्रत्येक दावे पर लागू किया जाता है, जबकि सुपर टॉप-अप के लिए, पॉलिसी वर्ष में किए गए कुल खर्च को कटौती योग्य के रूप में गिना जाता है।

उदाहरण के लिए, अगर आप अस्पताल में भर्ती होने के लिए 2 लाख रुपए के दो दावे करते हैं, और टॉप-अप योजना की कटौती 3 लाख रुपए है, तो मानक टॉप-अप योजना किसी भी दावे को स्वीकार नहीं करेगी। सुपर टॉप-अप प्लान 1 लाख रुपए का दावा स्वीकार करेगा। गंभीर बीमारी के मामलों में, एक वर्ष में कई बार अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है। ऐसे में सुपर टॉप-अप प्लान ज्यादा फायदेमंद होता है।

ग्रुप टॉप-अप स्वास्थ्य बीमा

कई कंपनियां नियमित ग्रुप स्वास्थ्य बीमा के अलावा एक ग्रुप टॉप-अप योजना की सुविधा प्रदान करती हैं, जहां कर्मचारी अपनी लागत पर अपनी बीमा राशि को बढ़ा सकते हैं। इस योजना का प्रमुख लाभ यह है कि यह थोक खरीदारी के कारण सस्ता है और इसमें इंतजार की अवधि नहीं है। वहीं नियमित टॉप-अप योजनाओं में पहले से मौजूद बीमारियों और विशिष्ट बीमारियों के लिए दो से चार साल की प्रतीक्षा अवधि होती है। ऐसी योजना का नुकसान यह है कि यह आपके रोजगार से जुड़ी होती है। इसलिए, जब आप प्रीमियम का भुगतान करते हैं, तो यह पूरी तरह से पर्सनल योजना नहीं है।

एफ़िनिटी टॉप-अप

नियोक्ता-सुविधा वाले समूह टॉप-अप योजना के समान, कई टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म पर ग्रुप टॉप-अप स्वास्थ्य बीमा योजनाएं प्रदान करते हैं। टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म में पेमेंट वॉलेट, एचआर-टेक फर्म और हेल्थ-टेक फर्म शामिल हैं। ये लोगों के लिए कम लागत में बीमा उपलब्‍ध कराते हैं। हालाकि इसमें कुछ इंतजार की अवधि दी जाती है। लागत के अलावा दूसरा फायदा यह है कि यह योजना आपके रोजगार से जुड़ी नहीं है। यदि आप अपना नियोक्ता बदलते हैं तो भी आप इस योजना का नवीनीकरण जारी रख सकते हैं।

केवल गंभीर बीमारियों के लिए कवरेज

कुछ मामलों में, विशेष रूप से सरकारी कर्मचारियों के लिए, नियोक्ता असीमित बीमा राशि और सेवानिवृत्ति के बाद भी स्वास्थ्य कवरेज प्रदान करता है। व्यक्ति को ऐसी योजनाओं के तहत स्वयं के रोजगार या पति या पत्नी या माता-पिता के आधार पर कवर किया जा सकता है। ऐसे मामलों में व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा योजना की आवश्यकता कम होती है। कोई व्यक्ति व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा के बजाय केवल एक गंभीर बीमारी बीमा खरीद सकता है।

गंभीर बीमारी बीमा व्यक्तिगत बीमा की तुलना में काफी सस्ता है, और एक पूरक योजना के रूप में काम करता है। यदि कर्मचारी को गंभीर बीमारी का पता चलता है, तो कर्मचारी को पूरी बीमा राशि का भुगतान किया जाएगा।

पढें Personal Finance (Personalfinance News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.