NPS : वो निवेशक जो नहीं कर सकते हैं नेशनल पेंशन सिस्‍टम में निवश?

बाजार से जुड़े उत्पाद होने के नाते, एनपीएस में मासिक या वार्षिक बचत को एक या अधिक परिसंपत्तियों जैसे इक्विटी, डेट या दोनों में निवेश किया जा सकता है और फंड का प्रबंधन पेशेवर पेंशन फंड मैनेजर द्वारा किया जाता है।

NPS Scheme
क्या है एनपीएस? कितना पैसा जमा करके आप एक लाख रुपए महीना पा सकते हैं पेंशन (File Photo)

एनपीएस एक लोकप्रिय निवेश योजना के रूप में उभरी है जिसका उद्देश्य रिटायमेंट के लिए बचत करना है। एनपीएस अनिवार्य रूप से एक बाजार से जुड़ा निवेश है जो सेवानिवृत्ति के लिए किसी की बचत को जमा करने में मदद करता है। बाजार से जुड़े उत्पाद होने के नाते, एनपीएस में मासिक या वार्षिक बचत को एक या अधिक परिसंपत्तियों जैसे इक्विटी, डेट या दोनों में निवेश किया जा सकता है और फंड का प्रबंधन पेशेवर पेंशन फंड मैनेजर द्वारा किया जाता है। जो लोग रिटायरमेंट फंड जमा करना चाहते हैं और अपनी सेवानिवृत्ति के वर्षों के दौरान एक निश्चित पेंशन प्राप्त करना चाहते हैं, उनके लिए एनपीएस एक निवेश है।

हालांकि, इससे पहले कि आप एनपीएस खाता खोलें और बचत शुरू करें, यहां कुछ महत्वपूर्ण बातों जान और समझ लेना काफी जरूरी है। एनपीएस एक लंबी अवधि का निवेश होने के कारण, बीच में योजना से एग्‍ज‍िट करना हानिकारक साबित हो सकता है। यहां हम उन कारकों के बारे में बताने जा रहे हैं जो सभी निवेशकों के अनुरूप नहीं हो सकते हैं।

जो इक्विटी में 100 फीसदी निवेश करना चाहता है
एनपीएस में आपकी बचत का 100 फीसदी इक्विटी में निवेश करने का विकल्प नहीं है। म्यूचुअल फंड के समान, एनपीएस में चुनने के लिए फंड विकल्प हैं लेकिन जब इक्विटी में फंड आवंटित करने की बात आती है तो एक अपर लिमिट होती है। हालांकि, कॉरपोरेट बॉन्ड और सरकारी बॉन्ड के साथ फंड विकल्पों में 100 प्रतिशत निवेश करने की अनुमति है, इक्विटी फंड विकल्प के तहत, आपकी बचत का अधिकतम 75 प्रतिशत निवेश किया जा सकता है। 75 प्रतिशत (50 वर्ष की आयु तक) की ऊपरी सीमा सक्रिय विकल्प के अंतर्गत है, जबकि निवेश के ऑटो विकल्प मोड में, अधिकतम 75 प्रतिशत (35 वर्ष की आयु तक) की अनुमति है, जो आगे चलकर एक आयु के रूप में कम होती जाती है।

जो लंबी अवधि के लिए फंड को लॉक-इन नहीं करना चाहते
एनपीएस एक लंबी अवधि की बचत योजना है जिसका उद्देश्य विशेष रूप से सेवानिवृत्ति के बाद की जरूरतों के लिए एक फंड बनाना है। अगर कोई 30 साल की उम्र में एनपीएस खाता खोलता है, तो एनपीएस 60 साल की उम्र में परिपक्व हो जाएगा और फिर आजीवन पेंशन का प्रावधान है। इसका मतलब है कि आज आप जो एनपीएस खाता (टियर I) खोलते हैं, वह अब से कई दशकों तक आपके पास रह सकता है। एनपीएस से जल्दी बाहर निकलने की अनुमति है लेकिन परिपक्वता से पहले सरेंडर और वि‍द्ड्रॉल करने से उद्देश्य अच्छी तरह से पूरा नहीं होगा।

जो मैच्योरिटी पर एकमुश्त राशि चाहते हैं
अगर आप मैच्योरिटी पर पूरी रकम निकालने के लिए एनपीएस में निवेश कर रहे हैं, तो आपको अपने उद्देश्य पर दोबारा गौर करने की जरूरत है। परिपक्वता पर, आप अधिकतम 60 प्रतिशत कॉर्पस निकाल सकते हैं, जबकि शेष 40 प्रतिशत आपको नियमित पेंशन प्रदान करने के लिए एक जीवन बीमा कंपनी को हस्तांतरित करना होगा। रिटायरमेंट पर केंद्रित निवेश होने के कारण, एनपीएस में अनिवार्य पेंशन प्राप्त करने का प्रावधान है और इसलिए सामान्य परिस्थितियों में 100 प्रतिशत राशि निकालने की अनुमति नहीं है।

जीवन भर निश्‍चित पेंशन नहीं चाहते
एनपीएस के तहत, वार्षिकी प्रदाता द्वारा सेवानिवृत्त वर्षों के दौरान प्रचलित ब्याज दर के आधार पर एक निश्चित पेंशन राशि प्रदान की जाती है। यदि आप अपनी इच्छा के अनुसार सेवानिवृत्ति के लिए निर्देशित अपनी बचत का उपयोग करना चाहते हैं, तो एनपीएस आपके लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है।

जो टैक्स बेनिफिट नहीं लेना चाहता
एनपीएस के कई टैक्स बेनिफिट्स हैं और यह टैक्स देनदारी को कम करने में आपकी मदद कर सकता है। धारा 80सीसीई के तहत, धारा 80सी, 80सीसीसी और धारा 80सीसीडी(1) के तहत कुल डेढ़ लाख रुपए का फायदा लिया जा सकता है। इसके अलावा, एनपीएस में 50,000 अंत में, नियोक्ता द्वारा वेतन के 10 प्रतिशत तक योगदान (मूल प्लस महंगाई भत्ता) को धारा 80सीसीडी (2) के तहत कर योग्य आय से कटौती के रूप में दावा किया जा सकता है और यह 1.5 लाख रुपये की अधिकतम सीमा से अधिक है। हालांकि, यदि आप कर लाभ नहीं लेना चाहते हैं या पहले से ही नई कर व्यवस्था का विकल्प चुन चुके हैं (धारा 80CCD(2) की अनुमति है), तो एनपीएस कर लाभ आपके लिए मददगार नहीं होंगे।

पढें Personal Finance समाचार (Personalfinance News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
पश्चिम बंगाल में सियासी बदलाव के संकेतRajasthan BJP Government
अपडेट