ताज़ा खबर
 

कोरोना काल में आईपीओ ने महिलाओं को बनाया इंवेस्‍टर, पिछले साल 77 फीसदी का इजाफा

कोरोना काल शेयर बाजार में लिस्‍ट होने के लिए जितने आईपीओ आए हैं उतने कभी भी देखने को नहीं मिले। जिसकी वजह से महिलाओं और युवाओं में भी आईपीओ में निवेश करने की चाह बढ़ी है।

देश के आर्थिक और सामाजिक विकास में महिलाओं का योगदान बहुत ज्यादा है।

कोरोना काल में महिलाओं से लेकर युवाओं तक सभी को शेयर बाजार का निवेशक बना दिया है, लेकिन ये ऐसे निवेशक हैं, जो शेयरों में नि‍वेश नहीं करते हैं। उनके पास उतना रुपया कहां, जहां यह निवेश करें। लेकिन आईपीओ ने उन्‍हें निवेशक जरूर बना दिया है। क्‍योंकि यहां निवेश करना काफी आसान होने के साथ कम रुपए से भी शुरूआत कर सकते हैं।

वास्‍तव में बीते वित्‍त वर्ष में करीब डेढ़ करोड़ डिमैट अकाउंट खुले हैं, जिनमें से 77 फीसदी डिमैट अकाउंट महिलाओं के हैं। जानकारों की मानें कोरोना काल में आईपीओ भरमार रही है। जिसमें महिलाओं और युवाओं का रुझान देखने को मिला है। जिसकी प्रक्रिया सरल होने के साथ छोटे समय में बड़ा फायदा मिलता है। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर किस तरह के आंकड़े सामने आ रहे हैं।

लगातार बढ़ रही है महिला निवेशकों की संख्‍या : महिला निवेशकों की संख्‍या में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है। आंकड़ों के अनुसार वित्त वर्ष 2019 के मुकाबले 2020-21 में 77 फीसदी अधिक महिलाएओं ने डीमैट अकाउंट खुलवाया है। जबकि वित्त वर्ष 2018-19 के मुकाबले 2019-20 में महिलाओं की ओर से 66 डीमैट अकाउंट खुलवाए थे।

जानकार क्या बताते हैं कारण : आईआईएफएफल के वाइस प्रेसीडेंट (करेंसी एंड कमोडिटी) अनुज गुप्ता के अनुसार ज्‍यादा से ज्‍यादा डीमैट अकाउंट खुलने की वजह है आईपीओ। बीते एक साल या यूं क‍हें कि कोरोना काल में आईपीओ ने मोटी कमाई कराई है। बीते सोमवार को जीआर इन्फ्रा और क्लीन साइंस के शेयर करीब 100 फीसदी ऊंचे दाम पर लिस्‍ट हुए थे। यानी निवेशकों को 100 फीसदी का फायदा हुआ है। मौजूदा समय में 6.5 करोड़ डीमैट अकाउंट हैं, जिनकी संख्‍या अगले साल कतक 12 करोड़ तक पहुंच सकती है।

युवाओं में भी बढ़ा क्रेज : कोरोना काल में यूथ का भी शेयर बाजार खासकर आईपीओ की ओर क्रेज काफी बढ़ा है। अनुज गुप्ता के अनुसार आईपीओ में आवेदन के करने के बाद उसका डिस्‍ट्रीब्‍यूशन लॉट्री से होता है। ऐसे में अब परिवार में 18 साल से अधिक उम्र के सभी की डीमैट खाता खुलवाने पर जोर है। इससे आईपीओ मिलने की संभावना बढ़ जाती है।

इन लोगों का भी बढ़ रहा है आकर्षण : वहीं दूसरी ओर आईपीओ में म इनकम वालों का भी आकर्षण बढ़ रहा है। अब लोग मुनाफे के लिए लंबा इंतजार नहीं करते हैं। अब वो आईपीओ में निवेश कर कुछ ही दिनों में मोटी कमाई करने की जुगत लगा रहे हैं। इससे एक फायदा यह भी है कि मार्केट के रिस्‍क से बचे रहेंगे और कम समय में मुनाफा कमाकर अलग हो जाएंगे और दूसरे आईपीओ के आने का इंतजार करेंगे।

डीमैट अकाउट खोलने के नियम हैं आसान : हाल के सालों में सेबी की ओर से डीमैट अकाउंट खोलने के नियमों को काफी लचीला कर दिया है। अब आप घर बैठकर भी आराम से एक क्‍लि‍क पर डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं। केवाईसी प्रोसेस को सरल किया है। अब आप मोबाइल के ऐप के माध्‍यम से आईपीओ में निवेश कर सकते हैं।

 

Next Stories
1 राहुल बजाज की इस कंपनी ने 12 साल में दिया 1,34,466.81 फीसदी का रिटर्न, 50 हजार के करीब सात करोड़ बनाए
2 महंगाई के दौर में एलपीजी सिलेंडर पर हो सकती है 900 रुपए की बचत, पेटीएम करेगा आपकी मदद
3 SIP Calculator : एलआईसी के इन म्‍यूचुअल फंड एसआईपी में निवेश से हो सकता है बड़ा फायदा
यह पढ़ा क्या?
X