Post Office की इस स्‍कीम में हर माह 1000 रुपये का निवेश देगी आपको लाखों का फंड, समझें कैसे?

पोस्ट ऑफिस की MIS योजना में कोई भी भारतीय नागरिक निवेश कर सकता है। मासिक निवेश योजना का अकाउंट खुलवाने के लिए अकाउंट होल्डर की उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए। इसके अलावा एक व्यक्ति एक साथ अधिकतम 3 अकाउंट को होल्डर बन सकता है।

Post Office, MIS, Investment Plan, Highest Interest,
पोस्ट ऑफिस की MIS स्कीम में मिलती है 6.6 प्रतिशत ब्याज ।

देश भर में इंडियन पोस्ट ऑफिस अपनी सभी शाखाओं में निवेश करने का अवसर लोगों को प्रदान करता है। ऐसे में इंडियन पोस्ट ऑफिस ने कई ऐसी निवेश की स्कीम लॉन्च की हैं। जो किसी दूसरी जगह किए गए निवेश से ज्यादा और सुरक्षित रिटर्न देती हैं। आपको बता दें पोस्ट ऑफिस की ज्यादातर स्कीम में देश का कामकाजी वर्ग सबसे ज्यादा निवेश करता है। इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह यह है कि, पोस्ट ऑफिस में कम रकम को भी निवेश करने का मौका मिलता है। इसके साथ ही पोस्ट ऑफिस बैंक और दूसरी संस्थाओं की अपेक्षा सबसे ज्यादा ब्याज देता है। ऐसे में अगर आप भी पोस्ट ऑफिस में निवेश करने की सोच रहे हैं। तो हम आपको पोस्ट ऑफिस की मासिक निवेश योजना (MIS) के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसमें आप हर महीने 1 हजार रुपये निवेश करके रिटर्न के तौर पर लाखों रुपये पा सकते हैं।

MIS में कौन कर सकता है निवेश – पोस्ट ऑफिस की MIS योजना में कोई भी भारतीय नागरिक निवेश कर सकता है। मासिक निवेश योजना का अकाउंट खुलवाने के लिए अकाउंट होल्डर की उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए। इसके अलावा एक व्यक्ति एक साथ अधिकतम 3 अकाउंट को होल्डर बन सकता है। इस स्कीम में आप 10 साल से उपर के बच्चों का नाम भी अकाउंट खुलवा सकते हैं। लेकिन इसका फायदा 18 साल की उम्र के बाद ही मिलता है।

MIS में कैसे कर सकते हैं निवेश – पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में सिंगल या जॉइट अकाउंट के तहत एक मुश्त राशि जमा की जाती है। जो कि 1 हजार रुपये से 4 लाख 50 हजार रुपये तक हो सकती है। उस राशि के हिसाब से आपके अकाउंट में हर महीने पैसा आता रहाता है। ह स्कीम 5 साल की है। यानी इसका का लॉक-इन पीरियड 5 साल का है। जिसे आगे भी 5-5 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है।

MIS का मैच्योरिटी पीरियड – इस स्कीम में आपका किया हुआ निवेश 5 साल के लिए लॉक हो जाता है। जिसे आप 5 साल बाद बंद कर सकते हैं या फिर 5 साल के लिए आगे बढ़ा सकते हैं। वहीं इस दौरान अगर अकाउंट होल्डर की मृत्यु हो जाती है तो अकाउंट बंद करके पैसे को नॉमिनी को दे दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: EPF से रिटायरमेंट पर मिल सकते हैं 2.79 करोड़ रुपए, बेसिक सैलरी का 24% करना होगा निवेश, यह हैं डिटेल्स

मैच्योरिटी पीरियड से पहले ऐसे बंद होता है अकाउंट – पोस्ट ऑफिस की MIS स्कीम में आप अपना निवेश 1 साल तक नहीं निकाल सकते। अगर आप 1 से 3 साल के बीच में पैसे निकालते हैं। तो मूलधन की 2 फीसदी राशि काटकर पैसे लौटा दिए जाते हैं। वहीं अगर 3 से 5 साल के बीच में निवेश निकालते हैं। तो मूलधन में से 1 फीसदी राशि काटकर पैसे वापस कर दिए जाते है।

यह भी पढ़ें: जीवन बीमा प्रीमियम अगले महीने से होगा महंगा! 30-40 फीसदी ज्यादा देना होगा प्रीमियम, जानिए क्या है वजह

MIS पर मिलती है इतने प्रतिशत ब्याज – सरकार ने पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम के लिए 6.6 फीसदी सालाना ब्याज दर तय की है। अगर किसी निवेशक ने इसमें जॉइंट अकाउंट के जरिए 9 लाख रुपये का निवेश किया है तो सालाना उसका ब्याज 6.6 फीसदी की दर से 59,400 रुपए होता है। इस लिहाज से आपके ब्याज की मंथली रकम 4,950 रुपए होती है। जिसे आप हर महीने ले सकते है। इसके साथ ही इसमें इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के तहत आय में छूट का दावा भी कर सकते हैं।

पढें Personal Finance समाचार (Personalfinance News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
क‍िसी भी स्‍मार्टफोन में ये समस्‍याएं हैं आम, ऐसे कर सकते हैं समाधान