यूपी में ESIC के सदस्य कर्मचारियों के लिए खुशखबरी! नौकरी बदलने पर भी मिलेगा तुरंत बीमा लाभ

इस चीज का जिम्मा नियोक्ताओं को सौंपा गया है। उन्हें ईपीएफओ की वेबसाइट पर यूएएन नंबर लिंक करने का पेज मुहैया कराया गया है। साथ ही यूएएन से बीमा नंबर लिंक करने के लिए भी कह दिया गया है।

Insurance, ESIC, Utility News
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः freepik)

उत्तर प्रदेश में राज्य कर्मचारी बीमा निगम (ईएसआईसी) के सदस्य कर्मचारियों को आने वाले वक्त में नौकरी बदलने पर भी तुरंत बीमा लाभ मिल सकेगा। दरअसल, मेबर कर्मचारियों का इंश्योरेंस नंबर जल्द ही कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी ईपीएफओ के यूएएन (यूनिवर्सल अकाउंट नंबर) से लिंक हो जाएगा।

नई व्यवस्था में कर्मचारी अगर नौकरी बदल लेते हैं, तब उनकी बीमा संख्या में किसी प्रकार का फेरबदल नहीं होगा। वे पहले की तरह स्कीम के फायदे हासिल करते रहेंगे। यानी मेंबर को योजना के लाभ के लिए इंतजार नहीं करना होगा। अब तक कर्मचारी द्वारा नौकरी बदलने पर ईएसआईसी में हर बार उनका अलग पंजीकरण होता है, जिससे बीमा नंबर बदल जाता था। वैसे, इसके लिए किसी मेंबर का 78 दिनों का अंशदान ईएसआईसी में जमा होना जरूरी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस चीज का जिम्मा नियोक्ताओं को सौंपा गया है। उन्हें ईपीएफओ की वेबसाइट पर यूएएन नंबर लिंक करने का पेज मुहैया कराया गया है। साथ ही यूएएन से बीमा नंबर लिंक करने के लिए भी कह दिया गया है। बताया गया कि नियोक्ता चाहें तो एक बार में 500 कर्मचारियों के एक्सेल पेज को लिंक कर सकते हैं या फिर वे एक-एक कर के भी यह काम निपटा सकते हैं।

हिंदी दैनिक हिंदुस्तान से बातचीत में ईएसआईसी यूपी के बोर्ड सदस्य श्रीकांत अवस्थी ने बताया कि यह नियम सामाजिक सुरक्षा कड़ी को ध्यान में रखते हुए लागू किया जा रहा है, जिससे सदस्य कर्मचारी को नौकरी चेंज करने के बाद भी उक्त लाभ के लिए किसी प्रकार का इंतजार नहीं करना होगा।

बता दें कि कर्मचारी राज्य बीमा (“ईएसआई”) एक अंशदायी कोष है, जिसमें नियोक्ता और कर्मचारी दोनों का योगदान होता है। भारतीय कर्मचारियों को स्व-वित्तपोषित, स्वास्थ्य देखभाल, बीमा कोष में भाग लेने में सक्षम बनाता है। ईएसआई, कर्मचारियों के लिए सबसे बड़ी एकीकृत आवश्यकता-आधारित सामाजिक बीमा योजना कही जा सकती है।

ईएसआई योजना अधिनियम में परिभाषित सभी कारखानों और अन्य प्रतिष्ठानों पर लागू होती है, जिसमें ऐसे प्रतिष्ठान में 10 या अधिक व्यक्ति कार्यरत हैं और लाभार्थियों का मासिक वेतन 21,000 रुपए से अधिक नहीं है, इस योजना के तहत कवर किया जाते हैं।

पढें Personal Finance समाचार (Personalfinance News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट