scorecardresearch

EPFO पोर्टल पर ई नॉमिनेशन जोड़ने में आ रही दिक्‍कत, जानिए कबतक कर सकते हैं यह काम

पोर्टल पर ई-नामांकन के ई-हस्ताक्षर के लिए असफल वाले संदेश प्राप्‍त हो रहे हैं। सभी निर्धारित दिशा-निर्देशों का पालन करने के बावजूद भी काम सही से नहीं हो पा रहा है। एक उपयोगकर्ता ने ट्विटर पर इस बारे में जानकारी दी है।

EPFO News
EPFO पोर्टल पर ई नॉमिनी भरने में आ रही दिक्‍कत, उपयोगकर्ताओं ने की शिकायत (फाइल फोटो)

कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन (EPFO) ने अपने पोटर्ल पर ग्राहकों को ई नॉमिनेशन जोड़ना अनिवार्य कर दिया है। पोर्टल की ओर से कहा गया है कि नॉमिनी जोड़ने के बाद ही योजना का लाभ नहीं लिया जा सकता है। वहीं एक रिपोर्ट के अनुसार ई नॉमिनी जोड़ने में लोगों को समस्‍या का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे ही पिछले महीने के दौरान पोर्टल में त्रुटि, ई-साइन प्रक्रिया को पूरा करने में असमर्थता और सर्वर जैसी समस्‍या भी सामने आई थी। अब फिर एक बार इन समस्‍याएं सामने आई है।

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि लोगों को ई नॉमिनी जोड़ने में दस्‍तावेज अपलोड करने और सर्वर जैसी समस्‍या सामने आ रही है। इसे लेकर ईपीएफओं ने कहा है कि ग्राहकों के लिए ई-नामांकन पंजीकरण आवश्यक है क्‍योंकि निवेशक की मौत के बाद उसके परिवार को लाभ देने के लिए यह करना महत्‍वूर्ण है।

कब तक कर सकते हैं ई नॉमिनेशन
अगर आप ई नॉमिनेशन जोड़ना चाहते हैं तो आप इसे आसानी से पोर्टल पर जाकर कर सकते हैं। सेवानिवृत्ति निधि निकाय ने पहले ई-नामांकन सुविधा के लिए पंजीकरण के लिए 31 दिसंबर की समय सीमा तय की थी। 29 दिसंबर को एक ट्वीट में जानकारी दी गई कि नॉमिनी जोड़ने के लिए कोई समय सीमा नहीं है। नामांकन नामांकित व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा लाभों (पीएफ, पेंशन, ईडीएलआई) को ऑनलाइन एक्सेस करने में मदद करता है। सदस्यों के लिए शीघ्र पेंशन दावा निपटान में भी मदद करता है। अभी तक ई-नामांकन दाखिल करने की कोई समय सीमा तय नहीं की गई है।

यह भी पढ़ें: Multibagger stock: यहां 10,000 रुपये का निवेश तीन महीने में बन गया 25 लाख की रकम, जानिए कैसे?

क्‍या आ रही है समस्‍या
बताया जा रहा है कि पोर्टल पर ई-नामांकन के ई-हस्ताक्षर के लिए असफल वाले संदेश प्राप्‍त हो रहे हैं। सभी निर्धारित दिशा-निर्देशों का पालन करने के बावजूद भी काम सही से नहीं हो पा रहा है। एक उपयोगकर्ता ने ट्विटर पर इस बारे में जानकारी दी है। कुछ उपयोगकर्ताओं ने अपने पासबुक विवरण तक पहुंचने में असमर्थ होने की भी शिकायत की। हालांकि, अधिकारियों ने कहा कि आधार से जुड़े ईपीएफ खातों के लिए पासबुक विवरण उपलब्ध हैं।

द इंडियन एक्सप्रेस द्वारा संपर्क किए जाने पर, ईपीएफओ के अधिकारियों ने कहा कि सिस्टम पासबुक या दावों के लिए लॉग इन करने पर ई-नामांकन दाखिल करने के लिए प्रेरित करता है और इसलिए, कई उपयोगकर्ता ई-नामांकन प्रक्रिया का प्रयास कर रहे हैं। बता दें कि 1 जनवरी से ईपीएफ सदस्यों द्वारा लगभग 12 लाख ई-नामांकन दाखिल किए गए हैं और कुल 53.56 लाख सदस्यों ने ई-नामांकन दाखिल किया है।

पढें Personal Finance (Personalfinance News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.