क्रि‍प्‍टोकरेंसी में अब तक का सबसे बड़ा फ्रॉड, करीब 27 हजार करोड़ के बिटक्‍वाइन लेकर गायब हुए अफ्रीकी बंधू

क्रिप्‍टोकरेंसी से जुड़े क्राइम बीते 4 सालों में 12 गुना तक बढ़ चुके हैं। 2016 में 704 केस रिपोर्ट हुए जो 2020 में 9000 तक पहुंच चुके हैं। अब दुनिया में बिटक्‍वाइन ही नहीं क्रि‍प्‍टोकरेंसी से जुड़ा अब तक का सबसे बड़ा फ्रॉड सामने आया है। जिसे दक्षिण अफ्रीका के दो भाइयों ने अंजाम दिया है।

Bitcoin, Cryptocurrency
Representations of cryptocurrency Bitcoin are seen in this picture illustration taken June 7, 2021. REUTERS/Edgar Su/Illustration

क्रिप्‍टोकरेंसी या यूं कहें कि बिटक्‍वाइन में फ्रॉड या क्राइम से रिलेटिड काफी मामले सामने आ चुके हैं, लेकिन जो मामला अभी सामने आया है वो बिटक्‍वाइन से जुड़ा दुनिया का सबसे बड़ा फ्रॉड है। जिसे 21 एवं 17 साल के दो अफ्रीकी भाइयों ने अंजाम दिया है। वो निवेशकों के 3.6 बिलियन डॉलर यानी करीब 27 हजार करोड़ रुपए की वैल्‍यू के बिटक्‍वाइन लेकर इस तरह से गायब हो गए हैं, जैसे गधे के सिर से सींघ। दक्षि‍ण अफ्रीकी पुलिस अभी तक इन दोनों भाइयों को पकड़ पाने में नाकाम साबित हुई है। पुलिस और जांच एजेंसियां अब इस बात का पता लगाने में जुटी हुई हैं कि दोनों भाई किसी एक्‍सचेंज में इन्‍हें भुनाने की कोशिश में तो नहीं जुटे हुए हैं।

वहीं जब से इस बात की खबर मार्केट में फैली है तब से क्रिप्‍टोकरेंसी मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। बिटक्‍वाइन के दाम में बीते 24 घंटे में 10 फीसदी से ज्‍यादा दाम टूट चुके हैं। मौजूइा समय में भी बिटक्‍वाइन 6 फीसदी की गिरावट के साथ कारोबार कर रहा है। वहीं दुनिया की दूसरी क्रिप्‍टोकरेंसी में बड़ी गिरावट देखने को मिल रही है। बिटक्‍वाइन के खिलाफ पहले ही नेगेटिव सेंटीमेंट बन रहे थे अब इस घटना के बाद से इसमें और नुकसान होने की उम्‍मीद है।

काजी बंधुओं ने खोली थी कंपनी : ब्‍लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार दक्षिण अफ्रीका 17 साल के अमीर काजी और 20 साल के रईस काजी ने 2019 अफ्रीक्रि‍प्‍ट नाम की इनवेस्टमेंट कंपनी खोली थी। इस कंपनी ने शुरुआत में निवेशकों को बंपर रिटर्न देकर भरोसा जीता। उसके बाद शुरू हुआ दुनिया के सबसे बड़े क्रिप्‍टो फ्रॉड का खेल। अप्रैल में रईस काजी की ओर से दावा किया गया कि कंपनी हैकिंग का शिकार हो गई है। उन्‍होंने सभी क्‍लाइंट्स को पुलिस में कंप्‍लेन करने से मना किया और कहा कि इससे मिसिंग फंड्स की रिकवरी होना मुश्‍किल होगा।

देश छोड़कर भागे दोनों बंधु : फ‍िर क्‍या था दोनो काजी बंधु देश को छोड़कर भागने में कामयाब हो गए। दक्षिण अफ्रीकी पुलिस दोनों को पकड़ने में नाकामयाब साबित हुई। पुलिस की ओर से जो बयान आया है वो यह है कि अभी तक दोनों भाइयों का कुछ पता नहीं चल सका है और इन क्‍वाइन को कैश के रूप में अभी तक बदला है या नहीं। मामला 3.6 बिलियन डॉलर यानी करीब 27 हजार करोड़ रुपए के बिटक्‍वाइन का है।

अब यह जानने की कोश‍िश : ब्‍लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार इंवेस्‍टर्स की ओर से केपटाउन की लॉ फर्म हानेकन अटॉर्नीज को केस सौंपा, जिसने देश की पुलिस हॉक्स को इस घटना के बारे में बताया, लेकिन वह दोनों बंधुओं को पकड़ने में नाकामयाब साबित हुई। अब लॉ फर्म और पुलिस दुनियाभर के सभी एक्‍सचेंज में यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि कहीं दोनों भाई कैश में बदलने की कोश‍िश में तो नहीं है।

बिटक्‍वाइन की कीमतों पर पड़ा असर : इस घटना के बाद बिटक्‍वाइन की कीमत पर काफी बुरा असर देखने को मिल रहा है। बिटक्‍वाइन के दाम आज 10 फीसदी से ज्‍यादा गिरकर 30190 डॉलर के निचले स्‍तर पर चला गया था। जबकि आज पिछले सत्र के मुकाबले बिटक्‍वाइन के दाम 33285 डॉलर पर ओपन हुए थे। मौजूदा समय में बिटक्‍वाइन की कीमत 4.30 फीसदी की गिरावट के साथ 31831 डॉलर पर है।

4 साल में 12 गुना तक बढ़ा क्रिप्‍टोक्राइम : यूके की वेबसाइट आईटीप्रो की ओर से 22 जून को एक रिपोर्ट प्रकाश‍ित हुई थी। जिसमें कहा गया है कि क्रिप्टो अपराध की घटनाएं हर साल औसतन 124 फीसदी की दर से बढ़ रही हैं। पिछले चार वर्षों में क्रिप्टोकरेंसी से संबंधित अपराध 12 गुना बढ़ गए हैं। 2016 में जहां 704 रिपोर्ट दर्ज की गई थीं, वहीं 2020 में लगभग 9,000 मामले हो गए हैं।

पढें Personal Finance समाचार (Personalfinance News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट