ताज़ा खबर
 

7th Pay Commission : डीए बढ़ोतरी की खुशखबरी के पीछे छिपी है बहुत बड़ी मायूसी, केंद्रीय कर्मचारियों को हुआ नुकसान

केंद्र सरकार ने महंगाई भत्‍ता बहाल करने के साथ डीए में 11 फीसदी का इजाफा कर दिया है। उसके साथ ही एक और बात साफ हो गई है कि केंद्रीय कर्मचारियों को जुलाई से ही महंगाई भत्‍ता मिलेगा। ना कि बीते 18 महीनों का एरियर। ऐसे और भी कई सवाल हैं जो केंद्र कर्मचारियों और पेंशनर्स को परेशान कर रहे हैं।

APAR की रिकॉर्डिंग की समय सीमा बढ़ा दी है। (प्रतीकात्मक फोटो) (फोटो – The Indian Express)

देश के 65 लाख से ज्‍यादा केंद्रीय कर्मचारियों और 48 लाख से ज्‍यादा पेंशनर्स को महंगाई भत्‍ता बहाल करने के साथ काफी राहत दी है। साथ ही मंहगाई भत्‍ते को 17 फीसदी से 28 फीसदी कर दिया है। यानी केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनर्स को दोगुनी खुशी दे दी है। जब से यह ऐलान कैबिनेट की ओर से किया गया है कि तब से कर्मचारियों और पेंशनर्स के मन कई तरह के सवाल भी है।

वास्‍तव में सरकार ने खुशी तो दी, लेकिन उसके पीछे एक बड़ी मायूसी भी छिपी हुई है और वो है डेढ़ साल का एरियर ना मिलना। यानी जो बढ़ा हुआ महंगाई भत्‍ता मिलेगा वो जुलाई 2021 से मिलेगा। यानी सिंतंबर की सैलरी में दो महीने के एरियर के साथ। यानी डेढ़ साल का मोटा एरियर नुकसान में चला गया है। ऐसी और भी कई बातें हैं जिन्‍हें आपको समझना काफी जरूरी है।

जुलाई से लागू होगा डीए : एक बात साफ-साफ समझने की है और वो है कि महंगाई भत्‍ता बहाल 1 जुलाई 2021 से ही लागू माना जाएगा। वहीं बढ़ा हुआ डीए किस महीने से आएगा अभी यह फैसला नहीं हो सकेगा। अगर नोटिफ‍िकेश अगले दो दिनों में आ जाता है तो बढ़ा हुआ डीए इसी महीने से आना शुरू हो जाएगा। वर्ना इसके लिए अगले महीने का इंतजार करना पड़ेगा। वास्‍तव में सैलरी बनना 16 तारीख से शुरू होती है। अगर नोटिफिकेशन पर ड‍िपेंड करता है किे कब तक जारी होता है।

नहीं मिलेगा डीए : कोरोना वायरस की वजह से केंद्र सरकार ने जनवरी 2020 से ही कर्मचारियों के महंगाई भत्‍ते पर रोक लगा दी थी। तब से अब तक उन्‍हें पुरानी दरों पर ही महंगाई भत्‍ता मिल रहा थ। अब सरकार ने डीए को बहाल कर दिया है। वहीं केंद्र सरकार ने एक और बात साफ कर दी है कि केंद्रीय कर्मचारियों का यानी उन्हें पुरानी दर 17 फीसदी के हिसाब से ही डीए मिल रहा था। अब सरकार ने फैसला किया है 1 जनवरी 2020 से लेकर 30 जून 2021 तक केंद्रीय कर्मचारियों का डीए 17 फीसदी ही रहेगा। बढ़ा हुआ डीए जुलाई 2021 से लागू होगा। इसका मतलब साफ है कि पिछले करीब 18 महीनों का कोई एरियर नहीं मिलेगा।

खुशखबरी में छिपी हुई है मायूसी : जब प्रेस कांफ्रेस कर केंद्रीय मंत्रीने डीए और डीआर को 17 फीसदी से 18 फीसदी का दिया है तो यह किसी बड़ी किसी खुशखबरी से कम नहीं था, लेकिन जब उन्‍होंने कहा कि यह दर जुलाई से लागू होगी। साथ जनवरी 2020 से जून 2021 तक डीए 17 फीसदी ही लागू रहेगा यानी 18 महीनों का एरियर नहीं मिलेगा। तो सारी खुशी गम में तब्‍दील होने लगी। जोकि एक बहुत बड़ा नुकसान भी है। जानकारों की मानें तो हर बार की तरह रुटी में महंगाई भत्‍ते में इजाफा होता रहता तो जनवरी 2021 में महंगाई भत्‍ता 28 फीसदी पर पहुंच जाता। ऊपर से भले ही यह फैसला खुशी देने वाला हो, लेकिन अंदर से एक बड़ी मायूसी ही छिपी हुई है।

कितना होगा इजाफा : सवाल यह है कि इस दर से कर्मचारियों की सैलरी में कितना इजाफा देखने को मिलेगा। यह सब कर्मचारियों की बेसिक सैलरी पर डिपेंड करता है। वास्‍तव में हर कर्मचारियों की बेसि‍क सैलरी अलग होती है। अगर किसी बेसिक सैलरी 10000 रुपए है तो उसका महंगाई भत्‍ता 1700 रुपए से 2800 रुपए हो जाएगा। वहीं किसी बेसिक सैलरी 20000 रुपए है तो महंगाई 5600 रुपए हो जाएगा।

पेंशनर्स को क्‍या होगा फायदा : वहीं दूसरी ओर पेंशनर्स को भी फायदा होगा। जिस तरह से काम करने वालों की बेसिक सैलरी होती है वहीं रिटायर्ड कर्मचारियों की बेसिक पेंशन होती है। डीआर में इजाफे के बाद अगर किसी रिटायर्ड पेंशनर की बेसिक पेंशन 10 हजार रुपए है तो उसकी पेंशन में डीआर 1700 रुपए की जगह 2800 रुपए हो जाएगा।

 

 

Next Stories
1 जुलाई में सोना हो चुका है 1600 रुपए से ज्‍यादा महंगा, जानि‍ए क्‍या कहते हैं जानकार
2 जिस कंपनी को खरीदने की प्‍लानिंग कर रहे हैं अंबानी, उसने 8 साल में निवेशकों के पैसों को कर दिया है डबल
3 SIP Calculator : 20 साल में करोड़पति बनने का फॉर्मूला, जानिए कितना करना होगा निवेश
ये पढ़ा क्या?
X