ताज़ा खबर
 

विज्ञापन में पीएम नरेंद्र मोदी की तस्‍वीर छापने पर पेटीएम और जियो को नोटिस, पूछा- क्‍या परमिशन ली थी?

उपभोक्‍ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने इन कंपनियों से पूछा है कि क्‍या आपने फोटो इस्‍तेमाल करने से पहले अनुमति ली।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतिकात्मक तौर पर (फाइल फोटो)

पेटीएम और रिलायंस जियो को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्‍वीर विज्ञापन में इस्‍तेमाल करने पर नोटिस जारी किए गए हैं। इकॉनॉमिक टाइम्‍स की रिपोर्ट के अनुसार उपभोक्‍ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने इन कंपनियों से पूछा है कि क्‍या आपने फोटो इस्‍तेमाल करने से पहले अनुमति ली। इसके साथ ही उपभोक्‍ता मामलों के मंत्रालय ने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से कहा है कि वह लोगों को बताएं कि राज्‍य चिह्न और नाम कानून 1950 के तहत जिन नामों और चिह्नों के वाणिज्यिक इस्‍तेमाल पर रोक है उनके लिए पहले अनुमति ली जाए।

पेटीएम ने नोटबंदी के ऐलान के अगले दिन विज्ञापन जारी किया और इस कदम का समर्थन किया था। इस विज्ञापन में पीएम मोदी की बड़ी सी तस्‍वीर लगी थी। वहीं मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो ने डिजीटल इंडिया का समर्थन करते हुए मोदी की तस्‍वीर विज्ञापन में इस्‍तेमाल की थी। इसके बाद इन दोनों कंपनियों की काफी आलोचना हुई थी। साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी विपक्ष के निशाने पर आ गए थे। विपक्षी दलों ने उन पर इन कंपनियों का करीबी होने का आरोप लगाया था।

कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने तो पेटीएम की व्‍याख्‍या करते हुए इसे पे टू मोदी करार दे दिया था। उन्‍होंने कहा था, ”कैशलेस इकॉनमी का यही आइडिया है। कुछ लोगों को ज्‍यादा से ज्‍यादा फायदा हो। यही चल रहा है।” वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने भी मोदी पर हमला किया था। उन्‍होंने कहा था, ”भारत के प्रधानमंत्री एक कंपनी के सेल्‍समैन बन गए हैं, जिस कंपनी के 40 प्रतिशत शेयर ब्‍लैकलिस्‍टेड चीनी कंपी के पास है।” दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी पीएम मोदी पर पेटीएम को मदद पहुंचाने का आरोप लगाया था। जियो के पीएम मोदी के तस्‍वीर इस्‍तेमाल करने के बाद रिपोर्ट आर्इ थी जिसमें कहा गया था कि रिलायंस पर 500 रुपये का जुर्माना लगाया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App