ताज़ा खबर
 

‘हीरो’ नाम से इलेक्ट्रिक व्हीकल नहीं बना पाएंगे हीरो मोटोकॉर्प के पवन मुंजाल, पारिवारिक समझौता बना सबसे बड़ी वजह, जानिए पूरी कहानी

Pawan Munjal Hero Motocorp: पवन मुंजाल के नेतृत्व वाला हीरो मोटोकॉर्प इलेक्ट्रिल व्हीकल बनाने की दिशा में काम कर रहा है। पवन के चचेरे भाई के बेटे नवीन मुंजाल का कहना है कि उनके परिवार के अलावा कोई भी इलेक्ट्रिक व्हीकल के लिए 'हीरो' नाम का इस्तेमाल नहीं कर सकता है।

1 जुलाई से कीमतें बढ़ाएगी Hero MotoCorp, आज ही खरीदें अपनी पसंद की बाइक और स्कूटर। (फोटो-LINE17)

मोदी सरकार देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल को बढ़ावा दे रही है। सरकार का सपना है कि 2030 तक देश में केवल इलेक्ट्रिक व्हीकल की बिक्री हो। मोदी सरकार ने देश की तमाम ऑटोमोबाइल कंपनियों से इस दिशा में काम करने को कहा है। देश की सबसे बड़ी टू-व्हीलर निर्माता कंपनी हीरो मोटोकॉर्प भी इलेक्ट्रिक व्हीकल बनाने की दिशा में काम कर रही है। लेकिन हीरो मोटोकॉर्प के एमडी पवन मुंजाल की राह में एक पारिवार समझौता रोड़ा अटका रहा है।

दरअसल, 2010 में हीरो ग्रुप के सभी कारोबारों का मुंजाल परिवार में बंटवारा हुआ था। इसमें हीरो मोटोकॉर्प पवन मुंजाल को मिली थी। जबकि हीरो का ग्रीन टेक्नोलॉजी कारोबार नवीन मुंजाल को मिला है। अब नवीन मुंजाल ने कहा है कि पवन मुंजाल के नेतृत्व वाली हीरो मोटोकॉर्प अपने इलेक्ट्रिक व्हीकल के लिए ‘हीरो’ ब्रांड नाम का इस्तेमाल नहीं कर सकेगी। इसका कारण यह है कि ‘हीरो’ ब्रांड की ग्रीन टेक्नोलॉजी के ग्लोबल राइट्स नवीन मुंजाल और उनके परिवार के पास हैं। नवीन मुंजाल हीरो इलेक्ट्रिक ब्रांड नाम से कारोबार करते हैं।

हीरो नाम के इस्तेमाल पर करेंगे कानूनी कार्रवाई: नवीन मुंजाल ने टीओआई से बातचीत में कहा कि यदि कोई पारिवारिक समझौते का उल्लंघन करता है और हीरो ब्रांड नाम का इस्तेमाल करता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। नवीन ने स्पष्ट किया किया कि ग्रीन व्हीकल्स के लिए हीरो नाम का इस्तेमाल करने का अधिकार केवल उनके परिवार के पास है। हालांकि, परिवार के किसी भी सदस्य पर इलेक्ट्रिक व्हीकल बनाने पर कोई प्रतिबंध नहीं है और वे दूसरे ब्रांड नाम से इलेक्ट्रिक व्हीकल कारोबार कर सकते हैं।

पवन मुंजाल के चचेरे भाई के बेटे हैं नवीन मुंजाल: हीरो इलेक्ट्रिक के एमडी नवीन मुंजाल, पवन मुंजाल के चचेरे भाई विजय मुंजाल के बेटे हैं। नवीन मुंजाल 2017 से हीरो इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर कारोबार को चला रहे हैं। हीरो इलेक्ट्रिक अभी दोपहिया वाहन बनाती है। कंपनी का मुख्यालय दिल्ली में है और इसके 7 देशों में कार्यालय हैं। कंपनी का 27 देशों में इलेक्ट्रिक व्हीकल डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क है। हीरो इलेक्ट्रिक बाइसिकल का उत्पादन भी करती है।

ब्रज मोहन मुंजाल ने की थी हीरो ग्रुप की स्थापना: हीरो ग्रुप की स्थापना ब्रज मोहन मुंजाल ने की थी। ब्रज मोहन मुंजाल कुल चार भाई हैं। इनके अन्य भाइयों का नाम सत्यानंद मुंजाल, ओपी मुंजाल और दयानंद मुंजाल है। बाद में हीरो ग्रुप का इन चारों परिवारों में बंटवारा हो गया था। ब्रजमोहन मुंजाल परिवार को हीरो हीरो मोटोकॉर्प, हीरो माइंडमाइन, इजी बिल, रॉकमैन साइकिल्स, हीरो मैनेजमेंट सर्विस कारोबार मिला। मुंजाल शोआ, मुंजाल ऑचो, मैजेस्टिक ऑटो और सत्यम ऑटोटेक कारोबार सत्यानंद मुंजाल परिवार को मिला। हीरो साइकिल्स और हीरो मोटर्स का कारोबार ओपी मुंजाल परिवार को मिला। वहीं सत्यानंद परिवार को हीरो इलेक्ट्रिक, हीरो एक्सपोर्ट्स, हीरो साइकिल्स और सनबीम ऑटो का कारोबार मिला।

इलेक्ट्रिक व्हीकल सेगमेंट में उतरने की योजना बना रही है हीरो मोटोकॉर्प: देश की सबसे बड़ी टू-व्हीलर निर्माता कंपनी हीरो मोटोकॉर्प लंबे समय से इलेक्ट्रिक व्हीकल सेगमेंट में उतरने की योजना बना रही है। कंपनी अगले साल नया इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर लॉन्च करने की योजना बना रही है। इसके लिए कंपनी राजस्थान के जयपुर और जर्मनी में स्थित रिसर्च एंड डेवलपमेंट (आरएंडडी) यूनिट का सहारा ले रही है। लेकिन नवीन मुंजाल के ताजा बयान के बाद इस योजना में देरी हो सकती है।

27 हजार करोड़ रुपए है पवन मुंजाल की नेटवर्थ: हीरो मोटोकॉर्प के एमडी पवन मुंजाल की कुल नेटवर्थ 3.7 अरब डॉलर करीब 27 हजार करोड़ रुपए है। पवन मुंजाल 2020 में देश के 37वें सबसे अमीर व्यक्ति रह चुके हैं। इनकी कमाई का प्रमुख स्रोत हीरो मोटोकॉर्प है। फोर्ब्स के मुताबिक, दुनियाभर के अमीरों की लिस्ट में पवन मुंजाल 665वें स्थान पर हैं।

Next Stories
1 हम चलते नहीं दौड़ते हैं, रामदेव ने बताई रुचि सोया को संकट से उबारने की कहानी
2 योग के साथ कमाई भी कराएंगे बाबा रामदेव! ला रहे हैं पतंजलि का आईपीओ, जानिए योग गुरु की पूरी योजना
3 सबसे बड़ा आईपीओ ला रही पेटीएम ने लोन देने में बनाया रिकॉर्ड, सिर्फ तीन महीने में 13.8 लाख लोगों को बांटा पैसा
ये पढ़ा क्या?
X