ताज़ा खबर
 

बाबा रामदेव के भाई रामभरत की भी है पतंजलि आयुर्वेद समूह पर मजबूत पकड़, जानिए कैसे

वह ग्रुप की 16 कंपनियों में डायरेक्टर हैं और कई कंपनियों में निदेशक रहे हैं। उनकी पत्नी स्नेहलता भी पतंजलि ग्रुप की 11 कंपनियों में डायरेक्टर हैं। राम भरत को सबसे पहले मां कामाख्या हर्बल्स में डायरेक्टर के तौर पर शामिल किया गया था।

बाबा रामदेव और उनके छोटे भाई राम भरत

बाबा रामदेव के भाई राम भरत हाल ही में रुचि सोया के एमडी बनाए गए हैं। रुचि सोया पतंजलि ग्रुप की कंपनी है, जिसका समूह ने दिसंबर 2019 में अधिग्रहण किया था। इस कंपनी का मार्केट कैपिटलाइजेशन 21 अगस्त (2020) तक 20,000 करोड़ रुपये के करीब था। राम भरत अब तक पतंजलि आयुर्वेद में डायरेक्टर थे और ग्रुप की कई अन्य कंपनियों में भी डायरेक्टर के तौर पर शामिल थे।

पतंजलि आयुर्वेद की बड़ी हिस्सेदारी आचार्य बालकृष्ण के पास है, जबकि राम भरत के पास भी अप्रत्यक्ष रूप से छोटी हिस्सेदारी है और वह एक तरह से दूसरे सबसे बड़े हिस्सेदार हैं। कंपनी की RoC फाइलिंग के मुकताबिक पतंजलि आयुर्वेद में बालकृष्ण की 98.54 पर्सेंट हिस्सेदारी है। इसके अलावा बाकी हिस्सेदारी 6 प्रमोटर कंपनियों में विभाजित है और 1,000 शेयर स्वामी मुक्तानंद के पास हैं।

बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक इन 6 प्रमोटर कंपनियों में से तीन में राम भरत की बड़ी हिस्सेदारी है। वह ग्रुप की 16 कंपनियों में डायरेक्टर हैं और कई कंपनियों में निदेशक रहे हैं। उनकी पत्नी स्नेहलता भी पतंजलि ग्रुप की 11 कंपनियों में डायरेक्टर हैं। राम भरत को सबसे पहले मां कामाख्या हर्बल्स में डायरेक्टर के तौर पर शामिल किया गया था। इस कंपनी के बोर्ड से वह जुलाई 2006 में जुड़े थे और जनवरी 2010 तक शामिल थे। राम भरत का पतंजलि ग्रुप के बिस्किट्स के बिजनेस में बड़ा दखल है। वह पतंजलि नेचुरल बिस्किट्स प्राइवेट लिमिटे़ड के डायरेक्टर हैं और इसी सेगमेंट की एक और कंपनी पतंजलि बिस्किट्स प्राइवेट लिमिटेड में उनकी 38 पर्सेंट हिस्सेदारी है। राम भरत के बहनोई यशदेव शास्त्री भी कंपनी में डायरेक्टर के तौर पर शामिल हैं।

इसके अलावा राम भरत पतंजलि पेय प्राइवेट लिमिटेड में डायरेक्टर हैं और 17 फीसदी की हिस्सेदारी रखते हैं। इस कंपनी की शुरुआत 2019 में हुई थी और यह बोतलबंद पानी दिव्य जल की बिक्री करती है। इसके अलावा पतंजलि की लॉजिस्टिक्स यूनिट पतंजलि परिवहन प्राइवेट लिमिटेड में भी राम भरत की 80 फीसदी हिस्सेदारी है। 2009 में बनी इस कंपनी के वह डायरेक्टर भी थे, लेकिन मार्च 2020 में ही उन्होंने इस्तीफा दे दिया था। उनकी पत्नी स्नेहलता कंपनी के दो डायरेक्टरों में से एक हैं।

पैकेजिंग मैटेरियल की मैन्युफैक्चरिंग करने वाली कंपनी दिव्य पैकमैफ प्राइवट लिमिटेड में राम भरत और उनकी पत्नी की 100 पर्सेंट हिस्सेदारी और दोनों कंपनी के डायरेक्टर हैं। तीन साल पहले पतंजलि ग्रुप ने सिक्योरिटी सर्विसेज के बिजनेस में भी पराक्रम सिक्योरिटी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के नाम से एंट्री की थी। इस कंपनी की 99.9 पर्सेंट हिस्सेदारी पतंजलि परिवहन के पास है, जिसमें राम भरत बड़े शेयरहोल्डर हैं। भारत और यशदेव शास्त्री कंपनी में डायरेक्टर के तौर पर शामिल हैं।

राम भरत यूनिवर्सल टीवी नेटवर्क्स में भी डायरेक्टर हैं। उनके अलावा यशदेव शास्त्री और किशोर एस. मोहट्टा डायरेक्टर (संस्कार टीवी के पूर्व मालिक) हैं। संस्कार टीवी ने ही बाबा रामदेव को लॉन्च किय़ा था और बाबा रामदेव ने बाद में इसी टीवी चैनल को खरीद लिया था। 2010 में कंपनी की स्थापना से लेकर 2018 तक राम भरत इस कंपनी के बड़े शेयरहोल्डर थे, लेकिन फिर उन्होंने अपने शेयर मुक्तानंद को ट्रांसफर कर दिए थे। 31 मार्च, 2018 तक राम भरत के पास 64 फीसदी की हिस्सेदारी थी।

भरत ने कंपनी 2016 से 2019 के दौरान 2.8 करोड़ रुपये का लोन दिया था। कंपनी ने इस लोन में से ही पतंजलि ग्रुप की ही कंपनी आस्था ब्रॉडकास्टिंग नेटवर्क लिमिटेड को 2.5 करोड़ रुपये की रकम दी थी। भरत और उनकी पत्नी स्नेहलता की दिल्ली स्थित कृष्णा दाल मिल प्राइवेट लिमिटेड में 100 फीसदी हिस्सेदारी है। कंपनी का अपने ऑपरेशंस से कोई रेवेन्यू नहीं है, लेकिन यह कंपनी चंडीगढ़ की एक रियल एस्टेट फर्म सनराइज इन्फ्राटेक प्राइवेट लिमिटे़ड में 60 पर्सेंट की हिस्सेदारी रखती है।

RoC फाइलिंग्स (जिसका ब्‍योरा हाल ही में बिजनेस स्‍टैण्‍डर्ड अखबार ने भी छापा है) के मुताबिक कृष्णा दाल मिल पतंजलि ग्रुप की कंपनी नही हैं, लेकिन उसे पतंजलि आयुर्वेद से 2017-18 में 25 करोड़ रुपये का लोन मिला था। पतंजलि के अलावा कंपनी को बाबा हेल्थेकेयर से 4 करोड़ रुपये, सीबी ज्वैलर्स से 8 करोड़ रुपये, केपीजी ज्वैलर्स से 3.2 करोड़ रुपये का लोन मिला था। वहीं कृष्णा दाल मिल ने अपनी सहायक कंपनी सनराइज इन्फ्राटेक को 16 करोड़ रुपये का अनसिक्योर्ड शॉर्ट टर्म लोन दिया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 फेस्टिव सीजन में खरीद सकते हैं महिंद्रा की नई बोलेरो, शानदार ऑफर दे रही है कंपनी, जानें- कीमत और फीचर्स
2 अमीरों की लिस्ट में 31 पायदान चढ़े पतंजलि के सीईओ आचार्य बालकृष्ण, दौलत में 6,000 करोड़ रुपये का इजाफा
3 अर्थव्यवस्था को बचाने और गरीबों की मदद के लिए आनंद महिंद्रा ने केंद्र सरकार को दी यह सलाह
यह पढ़ा क्या?
X