ताज़ा खबर
 

बाबा रामदेव के सहयोगी आचार्य बालकृष्ण धनकुबेरों में 18वें नंबर पर, हजारों करोड़ की दौलत के मालिक

आचार्य बालकृष्ण को पतंजलि आयुर्वेद की रणनीति तैयार करने और उसके हर्बल प्रोडक्ट्स के सेगमेंट को खासतौर पर संभालने के लिए जाना जाता है। पतंजलि आयुर्वेद के वरिष्ठता क्रम में उन्हें बाबा रामदेव के बाद दूसरे नंबर पर माना जाता है।

acharya balkrishnaबाबा रामदेव के साथ पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ आचार्य बालकृष्ण

योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ आचार्य बालकृष्ण देश के अमीरों की लिस्ट में 18वें नंबर पर हैं। हुरुन इंडिया रिच लिस्ट के मुताबिक आचार्य बालकृष्ण की संपत्ति 46,800 करोड़ रुपये की है। लिस्ट के मुताबिक 2019 के मुकाबले उनकी रैंक में कोई बदलाव नहीं हुआ है और वह पहले की तरह ही 18वें नंबर पर हैं। आचार्य बालकृष्ण को पतंजलि आयुर्वेद की रणनीति तैयार करने और उसके हर्बल प्रोडक्ट्स के सेगमेंट को खासतौर पर संभालने के लिए जाना जाता है। पतंजलि आयुर्वेद के वरिष्ठता क्रम में उन्हें बाबा रामदेव के बाद दूसरे नंबर पर माना जाता है।

फोर्ब्स इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक आचार्य बालकृष्ण के पास पतंजलि आयुर्वेद की 98.5 पर्सेंट हिस्सेदारी है। हर्बल टूथपेस्ट, कॉस्मेटिक्स से लेकर नूडल्स तक के बिजनेस में दखल देने वाली कंपनी ने बीते कुछ सालों में तेजी से ग्रोथ की है। फिलहाल कंपनी का सालाना टर्नओवर 10,000 करोड़ रुपये के करीब है। यही नहीं पतंजलि ने ई-कॉमर्स के जरिए भी सेल बढ़ाने पर जोर दिया है। बीते दिनों में कंपनी ने अमेजॉन, फ्लिपकार्ट और बिग बास्केट जैसी कंपनियों से एग्रीमेंट किया है ताकि प्रोडक्ट्स की ऑनलाइन उपलब्धता हो सके। 2019 में ही पतंजलि आयुर्वेद समूह ने एडिबल ऑयल बनाने वाली कंपनी रुचि सोया का अधिग्रहण किया था।

अकसर सफेद वस्त्रों में ही नजर आने वाले आचार्य बालकृष्ण के पास कोई प्रोफेशनल डिग्री नहीं है, लेकिन वह देश के सबसे अमीर सीईओ में से एक माने जाते हैं। बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने 2006 में पतंजलि आयुर्वेद की स्थापना की थी। बता दें कि फाइनेंशियल ईयर 2019-20 में पतंजलि आयुर्वेद के मुनाफे में 38.8 पर्सेंट का इजाफा हुआ था। इसके अलावा कंपनी का रेवेन्यू 6 पर्सेंट बढ़ते हुए 9,024.2 करोड़ रुपये हो गया।

इस यूनिवर्सिटी के कुलपति भी हैं आचार्य बालकृष्ण: वह पतंजलि समूह की ओर से स्थापित पतंजलि यूनिवर्सिटी के कुलपति भी हैं। पतंजलि आयुर्वेद की कामयाबी में अहम भूमिका निभाने वाले बालकृष्ण ने शुरुआती शिक्षा गुरुकुल से ली थी। मौजूदा दौर में शायद वह पहले ऐसे शख्स हैं, जिन्होंने गुरुकुल से शुरुआती पढ़ाई की और अब यूनिवर्सिटी के कुलपति हैं। कहा जाता है कि उन्होंने वाराणसी के संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय से हाई स्कूल और ग्रैजुएशन की डिग्री ली है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 LIC एजेंट ने 65 साल की उम्र में शुरू की थी सोनालिका ट्रैक्टर कंपनी, आज धनकुबेरों में शामिल, पढ़ें दिलचस्प कहानी
2 पीएनबी को सिनटेक्स इंडस्ट्रीज ने लगाया 1,203 करोड़ रुपये का चूना, जानें- क्या है इस कंपनी का कारोबार
3 ड्राइविंग लाइसेंस, आरसी से लेकर ई-चालान तक, ड्राइविंग से जुड़े नियमों में आज से हुए ये अहम बदलाव
IPL Records
X