ताज़ा खबर
 

नोटबंदी के बाद रामदेव के सहयोगी ने दिया था सरप्राइज, इस क्लब में हो गए थे शामिल

चीनी शोध संस्थान ‘हुरून’ ने भारत में 2017 के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट जारी की थी। इस लिस्ट में 70 हजार करोड़ की संपत्ति के साथ आचार्य बालकृष्ण को भारत का आठवां सबसे अमीर व्यक्ति बताया गया।

रामदेव के सहयोगी आचार्य बालकृष्ण देश के बड़े अरबपतियों में शुमार हैं। (Photo-Indian Express )

योग गुरु बाबा रामदेव के सहयोगी आचार्य बालकृष्ण देश के बड़े अरबपतियों में शुमार हैं। पतंजलि आयुर्वेद के कारोबार को संभाल रहे आचार्य बालकृष्ण ने कई ऐसे मौके आए हैं जब लोगों को चौंकाया है। इन्हीं में से एक मौका साल 2017 का था।

दरअसल, चीनी शोध संस्थान ‘हुरून’ ने भारत में 2017 के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट जारी की थी। इस लिस्ट में 70 हजार करोड़ की संपत्ति के साथ आचार्य बालकृष्ण को भारत का आठवां सबसे अमीर व्यक्ति बताया गया। साल 2017 में ही देश में नोटबंदी के बाद स्थिति सामान्य हो रही थी। आपको यहां बता दें कि आठ नवंबर 2016 को देश में नोटबंदी लागू किया गया था। (ये पढ़ें—रामदेव की कंपनी से 13 निवेशकों की शिकायत)

इसके बाद से 500 और 1000 रुपये के नोट अमान्य हो गए थे। इसके एवज में 500 रुपये की नई करंसी लाई गई जबकि 2000 रुपये के नोट भी जारी हुए थे। साल 2016 में अमीर लोगों की लिस्ट में बालकृष्ण 25वें स्थान पर थे। जबकि 2017 में उनकी संपत्ति में 173 फीसदी तक की बढ़ोतरी हुई । इस साल ये किसी भी भारतीय कारोबारी की सबसे बड़ी बढ़ोतरी थी।

रामदेव के सहयोगीः बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने पतंजलि आयुर्वेद की शुरुआत की थी, तभी से कंपनी का कारोबार बालकृष्ण देख रहे हैं। पतंजलि आयुर्वेद के वरिष्ठता क्रम में उन्हें बाबा रामदेव के बाद दूसरे नंबर पर माना जाता है। अकसर सफेद वस्त्रों में ही नजर आने वाले आचार्य बालकृष्ण के पास कोई प्रोफेशनल डिग्री नहीं है, लेकिन वह देश के सबसे अमीर सीईओ में से एक माने जाते हैं।

रामदेव की एक अन्य कंपनी रुचि सोया में भी बालकृष्ण का दखल है। वह पतंजलि समूह की ओर से स्थापित पतंजलि यूनिवर्सिटी के कुलपति भी हैं। फोर्ब्स के मुताबिक 48 साल के आचार्य बालकृष्ण की दौलत 2 बिलियन डॉलर से ज्यादा है। वह दुनिया की रैंकिंग में 1,444 वें अरबपति हैं। (ये पढ़ें—जब रामदेव और अडानी के बीच हुई टक्कर)

पतंजलि के बारे मेंः हर्बल टूथपेस्ट, कॉस्मेटिक्स से लेकर नूडल्स तक के बिजनेस में दखल देने वाली कंपनी ने बीते कुछ सालों में तेजी से ग्रोथ की है। यही नहीं पतंजलि ने ई-कॉमर्स के जरिए भी सेल बढ़ाने पर जोर दिया है। वित्त वर्ष 2019-20 में पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड ने 21.56 प्रतिशत मुनाफा कमाया था। यह मुनाफा 424.72 करोड़ रुपये का रहा। हालांकि, वित्त वर्ष 2020-21 के नतीजे अभी नहीं जारी किए गए हैं।

Next Stories
1 कर्ज का जाल लेकिन इस मामले में अब भी बड़े भाई मुकेश से आगे हैं अनिल अंबानी
2 मुकेश अंबानी के एंटीलिया जैसा है इस अरबपति का घर, हेलीपैड तक का है इंतजाम
3 कोरोना की लहर में इस अरबपति की कंपनी ने पकड़ी रॉकेट की रफ्तार, निवेशकों को बड़ा फायदा
यह पढ़ा क्या?
X