ताज़ा खबर
 

IRCTC: फ्लेक्सी फेयर में राहत, जानें किन लोगों को सबसे पहले और कब से मिलेगा फायदा

कम सीटें भरने के कारण जिन रेलगाड़ियों से फ्लेक्सी किराया योजना को हटाया जाएगा, उनमें कालका-नई दिल्ली शताब्दी, हावड़ा-पुरी राजधानी, चेन्नै-मदुरै दुरंतो, गुवाहाटी-डिब्रूगढ़ शताब्दी और दिल्ली-बठिंडा शताब्दी शामिल है।

Author November 4, 2018 10:42 AM
प्रीमियम ट्रेनों में यात्रा करने वालों को लाभ मिलेगा। (फोटो सोर्स : Indian Express)

रेलवे द्वारा फ्लेक्सी किराया योजना में संशोधन का सबसे पहला लाभ मार्च, 2019 में प्रीमियम ट्रेनों में यात्रा करने वालों को मिलेगा। रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गुरुवार को यह जानकारी दी। रेलवे ने बुधवार को यात्रियों को राहत देते हुए सालभर में 50 प्रतिशत से कम बुकिंग वाली 15 प्रीमियम रेलगाड़ियों पर से फ्लेक्सी किराया योजना को समाप्त कर दिया। कम मांग वाले मौसम में, जब टिकट बुकिंग 50 से 75 प्रतिशत तक घट जाती है, ऐसी 32 गाड़ियों में फ्लेक्सी किराया योजना लागू नहीं होगी। इसके अलावा रेलवे ने 101 ट्रेनों में फ्लेक्सी किराये की दर को आधार मूल्य के 1.5 गुना के बजाय 1.4 गुना कर दिया है। रेलवे जहां अपने पोर्टल और अन्य लॉजिस्टिक्स को लेकर अपने पोर्टल पर संशोधित योजना और आवश्यक बदलावों के साथ तैयार हो रही है, नई प्रणाली 120 दिन पहले बुक कराई गई टिकट के साथ शुरू होगी।

अधिकारी ने कहा, ‘हमें चीजों को दुरुस्त करने में 15 दिन लगेंगे और ये बदलाव अग्रिम आरक्षण अवधि से लागू होंगे।’ कम सीटें भरने के कारण जिन रेलगाड़ियों से फ्लेक्सी किराया योजना को हटाया जाएगा, उनमें कालका-नई दिल्ली शताब्दी, हावड़ा-पुरी राजधानी, चेन्नै-मदुरै दुरंतो, गुवाहाटी-डिब्रूगढ़ शताब्दी और दिल्ली-बठिंडा शताब्दी शामिल है।

जिन ट्रेनों में कम मांग अवधि के दौरान फ्लेक्सी किराया लागू नहीं होगा, उनमें- अमृतसर शताब्दी, इंदौर दुरंतो, जयपुर दुरंतो, मुंबई दुरंतो, बिलासपुर राजधानी, काठगोदाम-आनंदविहार शताब्दी, रांची राजधानी शामिल हैं। बता दें कि, पूर्व रेलमंत्री सुरेश प्रभु के कार्यकाल में फ्लेक्सी फेयर सिस्टम राजधानी, शताब्दी और दुरंतों जैसी प्रीमियम ट्रेनों में लागू हुआ था। इनमें 44 राजधानी, 52 दुरंतो और 46 शताब्दी गाड़ियां शामिल थी। इसके तहत एक तय सीमा में सीटें बुक होने के बाद किराये में 10 फीसदी की बढ़ोतरी होती है। अधिकतम सीमा 50 फीसदी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App