ताज़ा खबर
 

PARLE और BRITANNIA के बिस्कुट होने वाले हैं महंगे, पैक भी छोटे करने की तैयारी!

रिपोर्ट के अनुसार पारले-जी ब्रांड के लिए मशहूर कंपनी पारले अपने प्रोडक्ट्स की कीमतों में 5-6 प्रतिशत तक बढ़ोतरी हो सकती है। वहीं दूसरी तरफ ब्रिटेनिया भी अपने चुनिंदा ब्रांड की कीमतों में 3 फीसदी की बढ़ोतरी कर सकती है।

britannia, parle, biscuit price hike, gst, rising raw ingredient prices, fmcg, parle to increase biscuit price, FMCG, business news, business news in hindi, india news, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindiसंशोधित कीमतों को मौजूदा वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही (जनवरी-मार्च) से लागू किया जा सकता है। (फाइल फोटो)

बिस्कुट बनाने वाली कंपनी पारले और ब्रिटानिया बिस्कुट के दाम बढ़ाने की तैयारी कर रही हैं। खबरों के अनुसार दोनों कंपनियां बिस्कुट के दामों में 6 फीसदी तक बढ़ोतरी कर सकती हैं। बताया जा रहा है कंपनियां अपने प्रोडक्ट के पैक भी छोटे कर सकती हैं।

हालांकि, बिस्कुल बनाने वाली दोनों कंपनियों ने बिस्कुट की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर अभी कोई अंतिम फैसला नहीं किया है। सीएनबीसी टीवी-18 की रिपोर्ट के अनुसार बिस्कुट के मूल्यों में बढ़ोतरी का निर्णय बिस्कुट बनाने में प्रयोग होने वाली सामग्री जैसे तेल, गेहूं का आटा और चीनी की कीमतों के आधार पर लिया जाएगा। खबर में अपुष्ट सुत्रों के हवाले से बताया गया है कि संशोधित कीमतों को मौजूदा वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही (जनवरी-मार्च) से लागू किया जा सकता है।

न्यूज चैनल की रिपोर्ट के अनुसार पारले-जी ब्रांड के लिए मशहूर कंपनी पारले अपने प्रोडक्ट्स की कीमतों में 5-6 प्रतिशत तक बढ़ोतरी हो सकती है। वहीं दूसरी तरफ ब्रिटेनिया भी अपने चुनिंदा ब्रांड की कीमतों में 3 फीसदी की बढ़ोतरी कर सकती है। पारले की तरफ से अपने प्रीमियम प्रोडक्ट्स के साथ ही स्टैंडर्ड बिस्कुट ब्रांड के दामों में बढ़ोतरी कर सकती है।

पारले की तरफ से स्टैंडर्ड ब्रांड के तहत ग्लूकोज, मारी और मिल्क बिस्कुट बेचा जाता है। वहीं कंपनी बर्बन, हाइड एंड सीक और मिलानों जैसे प्रीमियम प्रोडक्ट सेल करती है। ये एफएमसीजी कंपनियां 1 रुपये, 2 रुपये, 5 रुपये और 10 रुपये के पैक में अपने अधिक प्रोडक्ट को बेचती हैं।

फाइनेंसियल एक्सप्रेस के साथ इंटरव्यू के दौरान पारले प्रोडक्टस के सीनियर कैटेगरी हेड मयंक शाह ने कहा कि बिस्कुट बनाने वाली कंपनियां जीएसटी दर के अधिक होने के कारण लागत से तालमेल बिठाने का प्रयास कर रही हैं। मालूम हो कि प्रीमियम और स्टैंडर्ड कैटेगरी के प्रोडक्ट पर जीएसटी की दर अधिक है।

इससे पहले आर्थिक सुस्ती और जीएसटी की ऊंची दरों को देखते हुए कंपनी 10 हजार लोगों की छंटनी करने पर भी विचार कर रही थी। हालांकि, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की तरफ से कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती के बाद से कंपनी की कर देयता में कुछ राहत मिली है।

Next Stories
1 बड़ी मुश्किल में Karvy Stock Broking! क्लाइंट्स के दो हजार करोड़ के बकाए पर SEBI का बैन
2 Reliance JIO के आने से खस्‍ताहाल हुई Vodafone Idea, बिरला ने गंवाए 3 अरब डॉलर
3 Tata Sky के नए ग्राहकों के लिए खुशखबरी, फ्री में दे रहा Amazon Fire TV Stick, 4000 रुपये की होगी बचत!
ये पढ़ा क्या?
X