ताज़ा खबर
 

ASSOCHAM: देश के 93 फीसदी MBA ग्रेजुएट्स हैं लेकिन नौकरी के लायक हैं सिर्फ 7% स्टूडेंट्स

कॉलेजों में मोटी रकम के जरिए एमबीए ग्रेजुएट तैयार कर रहे ज्यादातर बिजनेस स्कूलों से बेरोजगारों और अर्द्ध-बेरोजगार पेशेवरों की खेप दर खेप निकल रही हैं।

Author नई दिल्ली | April 30, 2016 00:11 am
प्रतीकात्मक तस्वीर

कॉलेजों में मोटी रकम के जरिए एमबीए ग्रेजुएट तैयार कर रहे ज्यादातर बिजनेस स्कूलों से बेरोजगारों और अर्द्ध-बेरोजगार पेशेवरों की खेप दर खेप निकल रही हैं। उद्योग मण्डल एसोचैम के एक ताजा अध्ययन में किये गये महत्वपूर्ण सर्वेक्षण में यह चौंकाने वाला तथ्य सामने आया है।

एसोचैम की एजूकेशन कमेटी द्वारा कराये गये एक सर्वे के मुताबिक देश में चल रहे 5500 बिजनेस स्कूलों में से सरकार द्वारा संचालित भारतीय प्रबन्ध संस्थानों तथा कुछ मुटठी भर संस्थाओं को छोड़कर बाकी सभी इदारों से डिग्री लेकर निकलने वाले ज्यादातर छात्र-छात्राएं कहीं भी रोजगार पाने के लायक नहीं हैं। आलम यह है कि एमबीए की डिग्री रखने वाले बड़ी संख्या में लोग 10 हजार रुपए से कम की पगार पर नौकरी कर रहे हैं, जो अर्द्धबेरोजगारी की निशानी है। 93 फीसदी में से सिर्फ 7 फीसदी स्टूडेंट्स की नौकरी करने के लिए लाक हैं, बाकी सभी डिर्फ डिग्रीधारक हैं।

एसोचैम के राष्ट्रीय महासचिव अनुसार सर्वे में इन बिजनेस स्कूलों के स्तर में गिरावट पर चिंता जाहिर करते हुए बताया गया है कि उनमें से अनेक संस्थानों का समुचित नियमन भी नहीं हो रहा है और आईआईएम संस्थानों से निकलने वाले छात्र-छात्राओं को छोड़ दें तो बाकी स्कूलों और संस्थानों से पढ़कर निकलने वाले पेशेवरों में से केवल सात प्रतिशत छात्र-छात्राएं ही रोजगार देने योग्य बन पाते हैं।

सर्वेक्षण के मुताबिक पिछले दो वर्षों के दौरान दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, मुम्बई, कोलकाता, बेंगलूर, अहमदाबाद, लखनउ, हैदराबाद, देहरादून इत्यादि शहरों में करीब 220 बिजनेस स्कूल बंद हो चुके है। इसके अलावा कम से कम 120 ऐसे संस्थान इस साल बंद होने की कगार पर हैं। शिक्षा की निम्न गुणवत्ता और आर्थिक मंदी की वजह से वर्ष 2014 से 2016 के बीच कैम्पस रिक्रूटमेंट में भी 45 प्रतिशत तक की भारी गिरावट आयी है।

सर्वे में एमबीए के 2 साल के पाठयक्रम के लिए हर छात्र आमतौर पर तीन से पांच लाख रुपए खर्च करता है लेकिन शीर्ष 20 बिजनेस स्कूलों और संस्थानों को छोड़कर बाकी इदारों से पढ़कर निकलने वाले ज्यादातर पेशेवरों को मात्र आठ से 10 हजार रुपए प्रतिमाह के वेतन पर काम करना पड़ रहा है। रावत ने कहा कि भारत में बिजनेस क्षेत्र की उच्च शिक्षा की गुणवत्ता बेहद खराब है और वह कॉर्पोरेट जगत की जरूरतों को सामान्यत: पूरा नहीं कर पाती है।

उन्होंने कहा कि देश में हर साल 15 लाख इंजीनियरिंग ग्रेजुएट पढ़कर निकलते हैं और उनमें से 20 से 30 प्रतिशत को रोजगार नहीं मिलता। इसके अलावा बड़ी संख्या में इंजीनियर्स को उनकी अर्जित योग्यता के अनुरूप नौकरी नहीं मिल पाती।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App