ताज़ा खबर
 

रिपोर्ट: इन्फ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र के एक तिहाई प्रोजेक्ट तय समय से काफी पीछे, 20 फीसदी की बढ़ गई लागत, 3.89 लाख करोड़ का बढ़ा बोझ

मंत्रालय ने अगस्त 2019 के लिये जारी हालिया रिपोर्ट में कहा, ‘‘इन 1,634 परियोजनाओं के क्रियान्वयन की मूल लागत 19,40,699.03 करोड़ रुपये थी, जिसके बढ़कर 23,29,746.02 करोड़ रुपये पर पहुंच जाने का अनुमान है।

Author नई दिल्ली | Updated: December 8, 2019 4:02 PM
बुनियादी ढांचा क्षेत्र की 150 करोड़ रुपये या इससे अधिक की लागत वाली 373 परियोजनाओं की लागत तय समय से देरी तथा अन्य कारणों से 3.89 लाख करोड़ रुपये बढ़ गयी है। (फाइल फोटो)

बुनियादी ढांचा क्षेत्र की 150 करोड़ रुपये या इससे अधिक की लागत वाली 373 परियोजनाओं की लागत तय समय से देरी तथा अन्य कारणों से 3.89 लाख करोड़ रुपये बढ़ गयी है। सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय 150 करोड़ रुपये या इससे अधिक लागत की परियोजनाओं की निगरानी करता है। मंत्रालय ने एक रिपोर्ट में लागत बढ़ने की जानकारी दी है। मंत्रालय ने कहा कि इस तरह की 1,634 परियोजनाओं में से 552 परियोजनाएं देरी में चल रही हैं, जबकि 373 परियोजनाओं की लागत बढ़ी है।

मंत्रालय ने अगस्त 2019 के लिये जारी हालिया रिपोर्ट में कहा, ‘‘इन 1,634 परियोजनाओं के क्रियान्वयन की मूल लागत 19,40,699.03 करोड़ रुपये थी, जिसके बढ़कर 23,29,746.02 करोड़ रुपये पर पहुंच जाने का अनुमान है। इससे पता चलता है कि इनकी लागत मूल लागत की तुलना में 20.05 प्रतिशत यानी 3,89,046.99 करोड़ रुपये बढ़ी है।’’ रिपोर्ट के अनुसार, अगस्त तक इन परियोजनाओं पर 9,75,180.06 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं, जो कुल अनुमानित लागत का 41.85 प्रतिशत है। हालांकि मंत्रालय का कहना है कि यदि परियोजनाओं के पूरा होने की हालिया समयसीमा के हिसाब से देखें तो देरी से चल रही परियोजनाओं की संख्या कम होकर 489 पर आ जाएंगी।

मंत्रालय ने कहा कि देरी से चल रही 552 परियोजनाओं में 181 परियोजनाएं एक महीने से 12 महीने की, 128 परियोजनाएं 13 से 24 महीने की, 127 परियोजनाएं 25 से 60 महीने की तथा 116 परियोजनाएं 61 महीने या अधिक की देरी में चल रही हैं।
इन परियोजनाओं की देरी का औसत लगभग 38.89 महीने है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 RBI के पूर्व गवर्नर बोले- PMO ने सारी शक्ति अपने पास रखी, मंत्री के पास नहीं कोई पॉवर, इसलिए बढ़ी आर्थिक मंदी
2 ANIL AMBANI के लिए सिरदर्द बनी थी यह कंपनी, अब भ्रष्टाचार के आरोप में 1 अरब डॉलर भरेगी Ericsson
3 MUKESH AMBANI की अमीरी की रफ्तार कर देगी हैरान, बीते 9 महीने में हर दिन 2620 करोड़ रुपये बढ़ी नेटवर्थ
ये पढ़ा क्या?
X