ताज़ा खबर
 

दुबई में रहने वाला NRI भारत में 5 अरब डॉलर के निवेश को तैयार! जनसंघ से भी रहा है नाता

शेट्टी का कहना है कि हम दिल्ली, वाराणसी, हरिद्वार और बिहार (पटना के नजदीक) में अस्पताल खोलने की तैयारी में हैं। इन अस्पतालों के लिए जमीन या तो खरीदी जाएगी या फिर राज्य सरकार की तरफ से उपलब्ध कराई जाएगी।

शेट्टी यूएई की सबसे बड़ी प्राइवेट हेल्थकेयर कंपनी एनएमसी हेल्थ केयर के संस्थापक हैं। (फोटोःbrshetty.com)

एनआरआई अरबपति बीआर शेट्टी भारत में 5 अरब डॉलर के निवेश की तैयारी कर रहे है। कर्नाटक के उडुपी के रहने वाले शेट्टी शुरुआत में जनसंघ के पदाधिकारी रह चुके हैं। आगे चलकर यह जनसंघ भाजपा बन गई। शेट्टी की तरफ से स्थापित वेंचर कैपिटल फंड वीआरएस वेंचर के तहत यह बड़ी राशि निवेश की जाएगी।

यह निवेश हेल्थ सेक्टर में किया जाएगा। हेल्थकेयर चेन के तहत अगले पांच सालों में देशभर में सरकारी जिला व आम अस्पतालों का प्रबंधन भी शामिल है। बिजनेस टुडे की खबर के अनुसार शेट्टी का कहना है कि वह भारत में 5 अरब डॉलर की राशि निवेश करने के लिए तैयार है।

शेट्टी के अनुसार उन्हें राज्य सरकारों, गैर लाभकारी संगठनों, धार्मिक संगठनों व अन्य की तरफ से उच्च गुणवत्ता वाली हेल्थकेयर सुविधाएं स्थापित करने के अच्छे ऑफर मिले हैं। शेट्टी का कहना है कि हम दिल्ली, वाराणसी, हरिद्वार और बिहार (पटना के नजदीक) में अस्पताल खोलने की तैयारी में हैं। इन अस्पतालों के लिए जमीन या तो खरीदी जाएगी या फिर राज्य सरकार की तरफ से उपलब्ध कराई जाएगी।

शेट्टी ने कहा कि अपने गृहराज्य कर्नाटक के उडुपी में पहले से ही एक सरकारी अस्पताल के प्रबंधन का कामकाज देख रहे हैं। शेट्टी ने बताया कि उन्होंने एक 70 बिस्तर वाला सरकारी अस्पताल की देखरेख का जिम्मा लिया है। इस अस्पताल की क्षमता में विस्तार करते हुए इसे 200 बेड तक किया जाएगा। यह पूरी तरह से एसी अस्पताल होगा जहां इलाज पूरी तरह से मुफ्त होगा। भारत में इनका हेल्थकेयर कारोबार बीआर लाइफ ब्रांड के नाम से संचालित होता है।

हेल्थकेयर सेक्टर के लिए शेट्टी कोई नया नाम नहीं है। शेट्टी यूएई की सबसे बड़ी प्राइवेट हेल्थकेयर कंपनी एनएमसी हेल्थकेयर के संस्थापक हैं। पिछले 46 साल में एनएमसी हेल्थकेयर दुनियाभर के 17 देशों में स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करा रही है। शेट्टी 1972 में कर्नाटक से यूएई चले गए थे।

एनएमसी हेल्थ केयर के अंतर्गत वर्तमान में 2000 से अधिक डॉक्टर और 18000 से अधिक पैरामेडिकल स्टाफ काम करता है। शेट्टी का कहना है कि भारत में हेल्थकेयर सेक्टर में अपार संभावनाएं हैं। उनका कहना है कि वे भारत में शहरों के साथ ही ग्रामीण इलाकों तक स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाना चाहते हैं।

Next Stories
1 मंदी ने लिया खतरनाक रूप, इस सेक्टर में अगले 3 महीने में 5 लाख लोगों की नौकरियां जाने का खतरा!
2 मंदी की मार: ऑटो सेल्स में 2 दशक के सबसे बदतर हालात, डीलर्स के पास बची कारों पर मंडराया ‘कबाड़’ हो जाने का खतरा!
3 Maruti Suzuki की मांग, हाइब्रिड और CNG गाड़ियों पर छूट दे सरकार
ये पढ़ा क्या?
X