ताज़ा खबर
 

GST कलेक्‍शन घटा, पर अधिकारी बोले- एनुअल टारगेट पूरा कर लेंगे

पिछले हफ्ते जारी आधिकारिक आंकड़ों से पता चला है कि नवंबर में जीएसटी राजस्व संग्रह 97,637 करोड़ रुपये था, जबकि अक्टूबर में 1 लाख करोड़ रुपये अधिक जीएसटी राजस्व संग्रह हुआ था।

Author नई दिल्ली | December 5, 2018 10:37 AM
जीएसटी संग्रह घटा, नवंबर में 1 लाख करोड़ रुपये से कम

पिछले महीने जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) संग्रह में गिरावट दर्ज की गई। इसके बावजूद सरकार ने मंगलवार को कहा कि उसे भरोसा है कि चालू वित्तवर्ष का लक्ष्य हासिल कर लिया जाएगा। राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) की स्थापना दिवस के दौरान नवनियुक्त राजस्व सचिव अजय भूषण पांडे ने संवाददाताओं से बात में कहा कि हालांकि नवंबर में वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) संग्रह मासिक लक्ष्य से 4,000 करोड़ रुपये कम रहा है। उन्होंने हालांकि भरोसा जताया कि आनेवाले महीनों में इस कमी को दूर कर लिया जाएगा।

पिछले हफ्ते जारी आधिकारिक आंकड़ों से पता चला है कि नवंबर में जीएसटी राजस्व संग्रह 97,637 करोड़ रुपये था, जबकि अक्टूबर में 1 लाख करोड़ रुपये अधिक जीएसटी राजस्व संग्रह हुआ था। पांडे ने कहा, “इस महीने (नवंबर) में हम 4,000 करोड़ रुपये से कम हैं। किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए, हमारे पास कुछ और महीने का डेटा होना चाहिए। लेकिन हमें विश्वास है कि हम अपने लक्ष्य को हासिल करने में सक्षम होंगे।”

उन्होंने कहा, “हमारा मासिक लक्ष्य लगभग 1 लाख करोड़ रुपये है। हम इसे 1.10 लाख करोड़ रुपये तक बढ़ाना चाहते हैं। वित्तवर्ष 2018-19 के बजट में जीएसटी संग्रह 13.48 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान लगाया गया है। सचिव ने कहा कि राजस्व विभाग उन संस्थाओं के बारे में जानकारी इकट्ठा कर रहा है, जो कर नहीं चुका रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि नए सरलीकृत जीएसटी रिटर्न फॉर्म अगले साल 1 अप्रैल से जारी किए जाएंगे।

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत राजस्व संग्रह अक्टूबर में जहां 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक के स्तर पर पहुंच गया था। वहीं, नवंबर में इसमें गिरावट दर्ज की गई है और यह 97,637 करोड़ रुपये रहा है। नवंबर में जो राजस्व इकट्ठा किया है, वह अक्टूबर में हुए सौदों का है। अक्टूबर (सितंबर में हुए लेन-देन) में जीएसटी राजस्व संग्रह 1,00,710 करोड़ रुपये रहा था।

वित्त मंत्रालय ने कहा कि कुल 69.6 लाख जीएसटीआर-3बी रिटर्न्‍स 30 नवंबर तक दाखिल किए गए, जिसमें 16,812 करोड़ रुपये केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी), 23,070 करोड़ रुपये राज्य जीएसटी (एसजीएसटी), 49,726 करोड़ रुपये एकीकृत जीएसटी (आईजीएसटी) और 8,031 करोड़ रुपये सेस के तहत संग्रह किए गए।

वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “सरकार ने नियमित निपटान के रूप में आईजीएसटी से सीजीएसटी मद में 18,262 करोड़ रुपये और एसजीएसटी मद में 15,704 करोड़ रुपये का निपटान किया है। नवंबर 2018 में नियमित एवं अनंतिम निपटान के बाद केन्द्र सरकार और राज्य सरकारों द्वारा अर्जित किया गया कुल राजस्व सीजीएसटी के लिए 35,073 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के लिए 38,774 करोड़ रुपये है। बयान में कहा गया कि जीएसटी मुआवजे के रूप में अगस्त-सितंबर 2018 के लिए राज्यों को 11,922 करोड़ रुपये जारी किए गए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App