ताज़ा खबर
 

उमंग ऐप से कर सकते हैं प्रोविडेंट फंड या पीएफ खाते का निपटान

उमंग ऐप पर ईपीएफओ के ग्राहकों को तीन प्रकार की सेवाएं मिलती हैं, जिसमें पासबुक देखी जा सकती है और...।

Author Updated: June 17, 2018 7:10 AM
केंद्र सरकार द्वारा संचालित इस मोबाइल ऐप पर पीएफ का स्टेटस समय-समय पर चेक किया जा सकता है।

प्रोविडेंट फंड (पीएफ) निकालने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपके लिए खुशखबरी है। पीएफ का पैसा निकालना अब और आसान हो गया है। केंद्र सरकार द्वारा संचालित मोबाइल एप्लीकेशन की मदद से इसका निपटान किया जा और स्टेटस भी पता किया जा सकता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि कर्मचारी प्रोविडेंट फंड संगठन (ईपीएफओ) भी इस ऐप से जुड़ गया है। ऐप का नाम उमंग (UMANG: यूनीफाइड मोबाइल एप्लीकेशन फॉर न्यू एज गर्वनेंस) है, जिस पर 100 से अधिक सरकारी सेवाएं ऑनलाइन मुहैया होती हैं। इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय और राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस डिविजन के सहयोग से इसे तैयार किया गया है।

उमंग ऐप पर एपीएफओ के ग्राहकों को तीन प्रकार की सेवाएं मिलती हैं, जिसमें पासबुक देखी जा सकती है, पेंशन निकासी के लिए क्लेम किया जा सकता है और उसका निपटान भी कराया जा सकता है। इतना ही नहीं, जमा किए गए क्लेम का स्टेटस भी इस ऐप पर आसानी से चेक किया जा सकता है। इन सेवाओं का लाभ उठाने के लिए जरूरी है कि आपका आधार कार्ड ईपीएफ खाते से लिंक हो।

ऐप पर ईपीएफओ के सेक्शन में एक फीचर फिलहाल नहीं है, जिसमें एक ईपीएफ खाते से नए ईपीएफ खाते में पैसा ट्रांसफर कराने का विकल्प होता है। ईपीएफओ की गूगल प्ले स्टोर पर ‘एम ईपीएफ’ नाम से ऐप्लीकेशन भी थी, जिसमें पासबुक दिखती थी और बैलेंस चेक हो जाता था। ईपीएफओ के पहले ऑल इंडिया काउंसिल ऑफ टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई), नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेश्नल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (एनसीईआरटी) और प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (पीएमकेवीवाई) इससे जुड़ चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 दिखा शादी के मौसम का असर, सोने की कीमत में आई प्रति ग्राम 80 रुपए की तेजी
2 227 नहीं सिर्फ 50 वस्तुओं पर देना होगा 28% GST, फैसले से सालाना 20,000 करोड़ रुपए का होगा घाटा
3 HDFC बैंक ने बचत खाते को लेकर बदले नियम-कायदे, जानिए अब कितना रखना पड़ेगा न्यूनतम बैलेंस