ताज़ा खबर
 

कोरोना का अब रोजगार पर कहर, एयर इंडिया ने 200 कर्मचारियों के साथ अनुबंध को किया निलंबित

एयर इंडिया ने अपने कर्मचारियों के भत्तों में पहले ही कटौती का ऐलान कर दिया है। कंपनी ने अगले तीन महीनों के लिए केबिन क्रू मेंबर्स के अलावा अन्य सभी कर्मचारियों के भत्तों में अगले तीन महीनों तक के लिए 10 पर्सेंट की कटौती की है।

Author Edited By सूर्य प्रकाश नई दिल्ली | Updated: April 2, 2020 5:27 PM
एयर इंडिया

कोरोना वायरस के लॉकडाउन के चलते अब रोजगार पर संकट मंडराने लगा है। सरकारी एयरलाइन कंपनी एयर इंडिया ने पायलटों समेत 200 कर्मचारियों के साथ अपने करार को निलंबित कर दिया है। रिटायरमेंट के बाद नौकरी से जुड़े इन लोगों के साथ करार को अस्थायी तौर पर सस्पेंड किया गया है। इसका अर्थ यह है कि हालात सुधरने पर करार को एक बार फिर से शुरू किया जा सकता है। कर्ज में डूबी एयरलाइन कंपनी के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस की वजह से अंतरराष्ट्रीय और घरेलू उड़ानों को 14 अप्रैल तक स्थगित किए जाने के कारण यह स्थिति उत्पन्न हुई है।

बता दें कि एयर इंडिया ने अपने कर्मचारियों के भत्तों में पहले ही कटौती का ऐलान कर दिया है। कंपनी ने अगले तीन महीनों के लिए केबिन क्रू मेंबर्स के अलावा अन्य सभी कर्मचारियों के भत्तों में अगले तीन महीनों तक के लिए 10 पर्सेंट की कटौती की है। कंपनी का कहना है कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए हुए लॉकडाउन के चलते लगातार नुकसान बढ़ रहा है और ऐसे में खर्च में कटौती के लिए यह फैसला लेना पड़ा है।

एयर इंडिया के अलावा गोएयर, इंडिगो और स्पाइसजेट कंपनियां अपने कर्मचारियों की सैलरी में 30 पर्सेंट तक की कटौती कर चुकी हैं। 19 मार्च को इंडिगो के सीईओ ने रनंजय दत्ता ने अपने वेतन में 25 फीसदी कटौती की घोषणा की थी। कंपनी ने सीनियर वाइस प्रेसिडेंट और अन्य सीनियर अफसरों के वेतन में 20 फीसदी, कॉकपिट स्टाफ के वेतन में 15 फीसदी कटौती की है। इसके अलावा असिस्टेंट वाइस प्रेसिडेंट और केबिन क्रू का वेतन 10 फीसदी और बैंड सी के वेतन में 5 फीसदी की कटौती हुई। यही नहीं स्पाइसजेट ने भी बीते सप्ताह ही कर्मचारियों की सैलरी में 30 फीसदी तक की कटौती का ऐलान किया था।

3.8 करोड़ लोग हो सकते हैं बेरोजगार, सरकार से मदद की गुहार: गौरतलब है कि टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में कोरोना संकट के चलते 3.8 करोड़ लोगों की नौकरी पर संकट की आशंका है। फेडरेशन ऑफ एसोसिएशंस इन इंडियन टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी के अनुमान के मुताबिक इस वायरस के कारण हॉस्पिटैलिटी और टूरिज्म इंडस्ट्री में करीब 3.8 करोड़ लोग बेरोजगार हो सकते हैं जो इस सेक्टर के कुल कर्मचारियों का 70 फीसदी है।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सिर्फ 7 दिनों के लॉकडाउन से मार्च में 4 महीने के निचले लेवल पर मैन्युफैक्चरिंग, अप्रैल में क्या होगा?
2 COVID-19 India Tracker: इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेल