ताज़ा खबर
 

सस्ता होगा राजधानी एक्सप्रेस का सफ़र, 40 साल बाद रेलवे देने जा रहा खाना नहीं लेने की आजादी

राजधानी और शताब्‍दी ट्रेनों में रेलवे 15 जून से खाने को वै‍कल्पिक बनाने का ट्रायल शुरू करने जा रहा है। इसके तहत यात्री चाहें तो खाने के लिए मना कर सकते हैं और इसके लिए उन्‍हें पैसे भी नहीं देने होंगे।

राजधानी और शताब्‍दी ट्रेनों में रेलवे 15 जून से खाने को वै‍कल्पिक बनाने का ट्रायल शुरू करने जा रहा है।

राजधानी और शताब्‍दी ट्रेनों में रेलवे 15 जून से खाने को वै‍कल्पिक बनाने का ट्रायल शुरू करने जा रहा है। इसके तहत यात्री चाहें तो खाने के लिए मना कर सकते हैं और इसके लिए उन्‍हें पैसे भी नहीं देने होंगे। टिकट बुकिंग के दौरान खाने को लेकर यात्री मना कर सकते हैं। यह ट्रायल 45 दिनों का होगा। 4 दशक पहले जब राजधानी ट्रेन का संचालन शुरू हुआ था तब से इनमें खाने को अनिवार्य बनाया हुआ है।

नए नियमानुसार अगर यात्री खाना नहीं लेता है तो उसे पैसे नहीं देने होंगे। इसका मतलब किराए में लगभग 300 रुपये की कमी। रेलवे खाना सर्व करने के बदले कैटरिंग चार्ज लेता है। लंबी दूरी की ट्रेनों में कैटरिंग चार्ज ज्‍यादा होता है। यह रेट हर श्रेणी के लिए अलग-अलग होती है। 45 दिन का ट्रायल पटना राजधानी, दिल्‍ली-मुंबई अगस्‍त क्रांति राजधानी, पुणे-सिकंदराबाद शताब्‍दी और हावड़ा-पुरी शताब्‍दी में होगा। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि ट्रायल महज औपचारिकता भर है। खाना न लेने की सुविधा को यात्री हाथोंहाथ लेंगे। रेलवे में खाने की गुणवत्‍ता को लेकर सबसे ज्‍यादा शिकायतें होती हैं। पहले राजधानी में परोसा गया खाना इसकी विशेषता होता था लेकिन साल दर साल इसके बारे में शिकायतें बढ़ने लगी।

Read Alsoटिकट कंफर्म नहीं होने पर RAJDHANI EXPRESS के यात्रियों को मुफ्त AIR INDIA का टिकट

आईआरसीटीसी पोर्टल पर टिकट बुक कराने के दौरान पॉपअप आएगा। इसमें पूछा जाएगा कि क्‍या आप खाना छोड़ना चाहते हैं। हां चुनने पर टिकट की कीमत कम हो जाएगी। वहीं काउंटर पर टिकट बुक कराने पर यह जिम्‍मेदारी बुकिंग अधिकारी की होगी। अधिकारियों का कहना है कि यात्रियों के खाने के विकल्‍प को न चुनने से आईआरसीटी पर मौजूद र्इ-कैटरिंग और अन्‍य फोन सर्विसेज का उपयोग बढ़ेगा। इसके तहत थर्ड पार्टी वेंडर खाना सप्‍लाई करेंगे।

Read Alsoराजधानी और शताब्‍दी में लगेंगे दो इंजन, ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाने के लिए सुरेश प्रभु ने बनाया नया प्‍लान

वहीं एक बार खाना न चुनने का विकल्‍प चुनने पर निर्णय को बदला नहीं जा सकेगा। हालांकि यह प्रस्‍ताव रखा गया था कि यदि कोई यात्री यात्रा के दौरान अपना मन बदलता है तो उससे 20 प्रतिशत या इससे ज्‍यादा कैटरिंग चार्ज वसूला जाएगा। लेकिन बाद में इसे अंतिम दिशा-निर्देशों में शामिल नहीं किया गया।

Read Alsoट्रेनों में अब मिलेंगे रंगीन चादरें और तकिए के कवर, राजधानी एक्‍सप्रेस से होगी शुरुआत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App