ताज़ा खबर
 

सभी विमान यात्री नहीं भरेंगे सीमा शुल्क फार्म

भारत आने वाले विमान यात्रियों के पास यदि ऐसा सामान नहीं है जिस पर उन्हें सीमा शुल्क का भुगतान करना है तो उन्हें सीमा शुल्क घोषणापत्र भरने की जरूरत नहीं होगी।

Author नई दिल्ली | April 1, 2016 3:37 AM
(IGIA)

भारत आने वाले विमान यात्रियों के पास यदि ऐसा सामान नहीं है जिस पर उन्हें सीमा शुल्क का भुगतान करना है तो उन्हें सीमा शुल्क घोषणापत्र भरने की जरूरत नहीं होगी। यह व्यवस्था शुक्रवार से लागू हो जाएगी। एक अप्रैल 2016 से केवल उन्हीं हवाई यात्रियों को सीमा शुल्क घोषणा वाले फार्म भरना होगा जो अपने साथ प्रतिबंधित या शुल्क योग्य सामान ला रहे होंगे। इससे पहले देश में आने वाले सभी यात्रियों को यह फार्म भरना होता था।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2016-17 के आम बजट में इस नई पहल की घोषणा की है। इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर गुरुवार को सीमाशुल्क आयुक्त संजय मंगल ने कहा कि सीमा शुल्क के नए नियमों का उचित तरीके से पालन हो इसके लिए हर तरह की जरूरी व्यवस्था कर ली गई है। उन्होंने कहा कि सभी विमानन कंपनियों को लिखा गया है कि शुल्क योग्य सामान लाने वाले यात्रियों को ही सीमाशुल्क फार्म भरने की जरूरत है और वे इस फार्म को विमान में ही भर लें ताकि उन्हें विमान से उतरने के बाद कतार में न खड़े रहना पड़े। विदेशियों के लिए शुल्क मुक्त भत्ता भी एक अप्रैल से बढ़ाकर 15,000 रुपए कर दिया गया है जो फिलहाल 8,000 रुपए है। यात्रियों के लिए दो लीटर शराब या वाइन, 125 सिगरेट, 50 सिगार और 125 ग्राम तंबाकू के लिए शुल्क मुक्त भत्ता जारी रहेगा। भारतीय मूल के यात्रियों और चीन से आने वाले यात्रियों के लिए 6,000 रुपए की शुल्क मुक्त सीमा खत्म कर दी गई है। दूसरी तरफ नेपाल, भूटान और म्यांमा से आ रहे यात्रियों के लिए शुल्क मुक्त भत्ता दोगुना से बढ़ाकर 15,000 रुपए कर दिया गया है जो फिलहाल 6,000 रुपए है।

नए नियम के मुताबिक भत्ते में की गई बढ़ोतरी विमान यात्रा पर ही लागू होगी। थल सीमा से भारत आने वालों को किसी तरह के मुफ्त भत्ते नहीं मिलेंगे। नेपाल, भूटान और म्यांमा को छोड़ किसी भी विदेशी गंतव्य से आ रहे भारतीय मूल के यात्रियों के लिए मौद्रिक सीमा भी बढ़ाई गई है। अब ऐसे यात्री एक अप्रैल से 50,000 तक का शुल्क मुक्त सामान ला सकेंगे। फिलहाल यह सीमा 45,000 रुपए है। सोने की तस्करी पर लगाम लगाने के लिए सरकार ने एक साल से ज्यादा समय से विदेश में रह रहे भारतीय यात्रियों की ओर से सोने के जेवरात लाने की भी सीमा तय की है। नियम के मुताबिक, पुरुष यात्री अधिकतम 50,000 रुपए मूल्य के 20 ग्राम तक सोने के जेवरात ला सकते हैं जबकि महिला यात्री 40 ग्राम सोने के एक लाख रुपए मूल्य के जेवरात ला सकती हैं।

मौजूदा नियम के तहत पुरुष और महिला यात्रियों के लिए क्रमश: सिर्फ 50,000 रुपए और एक लाख रुपए तक की मौद्रिक सीमा रखी गई थी। भारतीय सीमा शुल्क खुलासा फार्म में संशोधन किया गया है ताकि प्रतिबंधित और शुल्क योग्य वस्तुओं की सूची में ड्रोन को शामिल किया जा सके। शुक्रवार यानी आज से यात्रियों के लिए इसका खुलासा करना अनिवार्य होगा। ड्रोन का उपयोग आम तौर पर सरकारी एजंसियां करती हैं। जिनका उपयोग सुरक्षाकर्मी कानून व्यवस्था बनाए रखने और देश की सीमा पर निगरानी के लिए करते हैं।

इनका उपयोग नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में निगरानी के लिए किया जाता है। सीमा शुल्क फार्म में फिलहाल शुल्क योग्य और प्रतिबंधित उत्पादों के बारे में जानकारी देनी होती है। इसके अलावा सोने के जेवरात सर्राफा (मुफ्त भत्ते के ऊपर), सैटेलाइट फोन, 5,000 डालर या इसके बराबर विदेशी मुद्रा नोट और 25,000 रुपए से अधिक भारतीय मुद्रा के बारे में भी जानकारी इसमें देनी होती है। यात्रियों को मौजूदा सीमाशुल्क फार्म में मांस, मांस उत्पाद, मछली, डेयरी व पोल्ट्री उत्पाद, बीज, पौधे, फल, फूल और पौधारोपण से जुड़ी अन्य सामग्रियों का उल्लेख करना होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App