ताज़ा खबर
 

ऑनलाइन रिटर्न के बाद नहीं भेजना होगा डाक से दस्तावेज़

ऑनलाइन रिटर्न दाखिल करने के मामले में करदाताओं को बड़ी राहत देते हुये केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने घोषणा की ऑनलाइन रिटर्न दाखिल करने के बाद डाक...

Author Updated: April 18, 2015 1:56 PM

ऑनलाइन रिटर्न दाखिल करने के मामले में करदाताओं को बड़ी राहत देते हुये केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने घोषणा की ऑनलाइन रिटर्न दाखिल करने के बाद डाक से प्राप्ति दस्तावेज नहीं भेजना होगा। इसकी वैधता का पता लगाने के लिये अब नया आधार नंबर आधारित इलेक्ट्रॉनिक पहचान कोड शुरू किया गया है।

सीबीडीटी ने निर्धारण वर्ष 2015-16 के आयकर रिटर्न फॉर्म (आईटीआर) में एक नया कॉलम जोड़ा है जिसमें ई-फाइलिंग करने वाले करदाता अपना आधार नंबर लिखेंगे जिसे विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर एकबारगी पासवर्ड (ओटीपी) के जरिये प्रमाणित किया जायेगा।

आयकर विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पीटीआई-भाषा से कहा, ई-रिटर्न की वैधता के लिये एक नया ‘इलेक्ट्रॉनिक सत्यापन कोड’ (ईवीसी) इसमें शामिल किया गया है। विभाग की वेबसाइट में ई-फाइलिंग लिंक पर जल्द ही यह सुविधा उपलब्ध होगी। ऑनलाइन रिटर्न दाखिल करने वालों को अब रिटर्न भरने के बाद आईटीआर-वी फॉर्म को दस्तावेज के रूप में विभाग के केन्द्रीय प्रसंस्करण केन्द्र (सीपीसी) को डाक से भेजने की आवश्यकता नहीं होगी। इस प्रकार इससे अब ई-फाइलिंग कार्य काफी सरल हो जायेगा।’’

अधिकारी ने इसकी प्रक्रिया समझाते हुये कहा, इसके तहत ई-फाइलिंग करने वाले को आईटीआर में अपना आधार नंबर पंजीकृत करना होगा। इसके बाद विशिष्ट पहचान प्राधिकरण के डाटाबेस से करदाता के पंजीकृत मोबाइल पर एकबारगी पासवर्ड (ओटीपी) भेजा जायेगा और उसके बाद इसे ई-फाइलिंग वेबसाइट पर प्रमाणित कर दिया जायेगा।

अधिकारी ने कहा आयकर विभाग सिस्टम निदेशालय, नेट बैंकिंग की पहचान को भी आयकर ई-फाइलिंग रिटर्न के सत्यापन का आधार बनाने की प्रक्रिया में भी है, यह काम भी जल्द होगा।

For Updates Check Hindi News; follow us on Facebook and Twitter

Next Stories
1 गोपनीय ब्योरे जाहिर करने पर विरोध जताया ब्रिटेन ने
2 आपके गुम हुए एंड्रायड फोन अब ढूंढ़ेगा Google
3 शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में गिरावट
कोरोना LIVE:
X