ताज़ा खबर
 

हर इस्तेमाल के बाद धुलेंगे ट्रेन के कंबल, बदबू से मिलेगी निजात

रेलवे ने ट्रेनों के कंबलों को हरेक इस्तेमाल के बाद साफ करने का निर्णय लिया है और इसके साथ ही इससे आने वाली दुर्गंध अब पुराने जमाने की बात हो जाएगी।
Author नई दिल्ली | March 14, 2016 01:46 am
(File Photo)

रेलवे ने ट्रेनों के कंबलों को हरेक इस्तेमाल के बाद साफ करने का निर्णय लिया है और इसके साथ ही इससे आने वाली दुर्गंध अब पुराने जमाने की बात हो जाएगी।

 योजना के अनुसार, इस समय इस्तेमाल किये जा रहे कंबलों की जगह रेलवे में पहली बार नरम कपड़े से बने नए डिजायन के हल्के कंबलों का इस्तेमाल किया जाएगा और प्रत्येक इस्तेमाल के बाद इसे धोया जाएगा। इस समय एक अंतराल के बाद कंबलों को धोया जाता है, महीने में एक या दो बार।

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘हम निफ्ट से कंबलों का डिजायन करवा रहे हैं जिसे हरेक इस्तेमाल के बाद साफ किया जाएगा और इसके बाद भी यह लंबे समय तक चल सकता है।’ राष्ट्रीय फैशन टेक्नोलॉजी संस्थान ने सूती कपड़ा और उन मिला कर कंबल के कपड़े का डिजायन किया है जिसे रोजाना धोया जा सकता है।

अधिकारी ने बताया, ‘जब से कंबलों के बारे में शिकायतें मिली हैं, हमने मसला सुलझाने का प्रयास किया। हमने निफ्ट के डिजाइन किए गए धोने योग्य कंबल को मंजूरी दी है। शुरू में धोने वाले कंबलों का इस्तेमाल कुछ चुनिंदा प्रमुख ट्रेनों में किया जाएगा और बाद में इसमें और ट्रेनों को शामिल किया जाएगा।’ रेलवे कई स्टेशनों पर कंबलों सहित चादरों के रोजाना धोने की जरूरत बढ़ने पर कपड़ा साफ करने के लिए अत्याधुनिक मशीने भी लगाएगी।

निफ्ट ना केवल कंबल का डिजाइन तैयार करेगी बल्कि चादरों को भी एक नये रंग संयोजन के साथ पुन: डिजाइन करेगी। ताकि चादर और तकिया कवर सभी नये अंदाज में नजर आए। उन्होंने बताया कि यात्री प्राथमिकताओं पर कराए गये एक सर्वेक्षण के मुताबिक, यात्री सफेद की तुलना में रंगीन चादर को तरजीह देते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.