ताज़ा खबर
 

Unitech ने खरीदारों का पैसा लौटाने में जताई लाचारी

संकट से जूझ रही रीयल एस्टेट कंपनी यूनिटेक ने सुप्रीम कोर्ट के सामने नोएडा और गुड़गांव में देरी से चल रही अपनी परियोजनाओं के खरीदारों को पैसा लौटाने में अक्षमता जाहिर की है।

Author नई दिल्ली | August 13, 2016 1:44 AM

संकट से जूझ रही रीयल एस्टेट कंपनी यूनिटेक ने सुप्रीम कोर्ट के सामने नोएडा और गुड़गांव में देरी से चल रही अपनी परियोजनाओं के खरीदारों को पैसा लौटाने में अक्षमता जाहिर की है। यूनिटेक की ओर से पेश वरिष्ठ वकील अभिषेक सिंघवी ने शुक्रवार को न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा व न्यायमूर्ति यूयू ललित की पीठ के सामने कहा कि हमारे पास पैसा नहीं है। अगर हमारे पास पैसा होता तो हम फ्लैट और बिल्डिंग बनाकर उन्हें दे देते।

जजों ने फिर भी सिंघवी को यही संकेत दिया कि कंपनी को निवेशकों का पैसा लौटाना होगा। पीठ ने रिफंड पाने के इच्छुक फ्लैट खरीदारों से यह ब्योरा देने को कहा है कि उन्हें बिल्डर से कितना पैसा लेना है। यूनिटेक की नोएडा की बरगुंडी व गुड़गांव की विस्टास परियोजना के कुछ फ्लैट खरीदारों के वकील ने पीठ से कहा कि वे अपना पैसा नहीं, बल्कि फ्लैट चाहते हैं। पीठ ने फ्लैट खरीदारों से 17 अगस्त तक इसका ब्योरा देने को कहा है।

एक अन्य बिल्डर पार्श्वनाथ डेवलपर्स ने पीठ से कहा कि उसने ग्रेटर नोएडा परियोजना के 70 खरीदारों को पैसा लौटाने की समयसारिणी तैयार कर ली है। यूनिटेक की नोएडा और गुड़गांव की आवासीय परियोजना के दो दर्जन से अधिक खरीदारों ने बिल्डर द्वारा उन्हें समय पर फ्लैट का आबंटन नहीं करने पर राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निपटान आयोग से संपर्क किया था। उपभोक्ता आयोग ने रीयल एस्टेट कंपनी से खरीदारों का पैसा ब्याज के साथ लौटाने को कहा था।

शीर्ष अदालत ने पिछले महीने कंपनी को अपनी रजिस्ट्री में पांच करोड़ रुपए का अंतरिम जुर्माना जमा करने का निर्देश दिया था। कंपनी ने सुप्रीम कोर्ट में उपभोक्ता आयोग के आदेश को चुनौती दी है। आयोग ने डेवलपर को बरगुंडी परियोजना के तीन खरीदारों को पांच करोड़ रुपए का जुर्माना अदा करने का निर्देश दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App