ताज़ा खबर
 

सितंबर की इस तारीख हो सकता कालेधन घोषाणा योजना का खुलासाः वित्त मंत्रालय

वित्त मंत्रालय ने कहा है कि जिन लोगों ने भ्रष्ट गतिविधियों के जरिए धन कमाया है वे घरेलू कालाधन खुलासा योजना का फायदा नहीं उठा सकेंगे।
Author नई दिल्ली | May 21, 2016 00:18 am
वित्तमंत्री अरुण जेटली

वित्त मंत्रालय ने कहा है कि जिन लोगों ने भ्रष्ट गतिविधियों के जरिए धन कमाया है वे घरेलू कालाधन खुलासा योजना का फायदा नहीं उठा सकेंगे। चार महीने की यह योजना एक जून से शुरू हो रही है और अघोषित आय रखने वाले इस योजना के तहत कर, जुर्माना व अधिभार चुकाकर ‘पाक साफ’ हो सकते हैं।

सरकार की आय घोषणा योजना के तहत लोग अपनी उस अघोषित आय का खुलासा कर सकते हैं जिन पर उन्होंने पहले कर का भुगतान नहीं किया। यह खुलासा 30 सितंबर तक किया जा सकता है जबकि उन्हें उचित बाजार मूल्य के हिसाब से अपनी संपत्ति पर कुल मिलाकर 45 प्रतिशत राशि का भुगतान 30 नवंबर तक करना होगा।

वित्त मंत्रालय ने आय घोषणा योजना को लेकर प्राय: पूछे जाने वाले सवालों (एफएक्यू) में यह जानकारी दी है। मंत्रालय ने घरेलू कालाधन घोषणा योजना के संबंध में 14 एफएक्यू को लेकर सूचना जारी की है। इसमें कहा गया है कि इस योजना के तहत दी जानी वाली जानकारी गोपनीय रहेगी और करदाता के खिलाफ इसका इस्तेमाल आयकर कानून या संपत्ति कर (अब समाप्त) के तहत नहीं किया जाएगा।

इसमें कहा गया है कि घोषणाकर्ता अगर भविष्य में इस तरह की आस्तियों को बेचता है तो उसे पूंजीगत लाभ कर चुकाना होगा। एक सवाल कि क्या कोई व्यक्ति भ्रष्टाचार के जरिए कमाए गए धन से अर्जित अघोषित आय का खुालासा कर सकता है के जवाब में एफएक्यू में कहा गया है-‘नहीं’।

यह योजना भ्रष्टाचार निरोधक कानून 1988 के तहत दंडनीय अपराध के किसी अभियोजन के संबंध में लागू नहीं होगी। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) द्वारा जारी परिपत्र के अनुसार अगर घोषणा करने वाला कर, अधिभार व जुर्माने की सारी राशि का भुगतान तय अवधि (नवंबर 2016) तक नहीं करता है तो घोषणा रद्द हो जाएगी।

वित्त मंत्रालय ने कहा है कि जिन लोगों ने भ्रष्ट गतिविधियों के जरिए धन कमाया है वे घरेलू कालाधन खुलासा योजना का फायदा नहीं उठा सकेंगे। चार महीने की यह योजना एक जून से शुरू हो रही है और अघोषित आय रखने वाले इस योजना के तहत कर, जुर्माना व अधिभार चुकाकर ‘पाक साफ’ हो सकते हैं।

सरकार की आय घोषणा योजना के तहत लोग अपनी उस अघोषित आय का खुलासा कर सकते हैं जिन पर उन्होंने पहले कर का भुगतान नहीं किया। यह खुलासा 30 सितंबर तक किया जा सकता है जबकि उन्हें उचित बाजार मूल्य के हिसाब से अपनी संपत्ति पर कुल मिलाकर 45 प्रतिशत राशि का भुगतान 30 नवंबर तक करना होगा।

वित्त मंत्रालय ने आय घोषणा योजना को लेकर प्राय: पूछे जाने वाले सवालों (एफएक्यू) में यह जानकारी दी है। मंत्रालय ने घरेलू कालाधन घोषणा योजना के संबंध में 14 एफएक्यू को लेकर सूचना जारी की है। इसमें कहा गया है कि इस योजना के तहत दी जानी वाली जानकारी गोपनीय रहेगी और करदाता के खिलाफ इसका इस्तेमाल आयकर कानून या संपत्ति कर (अब समाप्त) के तहत नहीं किया जाएगा।

इसमें कहा गया है कि घोषणाकर्ता अगर भविष्य में इस तरह की आस्तियों को बेचता है तो उसे पूंजीगत लाभ कर चुकाना होगा। एक सवाल कि क्या कोई व्यक्ति भ्रष्टाचार के जरिए कमाए गए धन से अर्जित अघोषित आय का खुालासा कर सकता है के जवाब में एफएक्यू में कहा गया है-‘नहीं’।

यह योजना भ्रष्टाचार निरोधक कानून 1988 के तहत दंडनीय अपराध के किसी अभियोजन के संबंध में लागू नहीं होगी। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) द्वारा जारी परिपत्र के अनुसार अगर घोषणा करने वाला कर, अधिभार व जुर्माने की सारी राशि का भुगतान तय अवधि (नवंबर 2016) तक नहीं करता है तो घोषणा रद्द हो जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.