ताज़ा खबर
 

नीतीश ने रेल बजट को बताया निराशाजनक, लालू बोले- पटरी से उतर गई है रेल

नीतीश ने कहा कि एक बात विचित्र लगी कि ट्रेनों में सुविधाओं के बारे में कुछ स्पष्ट नहीं किया गया है।

Author पटना | Updated: February 26, 2016 2:36 AM
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद (बाएं) और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (दाएं)। (फाइल फोटो)

बिहार के मुख्यमंत्री और पूर्व रेल मंत्री नीतीश कुमार ने रेल बजट को ‘निराशाजनक’ बताते हुए कहा कि इसमें स्वच्छता, सुरक्षा और ट्रेनों के नियत समय पर चलने को लेकर कोई भी कारगर बात नहीं कही गई है। रेल बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए नीतीश ने कहा कि ट्रेनों का समय पर चलना, सफाई पर ध्यान देना, ये सब अब प्राथमिकता का विषय नहीं रहा है।

नीतीश ने कहा कि एक बात विचित्र लगी कि ट्रेनों में सुविधाओं के बारे में कुछ स्पष्ट नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि जब वे रेल मंत्री थे तो जन साधारण एक्सप्रेस ट्रेन चलाई गई थी और वह पहली ऐसी ट्रेन थी, जिसमें सारे डिब्बे अनारक्षित थे और पहली बार अनारक्षित डिब्बों को एक-दूसरे से जोड़ा गया था। उसमें कई तरह के सुरक्षा के उपाय किए गए थे और यात्रियों की सुविधा का खयाल रखा गया था।

नीतीश ने कहा कि वे नहीं जानते कि जो जन साधारण एक्सप्रेस ट्रेन है, उसे और बेहतर बनाने के बजाय एक नया नाम देकर चलाए जाने की क्या जरूरत है। उन्होंने कहा कि रेलवे के विकास के दृष्टिकोण से देखा जाए तो किसी भी क्षेत्र में कोई आशा की किरण दिखाई नहीं पड़ती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यात्रियों के हितों के दृष्टिकोण से देखा जाए तो उसमें कोई सुधार के लक्षण नहीं दिख रहे हैं। किसी भी नई परियोजना के लिए इनकी कोई योजना नहीं है। रेलवे केंद्र सरकार चलाती है और इसे उसे चलाते रहना चाहिए। क्योंकि यह राष्ट्रीय एकता का प्रतीक है। ऐसे में रेलवे के विकास और उसके तंत्र को सुदृढ़ करने के लिए केंद्र को और धन लगाना चाहिए। नीतीश ने केंद्र में विचित्र स्थिति होने का आरोप लगाते हुए कहा कि वे न तो पैसा जुटा पा रहे हैं और न ही खर्च कर पा रहे हैं।

पटरी से उतर गई है रेल : लालू

पूर्व रेल मंत्री और राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने रेल बजट को आम आदमी के लिए सिर्फ धोखा करार देते हुए आरोप लगाया कि भारतीय रेल पूरी तरह से पटरी से उतर गई है। लालू ने यहां पत्रकारों से कहा- भारतीय रेल पूरी तरह से पटरी से उतर गई है। भाजपा ने इसे पूरी तरह से खत्म कर दिया है। उन्होंने कहा कि यह रेल बजट आम आदमी के लिए बस एक धोखा मात्र है। पूर्व रेल मंत्री ने कहा कि देश में फिलहाल बुलेट ट्रेन नहीं, बल्कि मालगाड़ी पर ध्यान देने की जरूरत है।

उन्होंने आरोप लगाया कि यह बुलेट ट्रेन भी तो बस एक बहाना है, जबकि असलियत में रेलवे को निजी क्षेत्र में धकेल रहे हैं। रेल मंत्री के रूप में अपने कार्यकाल का जिक्र करते हुए लालू ने कहा कि उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान रेलवे को लाभ तक पहुंचाया था।

जबकि अभी स्थिति यह है कि रेल विभाग अपना खुद का खर्च भी उठाने के लायक नहीं बच पाया है। ऐसे में यह यात्रियों को अच्छी सुविधाएं कैसे देगा जो कि एक बड़ा सवाल है। उन्होंने कर्मचारियों की छटनी पर भी चिंता जताई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories