ताज़ा खबर
 

गडकरी अमेरिका की यात्रा पर, अरबों डॉलर के एफडीआई पर नजर

अधिकारियों ने बताया कि यात्रा के दौरान गडकरी अमेरिका के परिवहन मंत्री एंथनी फॉक्स से 11 जुलाई को द्विपक्षीय बातचीत करेंगे।
Author वॉशिंगटन | July 9, 2016 15:20 pm
केंद्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी। (FILE PHOTO)

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी शुक्रवार (8 जुलाई) को यहां एक सप्ताह की अमेरिका की यात्रा पर आएंगे। उनकी यात्रा का लक्ष्य भारत के महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा क्षेत्र में अरबों डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी आकर्षित करना और अमेरिका के साथ द्विपक्षीय संबंधों को गति देना है। केंद्रीय मंत्री के तौर पर अपनी पहली अमेरिका यात्रा में गडकरी वाशिंगटन से लेकर लॉस एंजिलिस की यात्रा करेंगे। इस बीच वह न्यूयॉर्क, सेंट लुईस और सैन फ्रांसिस्को भी जाएंगे।

अधिकारियों ने बताया कि यात्रा के दौरान गडकरी अमेरिका के परिवहन मंत्री एंथनी फॉक्स से 11 जुलाई को द्विपक्षीय बातचीत करेंगे। इस बैठक का उद्देश्य बुनियादी ढांचा क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग को बढ़ाना एवं भारत-अमेरिका के संबंधों का विस्तार करते हुए उन्हें और मजबूत बनाना है। अमेरिका के परिवहन विभाग में गडकरी यहां संघीय राजमार्ग प्रशासन, अमेरिकी नौसेना प्रशासन और राष्ट्रीय राजमार्ग यातायात सुरक्षा प्रशासन के आदर्श नमूनों को भी देखेंगे।

अपनी यात्रा के दौरान गडकरी वाशिंगटन स्थित एक शोध समूह अटलांटिक काउंसिल द्वारा भारत के बुनियादी ढांचे पर आयोजित एक वार्ता में भी हिस्सा लेंगे। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के साथ आने वाला प्रतिनिधि मंडल यहां अमेरिका-भारत व्यापार परिषद द्वारा आयोजित एक गोलमेज सम्मेलन में बंदरगाह आधारित विकास, अंतर्देशीय जलमार्ग विकास और राजमार्ग निर्माण, मालवहन इत्यादि पर प्रस्तुतियां देंगे। एक अधिकारी ने बताया, ‘गडकरी (इस यात्रा का) का मुख्य लक्ष्य बेहतर राजमार्ग विकास, सड़क इंजीनियरिंग, सड़क सुरक्षा एवं ऑटोमोबाइल क्षेत्र के लिए हरित ईंधन का विकास, इलैक्ट्रिक वाहन का विकास इत्यादि क्षेत्रों में नवोन्मेषी तकनीकों के लिए भारत और अमेरिका के बीच सहयोग की संभावनाएं तलाशना है।’

अधिकारी ने बताया कि अमेरिका के प्रमुख कारोबारियों, उद्योगों और जल परिवहन क्षेत्र के शीर्ष लोगों के साथ बातचीत के दौरान गडकरी उन्हें भारत के नौवहन क्षेत्र में निवेश अवसरों से भी अवगत कराएंगे। वह भारत में बंदरगाह निर्माण, बंदरगाह आधारित औद्योगिकीकरण, अपतटीय आर्थिक क्षेत्र, मौजूदा बंदरगाहों पर नए टर्मिनलों के निर्माण, पूंजी और गाद के रखरखाव, मशीनीकरण, दूरदराज के इलाकों से संपर्क और बचाव ढांचा, जहाज निर्माण, जहाज मरम्मत और जहाज पुन:चक्रण इत्यादि क्षेत्रों में अमेरिकी निवेशकों से निवेश करने के लिए कहेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App