Yes Bank crisis: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बोलीं, ग्राहकों का एक-एक रुपया मिलेगा, यूपीए पर फोड़ा बैंकिंग सेक्टर की दुर्दशा का ठीकरा

Nirmala Sitharaman on Yes Bank: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यूपीए सरकार को बैंकिंग सेक्टर के खस्ताहाल होने के लिए जिम्मेदार ठहराया। निर्मला ने कहा कि विपक्ष के यही लोग जब सत्ता में थे तो कुछ नहीं किया और अब सरकार से उन सवालों के जवाब मांग रहे हैं, जिन्हें उन्होंने नहीं सुना।

nirmala sitharaman
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

Nirmala Sitharaman on Yes Bank: यस बैंक के बोर्ड को भंग करने और आरबीआई की ओर से नियंत्रण में लिए जाने के बाद पैदा हुए हालात को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बैंक कस्टमर्स को भरोसा दिलाया है कि उनका एक पैसा भी नहीं डूबेगा। Yes Bank में पैदा हुए संकट के बाद पहली बार मीडिया से बात करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि रिजर्व बैंक की ओर से रिकवरी के प्रयास जारी हैं और विशेषज्ञ डॉक्टरों को इलाज के लिए बिठाया गया है। यही नहीं यस बैंक के डूबने को लेकर विपक्ष के हमलों पर भी उन्होंने पलटवार किया। निर्मला सीतारमण ने कहा कि हम पूरी तरह से यस बैंक को उबारने में जुटे हैं और इस बैंक में पैदा हुई समस्याएं यूपीए के दौर की ही हैं।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यूनाइटेड वेस्टर्न बैंक के संकट में फंसने का उदाहरण देते हुए कहा कि 2006 में यह वाकया हुआ था और सभी ग्राहकों का एक-एक रुपया वापस मिला था। उन्होंने कहा कि यूबीआई पर भी आरबीआई ने नियंत्रण स्थापित किया था और उसके आईडीबीआई में विलय हुआ था। उन्होंने कहा कि यह कोशिश भी कुछ उसी तरह की है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यूपीए सरकार को बैंकिंग सेक्टर के खस्ताहाल होने के लिए जिम्मेदार ठहराया। निर्मला ने कहा कि विपक्ष के यही लोग जब सत्ता में थे तो कुछ नहीं किया और अब सरकार से उन सवालों के जवाब मांग रहे हैं, जिन्हें उन्होंने नहीं सुना।

निर्मला ने कहा कि हम बैंकिंग सेक्टर को मजबूत करने के लिए हर कदम उठाएंगे। सभी निवेशकों का एक-एक रुपया सुरक्षित है। हम निवेशकों और अर्थव्यवस्था के हित में हर कदम उठाएंगे। गौरतलब है कि यस बैंक के संकट में घिरने को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने सरकार पर तीखा हमला बोला था। राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा था कि भारतीय अर्थव्यवस्था को यस बैंक ने नहीं बल्कि मोदी और उनके विचारों ने बर्बाद किया है।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट